| |

Jog falls in Karnataka is located over which river? / कर्नाटक में जोग फॉल्स किस नदी पर स्थित है?

Jog falls in Karnataka is located over which river? / कर्नाटक में जोग फॉल्स किस नदी पर स्थित है?

 

(1) Kaveri / कावेरी
(2) Godavari / गोदावरी
(3) Saraswati / सरस्वती
(4) Krishna / कृष्ण

(SSC CGL Tier-I (CBE) Exam. 10.09.2016)

Answer / उत्तर : – 

(3) Saraswati / सरस्वती

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

 

Jog Falls is created by the Sharavathi River dropping 253 m (830 ft), making it the second-highest plunge waterfall in India after the Nohkalikai Falls with a drop of 335 m (1100 ft) in Meghalaya. It is located near Sagara taluk, Shimoga district, Karnataka.

Jog Falls is on the Sharavati River in Karnataka. It is made up of four small waterfalls – Raja, Rocket, Rorer and Rani. Its water falls from a height of 253 meters and presents a beautiful view. Another name for this is Gersappa.
Gersappa is situated 95 km from the main center of Shivamogga district on the border of Karnataka and Maharashtra states. There is a motor road from Shivamogga to the falls, which goes through picturesque forests. There are four rest houses on the way.

There are four falls here. These falls are formed due to the fall of a river named Shiravati. In the first waterfall, which is called Raja, the water falls from a height of 829 feet into a 132 feet deep pool. Viewers can peek into this abyssal crater from above. In the second fall, the rapid flow of frothy water through a winding path reaches a cavity, from where it falls into the erosion of the Raja Falls. The third fall is somewhat south. From it the stream of water flows continuously in the form of foam, jerking, and like a fireball of a firework, it scatters in colorful bright dots and falls down. There is also a sequence of tape-like water sheets of the South Fourth Falls, which fall below the sloping surface of the rock. The most beautiful view of this falls is visible from Karnataka side. The way to reach where the water falls is difficult, but without reaching there one cannot fully enjoy the beauty of the waterfall.

During the summer, the water of this falls becomes weak and due to the excess of water in the rain, the entire area of ​​the pit remains covered with thick impenetrable fog. Large hydroelectric power generation plants have been set up at this place by both the states of Maharashtra and Karnataka.

जोग जलप्रपात 253 मीटर (830 फीट) गिरने वाली शरवती नदी द्वारा बनाया गया है, जो मेघालय में 335 मीटर (1100 फीट) की एक बूंद के साथ नोहकलिकाई फॉल्स के बाद भारत में दूसरा सबसे ऊंचा डुबकी वाला झरना बनाता है। यह सागर तालुक, शिमोगा जिले, कर्नाटक के पास स्थित है।

जोग प्रपात कर्नाटक में शरावती नदी पर है। यह चार छोटे-छोटे प्रपातों – राजा, राकेट, रोरर और रानी – से मिलकर बना है। इसका जल 253 मीटर की ऊँचाई से गिरकर बड़ा सुन्दर दृश्य उपस्थित करता है। इसका एक अन्य नाम जेरसप्पा भी है।
गेरसप्पा कर्नाटक तथा महाराष्ट्र राज्यों की सीमा पर शिवमोगा जिले के प्रधान केंद्र से ९५ किमी दूर स्थित है। शिवमोगा से प्रपात तक मोटर मार्ग है, जो मनोरम जंगलों से होकर गया है। रास्ते में चार विश्रामगृह है।

यहाँ चार प्रपात हैं। ये प्रपात शिरावती नामक नदी के ऊँचाई से गिरने के कारण बनते हैं। प्रथम प्रपात मे, जिसे राजा कहते हें, जल ८२९ फुट की ऊँचाई से १३२ फुट गहरे कुंड में गिरता है। दर्शक ऊपर से इस अतल गड्ढ़े में देख सकते हैं। द्वितीय प्रपात में फेनिल जल का तीव्र प्रवाह घुमावदार मार्ग से होता हुआ एक गुहा में पहुँचता है, जहाँ से वह राजा प्रपात के कटाव में गिर जाता है। तीसरा प्रपात कुछ दक्षिण हटकर है। इसमें से जल की धारा फेन के रूप में, झटके से, निरंतर निकलती रहती है और आतिशबाजी के अग्निबाण की भाँति रंग-बिरंगे चमकीले बिंदुओं में बिखरकर नीचे गिरती है। इसके भी दक्षिण चतुर्थ प्रपात की फीते समान पानी की चादरों का क्रम है, जो शिला की ढालवाँ सतह से नीचे गिरती हैं। इस प्रपात का सबसे सुंदर दृश्य कर्नाटक की ओर से दिखाई पड़ता है। जहाँ पानी गिरता है वहाँ तक पहुँचने का मार्ग कठिन है, किंतु वहाँ तक पहुँचे बिना प्रपात की शोभा का पूरा आनंद नहीं मिल सकता।

गरमी के दिनों में इस प्रपात का जल क्षीण हो जाता है और वर्षा में जल की अधिकता के कारण गढ्ढे का समस्त क्षेत्र घने अभेद्य कुहरे से ढका रहता है। इस स्थान पर महाराष्ट्र तथा कर्नाटक दोनों राज्यों द्वारा जलशक्ति से विद्युत उत्पादन के बड़े बड़े संयंत्र स्थापित किए गए हैं।

Similar Posts

Leave a Reply