| |

Where in India can you normally spot the Siberian crane in winter ? / भारत में आप आमतौर पर सर्दियों में साइबेरियाई सारस कहाँ देख सकते हैं?

Where in India can you normally spot the Siberian crane in winter ? / भारत में आप आमतौर पर सर्दियों में साइबेरियाई सारस कहाँ देख सकते हैं?

 

(1) Sasangir Sanctuary / सासांगीर अभयारण्य
(2) Ranthambore Sanctuary / सासांगीर अभयारण्य
(3) Dachigam National Park / दाचीगाम राष्ट्रीय उद्यान
(4) Keoladeo Ghana Sanctuary / केवलादेव घाना अभयारण्य

(SSC CPO Sub-Inspector Exam. 26.05.2005)

Answer / उत्तर : – 

(4) Keoladeo Ghana Sanctuary / केवलादेव घाना अभयारण्य

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

 

The Keoladeo National Park or Keoladeo Ghana National Park formerly known as the Bharatpur Bird Sanctuary in Bharatpur, Rajasthan, India is a famous avifauna sanctuary that plays host to thousands of birds especially during the winter season. Over 230 species of birds are known to have made the National Park their home. The Sanctuary is one of the richest bird areas in the world. It is known for nesting of its resident birds and visiting migratory birds including water birds. The rare Siberian cranes used to winter in this park but this central population of Siberian Cranes is now extinct.

Rajasthan is such a state in India whose geographical features you try to know about, this place surprises you more than that. This state is so rich geographically that there is not only snow and sea in this state.

For every tourist who comes to Rajasthan, there are deserts, high mountains (Mount Abu), 12 months flowing rivers, dense forests, wildlife sanctuaries (Kumbalgarh Wildlife Sanctuary), old palaces and forts (Kumbalgarh / Ranthambore) and Rajasthan’s glorious History Apart from all these things, there is another such place here, due to which the thinking of tourists visiting Rajasthan changes about this state.

Located in the Bharatpur district of Rajasthan, this national park is known as Keolla Dev National Park or Keolla Dev Ghana Bird Sanctuary, this national park is one of the most famous bird sanctuaries in India, during the winter season thousands of people visit this sanctuary. A number of migratory birds come to migrate, this national park is home to about 370 species of birds, during the winter season there is a gathering of migratory birds in this park.

And for this reason this national park is one of the favorite places of ornithologists, wildlife photographers and tourists.

History of Keola Dev National Park | Keoladeo National Park History

Keolla Dev National Park is a man-made park, Maharaja Surajmal of Bharatpur had built this bird sanctuary 250 years ago. In the center of this park is the temple of Lord Shiva who is known as Keoladeva here, hence this park was named Keoladeo.

There is a natural slope at this place, due to which there used to be a flood situation in this place during the rainy season at that time, to avoid which Maharaja Surajmal built the Ajan dam here in the middle of 1726-1763. got constructed. This dam has been constructed at the confluence of two rivers Gambhiri and Banganga “Gambhiri and Banganga Sangam”.

From 1850 onwards, the Rajas of Bharatpur started using this place as a hunting ground. Along with this, the king started organizing annual bird hunting in this bird sanctuary to keep the British Viceroy happy. In 1938, Lord Linlithgow, the then British Viceroy of India, along with his colleague Victor Hope hunted more than 4,273 birds in a day, with the highest number of birds like mallards and teals being hunted in that one day. was done.

Under the Rajasthan Forest Act 1953, this bird sanctuary was included in the category of a reserved forest, the last hunting organized in this bird sanctuary was organized in 1964, the former Maharaja of Bharatpur had the rights to hunt here till 1972. . On 13 March 1976, this area was given the status of a bird sanctuary, and in October 1981, this place was given the status of Ramsar site under the Wetland Convention.

This bird sanctuary got the status of a national park on 10 March 1982, after that the name of this bird sanctuary became Keoladeo Ghana Bird Sanctuary. This national park was declared a UNESCO World Heritage UNESCO World Heritage Site site at the World Heritage Convention held in 1985.

After it was declared a national park, the government banned farming within the protected forest in 1982 and the grazing and transporting of domesticated animals, leading to several violent clashes between local residents and the government over the area, eventually In 2004, the government had to accept the demands of the farmers, after which the government made a huge cut in the water sent to this bird sanctuary.

The water supply in this park has reduced from 15,000,000 cubic feet earlier to just 510,000 cubic feet. After this decision of the government, the natural environment of this park has seen huge changes which were very terrible, after the water cut, most of the marshy land here has become dry and useless, as a result of which the people coming here for breeding. Most of the migratory birds now fly away to Garhmukteshwari in Uttar Pradesh, located near the Ganges river, 90 km from this place.

Geographical location of Keolla Dev National Park. Geopraphy of Keoladeo National Park

Keola Dev National Park located in Bharatpur district of Rajasthan is a famous bird sanctuary in India as well as a famous tourist place for wildlife lovers, thousands of migratory birds come to this bird sanctuary for breeding throughout the year. During the winter season, the number of migratory birds that come here almost doubles.

Keolla Dev National Park is a man-made bird sanctuary. This national park is spread over an area of ​​about 29 square kilometers, unlike other national parks of India, this bird sanctuary has no buffer zone. The main reason for this is the density of human population around this bird sanctuary is very high, the distance of this national park from the main city Bharatpur is only 2 kilometers, and the boundaries of about 15 villages around this national park, due to which the expansion of this national park. It is impossible for the government to do.

One-third of this bird sanctuary is submerged, trees, mounds, dykes and swamps are found in this bird sanctuary, which are found in the migratory birds coming here.

Keoladeo National Park is also known as Keoladeo Ghana Bird Sanctuary. This national park is a man-made forest area with semi-arid and dense vegetation of Rajasthan, despite being a man-made park, the flora of this bird sanctuary is very rich, because of this also this park is called by the name Ghana Bird Sanctuary. , “Ghana means thick or dense”.

This area is a tropical dry deciduous forest, due to lack of water, most of the area of ​​this forest has dried up, due to which now dry grasslands are seen in some places. The remaining marshy area is managed here by artificially watering. In most of the area of ​​this bird sanctuary, you get to see medium sized trees and shrubs, in the north and east part of the forest, more number of trees like Kadam, Jamun, Acacia are seen.

In the open marshy areas, the dominance of scrubland is seen over vegetation like Kandi, Ber, Ker. Pilu, a wood plant found in salty soil, is also found inside this park, the aquatic vegetation of this bird sanctuary is also very rich, which benefits the waterfowl migrating here.

Keoladeo National Park or Keoladeo Ghana National Park formerly known as Bharatpur Bird Sanctuary in Bharatpur, Rajasthan, India, is a famous avifauna sanctuary that hosts thousands of birds especially during the winter season. More than 230 species of birds are known to make the national park their home. The sanctuary is one of the richest bird areas in the world. It is known for building nests of its resident birds and visiting migratory birds including water birds. The rare Siberian stork used to winter in this park but this central population of Siberian stork is now extinct.

राजस्थान भारत का एक ऐसा राज्य है जिसकी भौगोलिक विशेषताओं के बारे में आप जितना जानने की कौशिश करते है, यह जगह आप को उससे कहीं ज्यादा आश्चर्यचकित करती है। यह राज्य भौगोलिक रूप से इतना ज्यादा समृद्ध है की इस राज्य में सिर्फ बर्फ और समुंदर ही नहीं है । 

राजस्थान आने वाले हर एक पर्यटक के लिए यहाँ पर रेगिस्तान, ऊंचे ऊंचे पहाड़ (माउंट आबू), 12 महीने बहने वाली नदियाँ, घने जंगल, वन्यजीव अभ्यारण्य (कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभ्यारण्य) , पुराने महल और किले (कुम्भलगढ़ / रणथम्भौर) और राजस्थान का गौरवशाली इतिहास इन सब बातों के अलावा यहाँ पर एक ऐसी जगह और भी है, जिसके कारण राजस्थान घूमने आने वाले पर्यटकों की इस राज्य के बारे में सोच बदल जाती है।  

राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित इस राष्ट्रीय उद्यान को केवला देव राष्ट्रीय उद्यान या केवला देव घाना पक्षी विहार के नाम से जाना जाता है, यह राष्ट्रीय उद्यान भारत के सबसे प्रसिद्ध पक्षी अभ्यारण्य में से एक है, सर्दियों के मौसम में इस अभ्यारण्य में हजारों के संख्या में प्रवासी पक्षी प्रवास करने के लिए आते है, यह राष्ट्रीय उद्यान लगभग 370 पक्षियों की प्रजातिया का घर है, सर्दियों के मौसम में इस उद्यान में प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा रहता है। 

और इसी कारण यह राष्ट्रीय उद्यान पक्षीविदों, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर और पर्यटकों की पसन्दीदा जगहों में से एक है।

केवला देव राष्ट्रीय उद्यान का इतिहास  

केवला देव राष्ट्रीय उद्यान एक मानव निर्मित उद्यान है, भरतपुर के महाराजा सूरजमल ने 250 वर्ष पूर्व इस पक्षीविहार का निर्माण करवाया था | इस उद्यान के मध्य में भगवान शिव का मंदिर है जिन्हें यहाँ केवलादेव के नाम से जाना जाता है, इसलिए इस उद्यान का नाम केवलादेव रखा गया। 

इस स्थान पर एक प्राकृतिक ढ़लान बनी हुई है इस वजह से उस समय बारिश के मौसम में इस स्थान पर बाढ़ की स्थिति बन जाती थी , जिससे बचने के लिए महाराजा सूरजमल ने यहाँ 1726-1763 के मध्यकाल में यहाँ पर अजान बांध “Ajan Bund”  का निर्माण करवाया| इस बांध का निर्माण यहाँ बहने वाली दो नदियां गंभीरी और बाणगंगा के संगम स्थल “Gambhiri and Banganga Sangam” पर किया गया है । 

1850 के बाद से भरतपुर के राजाओ ने इस स्थान को शिकारगाह के रूप इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। इसके साथ ही राजा ने ब्रिटिश वाइसराय को खुश रखने के लिए इस पक्षीविहार में सालाना पक्षियों के शिकार के आयोजन शुरू कर दिए। 1938 में तत्कालीन भारत के ब्रिटिश वाइसराय लार्ड लिनलिथगो ने अपने सहयोगी विक्टर होप के साथ एक दिन में करीब 4,273 से अधिक पक्षियों का शिकार किया था, जिसमे सबसे अधिक संख्या में मॉलर्ड्स और टील्स “Mallards and Teals” जैसे पक्षियों का शिकार उस एक दिन में किया गया।  

राजस्थान वन अधिनियम  1953 के तहत इस पक्षी विहार को एक आरक्षित वन की श्रेणी में शामिल किया गया, इस पक्षीविहार में आखरी शिकार का आयोजन 1964 में आयोजित किया गया था, भरतपुर के पूर्व महाराजा के पास 1972  तक यहाँ पर शिकार करने के अधिकार सुरक्षित थे । 13 मार्च 1976 को इस क्षेत्र को पक्षी अभ्यारण का दर्जा दे दिया गया, तथा वर्ष 1981 के अक्टूबर महीने में वेटलैंड कन्वेंशन के अंतर्गत इस जगह को रामसर साइट का दर्जा दिया गया। 

इस पक्षीविहार  Bird Sanctuary को 10 मार्च 1982 में राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा मिल गया उसके बाद से इस पक्षीविहार का नाम केवलादेव घाना पक्षीविहार हो गया। 1985 में आयोजित वर्ल्ड हेरिटेज कन्वेशन में इस राष्ट्रीय उद्यान को यूनेस्को वर्ल्ड हेरीटेज UNESCO World Heritage Site साइट घोषित कर दिया गया। 

एक राष्ट्रीय उद्यान घोषित हो जाने के बाद सरकार ने 1982 में सरंक्षित वन के अंदर खेती करना और पालतू जानवर को चारा चराने और चारा ले जाने पर प्रतिबंध लगा दिया जिसके बाद से इस क्षेत्र को लेकर स्थानीय निवासियों और सरकार में कई हिंसक झड़प हुई, अंततः 2004 में सरकार को किसानों की मांगों  को मानना पड़ा, इसके बाद इस पक्षीविहार में भेजे जाने वाले पानी में सरकार ने भारी कटौती कर दी। 

इस उद्यान में पहले दी जाने वाली जल आपूर्ति 15,000,000 घनफुट से कम हो कर मात्र 510,000 घनफुट रह गई। सरकार के इस निर्णय के बाद से इस उद्यान के प्राकर्तिक वातावरण में भारी बदलाव देखेने को मिले जो की बहुत ही भयानक थे, पानी में कटौती के बाद यहाँ की अधिकतम दलदली जमीन सुख कर बेकार हो गई है, जिसके परिणामस्वरूप यहां प्रजनन के लिए आने वाले अधिकांश प्रवासी पक्षी अब उड़ कर इस स्थान से 90 किलोमीटर दूर गंगा नदी के पास स्थित उत्तप्रदेश के गढ़मुक्तेश्वरी तक चले जाते है।

केवला देव राष्ट्रीय उद्यान की भौगोलिक स्थिति  

राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित केवला देव राष्ट्रीय उद्यान भारत का एक प्रसिद्ध पक्षी अभ्यारण्य होने के साथ-साथ वन्यजीवन पसन्द करने वालों के लिए प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है, इस पक्षी विहार में पूरे वर्ष हजारों की संख्या में प्रवासी पक्षी प्रजनन के लिए आते है। सर्दियों के मौसम में यहाँ आने वाले प्रवासी पक्षियों की संख्या लगभग दुगनी हो जाती है। 

केवला देव राष्ट्रीय उद्यान एक मानव निर्मित पक्षीविहार है यह राष्ट्रीय उद्यान लगभग 29 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है, भारत के दूसरे राष्ट्रीय उद्यानों के विपरीत इस पक्षी विहार का कोई बफर जोन नहीं है। इसका मुख्य कारण इस पक्षीविहार के आसपास मानव आबादी का घनत्व बहुत ज्यादा है, मुख्य शहर भरतपुर से इस राष्ट्रीय उद्यान की दूरी मात्र 2 किलोमीटर है, और लगभग आसपास के 15 गाँव के सीमायें इस राष्ट्रीय उद्यान के लगती है जिसके कारण इस राष्ट्रीय उद्यान का विस्तार करना सरकार के लिए असंभव है। 

इस पक्षीविहार का एक तिहाई हिस्सा जलमग्न है, इस पक्षीविहार में  जलमग्न पोधों के साथ उगे हुये पेड़,टीले,डाइक और दलदल आदि पाये जाते है जो की यहाँ आने वाले प्रवासी पक्षियों के प्रजनन के लिए अनुकूल वातावरण बनाते है।

केवला देव राष्ट्रीय उद्यान की वनस्पति  

vegitation-of-keoladeo-national-park
 

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को केवलादेव घाना पक्षीविहार के नाम से भी जाना जाता है| यह राष्ट्रीय उद्यान राजस्थान का अर्ध-शुष्क और घनी वनस्पति वाला एक मानव निर्मित वन क्षेत्र है, एक मानव निर्मित उद्यान होने के बावजूद भी इस पक्षीविहार की वनस्पति बहुत ज्यादा समृद्ध  है, इस वजह से भी इस उद्यान को घाना पक्षीविहार नाम से बुलाया जाता है, “घाना का मतलब होता है मोटा या घना”। 

यह क्षेत्र एक उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती वन है, पानी की कमी के कारण इस जंगल का अधिकांश क्षेत्र सुख चुका है इस वजह से अब यहाँ कुछ जगह सूखे घास के मैदान दिखाई देते है। बचे हुए दलदली क्षेत्र को यहां कृत्रिम रूप से पानी देकर प्रबंधित किया जाता है। इस पक्षीविहार के अधिकांश क्षेत्र में आप को मध्यम आकर के पेड़ और झाड़िया देखने को मिलती है, जंगल के उत्तर और पूर्व भाग में कदम,जामुन,बबूल जैसे वृक्षों की संख्या ज्यादा देखने को मिलती है। 

खुले दलदली इलाकों में कंडी, बेर, केर जैसी वनस्पति पर स्क्रबलैंड का प्रभुत्व देखने को मिलता है। नमकीन मिट्टी में पाये जाने वाला लकड़ी का पौधा पिलु भी इस पार्क में अंदर पाया जाता है, इस पक्षी विहार की जलीय वनस्पति भी बहुत समृद्ध है जिसका फायदा यहाँ प्रवास करने वाले जलपक्षी को मिलता है।

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान या केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान जिसे पहले भरतपुर, राजस्थान, भारत में भरतपुर पक्षी अभयारण्य के रूप में जाना जाता था, एक प्रसिद्ध एविफौना अभयारण्य है जो विशेष रूप से सर्दियों के मौसम में हजारों पक्षियों की मेजबानी करता है। पक्षियों की 230 से अधिक प्रजातियों को राष्ट्रीय उद्यान को अपना घर बनाने के लिए जाना जाता है। अभयारण्य दुनिया के सबसे अमीर पक्षी क्षेत्रों में से एक है। यह अपने निवासी पक्षियों के घोंसले बनाने और पानी के पक्षियों सहित प्रवासी पक्षियों का दौरा करने के लिए जाना जाता है। इस पार्क में दुर्लभ साइबेरियन सारस सर्दियों में हुआ करते थे लेकिन साइबेरियन सारस की यह केंद्रीय आबादी अब विलुप्त हो चुकी है।

 

Similar Posts

Leave a Reply