GK MCQ | Indian polity

Can a person who is not a Member of Parliament be appointed as a minister’? / क्या कोई व्यक्ति जो संसद सदस्य नहीं है, उसे मंत्री के रूप में नियुक्त किया जा सकता है’?

Can a person who is not a Member of Parliament be appointed as a minister’? / क्या कोई व्यक्ति जो संसद सदस्य नहीं है, उसे मंत्री के रूप में नियुक्त किया जा सकता है’?

(1) No / नहीं
(2) Yes / हाँ
(3) Yes, provided the Parliament approves of such an appointment. / हाँ, बशर्ते संसद ऐसी नियुक्ति को मंजूरी दे।
(4) Yes, But he has to become a Member of Parliament within six months of his appointment. / हां, लेकिन उन्हें अपनी नियुक्ति के छह महीने के भीतर संसद सदस्य बनना होगा।

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 13.05.2001)

Answer / उत्तर : – 

(4) Yes, But he has to become a Member of Parliament within six months of his appointment. / हां, लेकिन उन्हें अपनी नियुक्ति के छह महीने के भीतर संसद सदस्य बनना होगा।

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

Generally, Ministers are appointed from the legislature. But, an exception to this rule is carved out by the Constitution itself. The combined effect of Articles 75(5) and 88 is that a person not being a Member of either House of Parliament can be a Minister only up to a period of 6 months before which he has to get elected. / आम तौर पर मंत्रियों की नियुक्ति विधायिका से होती है। लेकिन, इस नियम का अपवाद संविधान द्वारा ही तैयार किया गया है। अनुच्छेद 75(5) और 88 का संयुक्त प्रभाव यह है कि जो व्यक्ति संसद के किसी भी सदन का सदस्य नहीं है, वह केवल 6 महीने की अवधि तक मंत्री हो सकता है, जिसके पहले उसे निर्वाचित होना होता है।

Similar Posts

Leave a Reply