Geography | GK | GK MCQ

Khasi and Garo Tribes mainly live in : / खासी और गारो जनजाति मुख्य रूप से निवास करती है :

Khasi and Garo Tribes mainly live in : / खासी और गारो जनजाति मुख्य रूप से निवास करती है :

 

(1) Meghalaya / मेघालय
(2) Nagaland / नागालैंड
(3) Mizoram / मिजोरम
(4) Manipur / मणिपुर

(SSC Combined Graduate Level Prelim Exam. 04.07.1999)

Answer / उत्तर : –

(1) Meghalaya / मेघालय

 

Solved] खासी और गारो जनजाति मुख्य रूप से _____ में रहती है

 

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

Meghalaya, one of the seven sister states of North East India, is inhabited largely by tribes. After Khasi, Garo comprise the largest population of tribes in Meghalaya. Most of these tribes habitat in Garo hills of Meghalaya, as the name depicts itself. Other than Meghalaya a sizeable population of these tribes can also be found in other states like Assam, Tripura, West Bengal and Bangladesh.

The Garo Khasi and Jaintia hills were formed in the same era as the Malwa plateau. The Garo, Khasi and Jaintia hills are located in Meghalaya. The hills are specifically named after the tribes found in that area.

The Garo, Khasi, Jaintia Tribes of Meghalaya have matriarchal societies. The specialty of these societies is that here the youngest daughter of the family takes care of her parents and she gets all their property. The boy who marries the younger daughter of the family stays at the girl’s house. Here the lineage runs from the mother’s name (surname). Women take most of the major family decisions. This was stated by a group of youths from Meghalaya in the North-East Youth Exchange Program at Nehru Yuva Kendra, Udaipur in Agrawal Dharamshala. Onika Dhar of Meghalaya told that the beautiful orchid flowers blooming in the forests here are world famous but they never pluck these flowers. Due to the rich biodiversity, there are many medicinal plants here. Cherrapunji of Meghalaya is a famous tourist center which receives the highest rainfall in the world. Handicrafts made of bamboo are exported all over the world. The country is also famous for the cultivation of turmeric and spices. Apart from this, potato, rice, maize, cinnamon are also cultivated.

In this tribe, the younger daughter gets all the property, the highest rainfall occurs in Cherrapunji, Meghalaya.
Mizoram: North East’s most literate state, night beauty attracts
Mizoram is the most literate state in the North East. According to the 2011 population literacy rate is 91.33 percent. Tripura is the second most literate state in the North East where 87.22 percent of the people are literate. Night beauty of Mizoram attracts tourists. The bamboo dance here is famous in the world. The name of Mizoram is also registered in the Guinness Book of World for doing bamboo dance. Ruti, who came from here, told that Mizo Meeche Insuikham Pal (MHIP) in Mizoram has been fighting for the empowerment of women and participation in politics for a long time. Saga said that 100% of Mizoram’s population is Christian. Christmas is celebrated with great pomp.

Arunachal: Hindi connects everyone, first sunrise

Arunachal Pradesh has 36 tribes and 104 sub tribes with different languages. But the Hindi language connects them with each other through dialogue work. It is here that the first sun rises in India. Tasi here told that in Arunachal Pradesh agriculture is completely organic. Chemicals are not used. Aodi said that in Arunachal the rights of men and women are equal. Citizens coming from outside the state cannot buy land here.

Assam: Tea here in every corner of the country, 8 lakh people associated with the gardens

The team from Assam told that there is no such corner of India where people do not take a sip of Assam tea in any house. According to the Tea Association of India, Assam produces 69 crore kg of tea, which is 50 percent of the production in India. About 8 lakh laborers work in the plantations here, of which 57% are women. The tea leaves here are exported all over the world. Satyajit, who came from here, told that a large number of people work in tea gardens in Assam. One of the oldest refineries in Asia is Digboi Refinery in Assam. There is equality between men and women here. Every citizen of Assam is also given free treatment up to 2 lakh under Atal Amrit Abhiyan. Rice is cultivated on a large scale here.

Manipur: Mary Kom’s medal brought revolution in sports

There has been a revolution in sports in Manipur after Mary Kom won a medal in the London Olympics. KH Ajmal Shah of here said that people’s interest in martial arts, football, weightlifting including boxing is increasing. There is a lot of selection of youth here in Armed Forces, Railways from Sports Quota. Women empowerment is coming through Women Self Help Groups. In handicrafts, the women here are involved in making bamboo products and pottery.

मेघालय, उत्तर पूर्व भारत की सात बहन राज्यों में से एक, बड़े पैमाने पर जनजातियों द्वारा बसा हुआ है। खासी के बाद, मेघालय में गारो जनजातियों की सबसे बड़ी आबादी है। इनमें से अधिकांश जनजातियाँ मेघालय की गारो पहाड़ियों में निवास करती हैं, जैसा कि नाम से ही पता चलता है। मेघालय के अलावा इन जनजातियों की एक बड़ी आबादी असम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश जैसे अन्य राज्यों में भी पाई जा सकती है।

गारो खासी और जयंतिया पहाड़ियों का निर्माण मालवा पठार के समान युग में हुआ था। गारो, खासी और जयंतिया पहाड़ियाँ मेघालय में स्थित हैं। पहाड़ियों का नाम विशेष रूप से उस क्षेत्र में पाई जाने वाली जनजातियों के नाम पर रखा गया है।

मेघालय की गारो, खासी, जयंतिया ट्राइब्स में मातृसत्तात्मक समाज हैं। इन समाजों की खासियत है कि यहां परिवार की सबसे छोटी बेटी अपने माता-पिता की देखभाल करती है और उसे ही उनकी सारी संपत्ति मिलती है। परिवार की छोटी बेटी से शादी करने वाला लड़का लड़की के घर ही रहता है। यहां वंश माता के नाम (सरनेम) से चलता है। महिलाएं ही परिवार के अधिकतर बड़े फैसले लेती हैं। यह बात मेघालय से आए युवाओं के दल ने नेहरू युवा केन्द्र, उदयपुर के नॉर्थ-ईस्ट यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम में अग्रवाल धर्मशाला में कही। मेघालय की ओनिका धार ने बताया कि यहां वनों में खिलने वाले खूबसूरत ऑर्किड के फूल विश्व प्रसिद्ध हैं लेकिन इन फूलों को कभी नहीं तोड़ते हैं। समृद्घ जैव विविधता के कारण यहां कई औषधीय पौधे हैं। मेघालय का चेरापूंजी प्रसिद्ध पर्यटक केन्द्र है जहां विश्व की सर्वाधिक वर्षा होती है। बांस से बने हैंडीक्राफ्ट विश्व भर में एक्सपोर्ट किए जाते हैं। हल्दी और मसालों की खेती के लिए भी देश में काफी प्रसिद्ध है। इसके अलावा आलू, चावल, मक्का, दालचीनी की खेती भी की जाती है।

इस जनजाति में छोटी बेटी को मिलती है सारी संपत्ति, सबसे ज्यादा बरसात मेघालय के चेरापूंजी में होती है
मिजोरम : नॉर्थ ईस्ट का सबसे साक्षर राज्य, नाइट ब्यूटी करती है आकर्षित
मिजोरम नाॅर्थ ईस्ट का सबसे साक्षर राज्य है। 2011 की जनसंख्या के अनुसार 91.33 प्रतिशत साक्षरता दर है। नॉर्थ ईस्ट का दूसरा सबसे साक्षर राज्य त्रिपुरा है जहां 87.22 प्रतिशत लोग साक्षर हैं। मिजोरम की नाइट ब्यूटी पर्यटकों को आकर्षित करती है। यहां का बेम्बू डांस विश्व में प्रसिद्घ है। मिजोरम के नाम बेम्बू डांस करने का गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में भी नाम दर्ज है। यहां से आई रुती ने बताया कि मिजोरम में मिजो मीचे इन्सुइखाम पाल (एमएचआईपी) महिलाओं के सशक्तिकरण और राजनीति में भागीदारी के लिए लम्बे समय से संघर्ष कर रही हैं। सागा ने बताया मिजोरम की 100 प्रतिशत जनसंख्या ईसाई है। क्रिसमस बड़े धूमधाम से मनाया जाता है।

अरुणाचल : हिंदी सबको जोड़ती, सबसे पहले सूर्योदय

अरुणाचल प्रदेश में 36 ट्राइब्स और 104 सब ट्राइब्स हैं जिनकी भाषा अलग-अलग हैं। लेकिन हिन्दी भाषा इन्हें आपस में संवाद कार्य करके जोड़ती है। भारत में सबसे पहले सूर्य उदय यहीं होता है। यहां के तासी ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश में खेती पूरी तरह ऑर्गेनिक की जाती है। रसायन का उपयोग नहीं किया जाता है। अोदी ने बताया अरुणाचल में महिला और पुरुष के अधिकार समान हैं। बाहरी राज्य से आने वाले नागरिक यहां जमीन नहीं खरीद सकते हैं।

असम : देश के हर कोने में यहां की चाय, 8 लाख लोग बागानों से जुड़े

असम से आए दल ने बताया कि भारत का कोई ऐसा कोना नहीं है जहां किसी घर में असम की चाय की चुसकी लोग नहीं लेते हैं। भारतीय चाय संघ के अनुसार असम 69 करोड़ किलो चाय का उत्पादन करता जो भारत में 50 प्रतिशत उत्पादन है। यहां बागानों में करीब 8 लाख मजदूर काम करते हैं जिनमें 57% महिलाएं हैं। विश्व में यहां की चाय की पत्ती को एक्सपोर्ट किया जाता है। यहां से आए सत्यजीत ने बताया कि असम में भारी संख्या में लोग चाय बगानों में काम करते हैं। एशिया की सबसे पुरानी रिफाइनरी में एक डिग्बोई रिफाइनरी असम में है। यहां पुरुष और महिलाओं में समानता है। असम के हर नागरिक को अटल अमृत अभियान के तहत 2 लाख तक निशुल्क इलाज भी दिया जाता है। यहां चावल की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है।

मणिपुर : मैरीकॉम के मेडल से स्पोर्ट्स में आई क्रांति

मैरीकॉम के लंदन ओलंपिक में मेडल जीतने के बाद मणिपुर में स्पोर्ट्स में क्रांति आई है। यहां के केएच अजमल शाह ने बताया कि बॉक्सिंग सहित मार्शल आर्ट, फुटबॉल, वेटलिफ्टिंग में लोगों की रुचि बढ़ रही है। स्पोर्ट्स कोटा से सशस्त्र बल, रेलवे में यहां के युवाओं का चयन काफी हो रहा है। महिला स्वयं सहायता समूह के माध्यम से महिला सशक्तिकरण आ रहा है। हस्तशिल्प में यहां की महिलाएं बांस के उत्पाद और मिट्टी के बर्तन बनाने के कामों से जुड़ी हैं।

Similar Posts

Leave a Reply