Geography | GK | GK MCQ

Namdhapa National Park is in / नामधापा राष्ट्रीय उद्यान में है

Namdhapa National Park is in / नामधापा राष्ट्रीय उद्यान में है

 

(1) Mizoram / मिजोरम
(2) Manipur / मणिपुर
(3) Tripura / त्रिपुरा
(4) Arunachal Pradesh / अरुणाचल प्रदेश

(SSC CPO Sub-Inspector Exam. 06.09.2009)

Answer / उत्तर : – 

(4) Arunachal Pradesh / अरुणाचल प्रदेश

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

 

Namdhapa National Park is the largest protected area in the Eastern Himalaya biodiversity hotspot and is located in Arunachal Pradesh in Northeast India. It is also the largest national park in India in terms of area. It is located in the Eastern Himalayan sub-region and is recognized as one of the richest areas in biodiversity in India. The park harbours the northernmost lowland evergreen rainforests in the world at 27°N latitude.

Namdapha National Park is the largest protected area of ​​the Eastern Himalaya Biodiversity Site and is located in Arunachal Pradesh in Northeast India. It is the largest national park in India in terms of area. It is located in the Eastern Himalaya sub-region and is recognized as one of the richest biodiversity areas in India.

Namdapha National Park is a major tourist attraction of Arunachal Pradesh. Namdapha is the largest protected area in the entire Eastern Himalayas which has been declared a biodiversity hot spot. It is also the second largest national park in the country by area. Namdapha located in Changlang district is known for its sanctuary. It has been declared a national park. Dense green forests enhance the beauty of the national park. The Dafa Bum range is a part of the Mishmi hills and the Patki range surrounds Namdapha. It is few kilometers away from Mion. Namdapha National Park is the 151st Tiger Reserve of India which is spread over an area of ​​about 1985 square kilometer. The Noe – Dihing River flowing through the forest is home to many aquatic species. The Namdapha River also flows through the park after which the Namdapha National Park is named. Namdapha National Park is a good place for people who are interested in wildlife. It is not only challenging but also thrilling as many species of animals, birds and flora are found here. Spectacular gaur known as Mithun, elephant, wild buffalo, Himalayan bear, takin, Patkoi range wild goat, musk deer, binturang and red panda are some of the animals found in the region. Different types of butterflies add to the beauty of the forest. Namdapha is home to only a few species of cats such as the tiger, cheetah, snow leopard and clouded leopard at higher altitudes. Snow leopards have become a rarity these days. White-winged duck is also a rare species of duck that is found in this park. Assamese macaques, boar-tailed monkeys, hoolock gibbons, hornbills and wild fowl are other species found in the park. You need to be careful from the snakes living in this jungle. Various types of plants are also found here. It contains 150 species of wood and some rare medicinal plants like Mishmi tita. The vegetation in Namdapha National Park varies with altitude. Earlier 425 species of aquatic herbs were found here at high altitude. Some tribal groups are also found inside the park, mostly at the eastern tip where India shares its border with Myanmar. The Chakma, Tangsa and Singpho tribes are found in the area around this park.

How to reach Namdapha National Park

Namdapha National Park is connected by roads. Passengers coming by rail or air have to reach Assam and after that they can reach Mion. Seasons of Namdapha National Park Namdapha National Park can be visited from October to February, which is the best time to visit the forests here.

नामधापा राष्ट्रीय उद्यान पूर्वी हिमालय जैव विविधता हॉटस्पॉट में सबसे बड़ा संरक्षित क्षेत्र है और पूर्वोत्तर भारत में अरुणाचल प्रदेश में स्थित है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह भारत का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान भी है। यह पूर्वी हिमालयी उप-क्षेत्र में स्थित है और इसे भारत में जैव विविधता के सबसे समृद्ध क्षेत्रों में से एक माना जाता है। यह पार्क 27°N अक्षांश पर दुनिया के सबसे उत्तरी तराई वाले सदाबहार वर्षावनों को आश्रय देता है।

नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान पूर्वी हिमालय जैव विविधता स्थल का सबसे बड़ा संरक्षित क्षेत्र है और पूर्वोत्तर भारत में अरुणाचल प्रदेश में स्थित है। यह क्षेत्रफल की दृश्टि से भारत का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है। यह पूर्वी हिमालय उप क्षेत्र में स्थित है और इसे भारत में जैव विविधता में सबसे धनी क्षेत्रों में से एक के रूप में मान्यता प्राप्त है।

नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन का प्रमुख आकर्षण है। संपूर्ण पूर्वी हिमालय जिसे जैव विविधता का हॉट स्पॉट घोषित किया गया है, का नमदाफा सबसे बड़ा संरक्षित क्षेत्र है। क्षेत्रफल के अनुसार भी यह देश का दूसरा सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है। चांगलांग जिले में स्थित नमदाफा अपने अभयारण्य के लिए जाना जाता है। इसे राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया है। घने हरे भरे जंगल राष्ट्रीय उद्यान की शोभा बढ़ाते हैं। दाफा बुम श्रृंखला मिश्मी पहाड़ियों का एक भाग है और पाटकी श्रृंखला नमदाफा को घेरे हुए है। यह मिओं से कुछ किलोमीटर की दूरी पर है। नमदाफा नेशनल पार्क भारत का 151 वां टाइगर रिज़र्व है जो लगभग 1985 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। जंगल से होकर बहने वाली नोए – दिहिंग नदी कई जलीय प्रजातियों का घर है। उद्यान से नमदाफा नदी भी बहती है जिसके नाम पर नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान का नाम रखा गया है। वन्य जीवन में रूचि रखने वाले लोगों के लिए नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान अच्छा स्थान है। यह न सिर्फ चुनौतीपूर्ण है बल्कि रोमांचकारी भी है क्योंकि यहाँ कई प्रजाति के पशु पक्षी और वनस्पतियाँ पाई जाती हैं। मिथुन के नाम से जाना जाने वाला शानदार गौर, हाथी, जंगली भैंसा, हिमालयीन भालू, तकिन, पट्कोई श्रेणी की जंगली बकरी, कस्तूरी मृग, बिन्टूरांग और लाल पांडा इस क्षेत्र में पाए जाने वाले कुछ जानवर हैं। विभिन्न प्रकार की तितलियाँ जंगल की शोभा बढ़ाती हैं। नमदाफा में केवल अधिक ऊंचाई पर ही टाइगर (बाघ), चीता, स्नो लेपर्ड (हिम तेंदुआ) और क्लाऊडेड लेपर्ड की जैसी बिल्ली जैसी कुछ प्रजातियाँ पाई जाती हैं। आजकल हिम तेंदुए दुर्लभ हो गए हैं। सफ़ेद पंखों वाली बतख भी बतख की एक दुर्लभ प्रजाति है जो इस पार्क में पाई जाती है। आसामी मकाक (छोटी पूँछ वाला बंदर), सूअर की पूँछ जैसी पूँछ वाला बंदर, हूलॉक गिब्बन, हॉर्नबिल्स और जंगली मुर्गी इस पार्क में पाई जाने वाली अन्य प्रजातियाँ हैं। आपको इस जंगल में रहने वाले साँपों से सावधान रहने की आवश्यकता है। यहाँ तरह तरह के पौधे भी पाए जाते हैं। इसमें लकड़ियों की 150 प्रजातियाँ और कुछ दुर्लभ औषधीय पौधे जैसे मिश्मी टीटा शामिल हैं। नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान में ऊंचाई के साथ साथ वनस्पतियाँ भी बदलती हैं। पहले यहाँ ऊंचाई पर जलीय बूटियों की 425 प्रजातियाँ पाई जाती थी। उद्यान के अंदर कुछ जनजाति समूह भी पाए जाते हैं, अधिकांशत: पूर्वी सिरे पर जहाँ भारत अपनी सीमा म्यांमार से बांटता है। इस पार्क के चारों ओर के क्षेत्र में चकमा, तंग्सा और सिंग्फो जनजातियाँ पाई जाती हैं।

नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान तक कैसे पहुंचे

नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान रास्तों द्वारा जुड़ा हुआ है। रेलमार्ग या हवाईमार्ग से आने वाले यात्रियों को आसाम तक पहुंचना पड़ता है और उसके बाद वे मिओं तक पहुँच सकते हैं। नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान का मौसम नमदाफा राष्ट्रीय उद्यान की सैर अक्टूबर से फरवरी के बीच की जा सकती है, जो यहाँ के जंगलों की सैर के लिए उत्तम समय है।

Similar Posts

Leave a Reply