Geography | GK | GK MCQ

Monoculture is a typical characteristic of— / मोनोकल्चर एक विशिष्ट विशेषता है-

Monoculture is a typical characteristic of— / मोनोकल्चर एक विशिष्ट विशेषता है-

 

(1) shifting cultivation / स्थानांतरित खेती
(2) subsistence farming / निर्वाह खेती
(3) specialised horticulture / विशेष बागवानी
(4) commercial grain farming / वाणिज्यिक अनाज की खेती

(SSC Statistical Investigators Grade–IV Exam. 13.08.2006)

Answer / उत्तर : – 

(4) commercial grain farming / वाणिज्यिक अनाज की खेती

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

Monoculture is the agricultural practice of producing or growing a single crop or plant species over a wide area and for a large number of consecutive years. It is widely used in modern industrial agriculture and its implementation has allowed for large harvests from minimal labor. However, this ratio remains true only if the accounting for labor required is limited to the number of workers employed on the farm. If the indirect work of employees involved in producing chemicals and machinery are taken into account, the ratio of labor to output is higher.

Monoculture is a distinctive feature of commercial grain farming.

Monoculture is the agricultural practice of cultivating or growing a single crop, plant, or livestock species, variety, or breed in an area or agricultural system at a time, with a focus on commercial profit.

Monoculture is widely used in both industrial farming and organic farming and has allowed increased efficiency in planting and harvest.

Polyculture, where more than one crop is grown at the same place at the same time, is an alternative to monoculture.

मोनोकल्चर एक विस्तृत क्षेत्र में और लगातार कई वर्षों तक एक ही फसल या पौधों की प्रजातियों के उत्पादन या बढ़ने की कृषि पद्धति है। यह आधुनिक औद्योगिक कृषि में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और इसके कार्यान्वयन ने न्यूनतम श्रम से बड़ी फसल की अनुमति दी है। हालाँकि, यह अनुपात तभी सही रहता है जब आवश्यक श्रम का हिसाब खेत में कार्यरत श्रमिकों की संख्या तक सीमित हो। यदि रसायनों और मशीनरी के उत्पादन में लगे कर्मचारियों के अप्रत्यक्ष कार्य को ध्यान में रखा जाए, तो श्रम और उत्पादन का अनुपात अधिक होता है।

मोनोकल्चर वाणिज्यिक अनाज की खेती की एक विशिष्ट विशेषता है।

मोनोकल्चर व्यावसायिक लाभ पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक समय में एक ही फसल, पौधे, या पशुधन प्रजातियों, विविधता, या किसी क्षेत्र या कृषि प्रणाली में नस्ल पैदा करने या उगाने की कृषि पद्धति है।

मोनोकल्चर का व्यापक रूप से औद्योगिक खेती और जैविक खेती दोनों में उपयोग किया जाता है और इसने रोपण और फसल में दक्षता बढ़ाने की अनुमति दी है।

पॉलीकल्चर, जहां एक ही समय में एक ही स्थान पर एक से अधिक फसलें उगाई जाती हैं, मोनोकल्चर का विकल्प है।

Similar Posts

Leave a Reply