GK MCQ | Indian polity

A proclamation of emergency caused by war or external aggression must be approved by both the Houses of Parliament within / युद्ध या बाहरी आक्रमण के कारण आपातकाल की उद्घोषणा को संसद के दोनों सदनों द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए

A proclamation of emergency caused by war or external aggression must be approved by both the Houses of Parliament within / युद्ध या बाहरी आक्रमण के कारण आपातकाल की उद्घोषणा को संसद के दोनों सदनों द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए

(1) 15 days / 15 दिन
(2) 1 months / 1 महीने
(3) 2 months / 2 महीने
(4) 3 months / 3 महीने

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 21.05.2000)

Answer / उत्तर : – 

(2) 1 months / 1 महीने

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

National emergency is caused by war, external aggression or armed rebellion in the whole of India or a part of its territory. The President can declare such an emergency only on the basis of a written request by the Council of Ministers headed by the Prime Minister. Such a proclamation must be approved by the Parliament within one month. Such an emergency can be imposed for six months. It can be extended by six months by repeated parliamentary approval. / राष्ट्रीय आपातकाल पूरे भारत या उसके क्षेत्र के एक हिस्से में युद्ध, बाहरी आक्रमण या सशस्त्र विद्रोह के कारण होता है। राष्ट्रपति ऐसी आपात स्थिति की घोषणा प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रिपरिषद के लिखित अनुरोध के आधार पर ही कर सकते हैं। ऐसी घोषणा को एक महीने के भीतर संसद द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए। ऐसी आपात स्थिति छह महीने के लिए लगाई जा सकती है। बार-बार संसदीय अनुमोदन से इसे छह महीने के लिए बढ़ाया जा सकता है।

Similar Posts

Leave a Reply