GK MCQ | physics | Science

In the process of magnetisation of a bar / एक दंड के चुम्बकत्व की प्रक्रिया में

In the process of magnetisation of a bar / एक दंड के चुम्बकत्व की प्रक्रिया में

 

(1) The entire bulk of the bar gets magnetised / बार का पूरा बल्क चुम्बकित हो जाता है
(2) Only the surface of the bar gets magnetised / केवल छड़ की सतह ही चुम्बकित हो जाती है
(3) Only the ends of the bar get magnetised / केवल छड़ के सिरे ही चुम्बकित हो जाते हैं
(4) Only some parts of the outer layers of the bar get magnetised / बार की बाहरी परतों के केवल कुछ हिस्से ही चुम्बकित हो जाते हैं

( SSC Section Officer (Audit) Exam. 30.11.2008 )

 

Answer / उत्तर :-

(1) The entire bulk of the bar gets magnetised / बार का पूरा बल्क चुम्बकित हो जाता है

 

n the process of magnetisation of a bar

Explanation / व्याख्या :-

 

In classical electromagnetism, magnetization or magnetic polarization is the vector field that expresses the density of permanent or induced magnetic dipole moments in a magnetic material. The origin of the magnetic moments responsible for magnetization can be either microscopic electric currents resulting from the motion of electrons in atoms, or the spin of the electrons or the nuclei. In the process of magnetization of a bar, the entire bulk of the bar gets magnetized. The magnetization of a material is done by electric current. By the process of magnetization, the formed pieces develop North polarity on one end or side and South polarity on the other end or side, in a very short period of time./शास्त्रीय विद्युत चुंबकत्व में, चुंबकीयकरण या चुंबकीय ध्रुवीकरण एक वेक्टर क्षेत्र है जो चुंबकीय सामग्री में स्थायी या प्रेरित चुंबकीय द्विध्रुवीय क्षणों के घनत्व को व्यक्त करता है। चुंबकीयकरण के लिए जिम्मेदार चुंबकीय क्षणों की उत्पत्ति या तो सूक्ष्म विद्युत धाराएं हो सकती हैं जो परमाणुओं में इलेक्ट्रॉनों की गति से उत्पन्न होती हैं, या इलेक्ट्रॉनों या नाभिक के स्पिन से होती हैं। एक छड़ के चुम्बकत्व की प्रक्रिया में, छड़ का पूरा बल्क चुम्बकित हो जाता है। किसी पदार्थ का चुंबकीयकरण विद्युत धारा द्वारा किया जाता है। चुंबकीयकरण की प्रक्रिया से, गठित टुकड़े बहुत कम समय में एक छोर या तरफ उत्तरी ध्रुवता और दूसरे छोर या तरफ दक्षिण ध्रुवता विकसित करते हैं।

Similar Posts

Leave a Reply