GK MCQ | Indian polity

The ‘Speaker’s vote’ in the Lok Sabha is called / लोकसभा में ‘अध्यक्ष का मत’ कहलाता है

The ‘Speaker’s vote’ in the Lok Sabha is called / लोकसभा में ‘अध्यक्ष का मत’ कहलाता है

(1) casting vote / वोट डालना
(2) sound vote / ध्वनि वोट
(3) direct vote / प्रत्यक्ष वोट
(4) indirect vote / अप्रत्यक्ष वोट

(SSC Section Officer (Audit) Exam. 30.11.2008)

Answer / उत्तर : – 

(1) casting vote / वोट डालना

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

Normally, the Speaker does not take part in voting in the House. But in case of a tie, he exercises his right of casting vote. His casting vote would decide the issue. In such a case his vote would normally go in favour of the party to which he belongs. Further, when a resolution for the removal of the Speaker is put to vote in the House, he has the right to cast his vote. / सामान्यतः अध्यक्ष सदन में मतदान में भाग नहीं लेता है। लेकिन बराबरी की स्थिति में वह वोट डालने के अपने अधिकार का प्रयोग करते हैं। उनका वोटिंग वोट ही इस मुद्दे को तय करेगा। ऐसे मामले में उसका वोट आमतौर पर उस पार्टी के पक्ष में जाएगा जिससे वह संबंधित है। इसके अलावा, जब अध्यक्ष को हटाने का प्रस्ताव सदन में मतदान के लिए रखा जाता है, तो उसे अपना वोट डालने का अधिकार होता है।

Similar Posts

Leave a Reply