GK MCQ | History

Which is the correct chronolo-gical order of following ‘Acharyas’? / निम्नलिखित ‘आचार्यों’ का सही कालानुक्रमिक क्रम कौन सा है ?

Which is the correct chronolo-gical order of following ‘Acharyas’ ? / निम्नलिखित ‘आचार्यों’ का सही कालानुक्रमिक क्रम कौन सा है?

 

(1) Shankara–Ramanuja– Madhav–Chaitanya / शंकर-रामानुज-माधव-चैतन्य
(2) Chaitanya–Ramanuja– Madhav–Shankara / चैतन्य-रामानुज-माधव-शंकर:
(3) Ramanjua–Shankara–Chaitanya– Madhav / रामंजुआ-शंकर-चैतन्य-माधवी
(4) Madhav–Chaitanya–Ramanuja– Shankara / माधव-चैतन्य-रामानुज-शंकर:

 

(SSC Section Officer (Audit) Exam. year 1997 )

 

Answer / उत्तर :-

(1) Shankara–Ramanuja– Madhav–Chaitanya / शंकर-रामानुज-माधव-चैतन्य

 

Explanation / व्याख्या :-

 

Shankara (9th century)– Ramanuja (AD 1017-1137) Madhavacharya (AD 1238-1317)– Chaitanya (AD 1486- 1533) Adi Shankara was a 9th century reformer of Hinduism who is honored as Jagadguru, a title that was used earlier only to Lord Krishna. Ramanuja (traditionally 1017–1137) was a theologian, philosopher, and scriptural exegete. He is seen by Hindus in general as the leading expounder of Vishishtadvaita, one of the classical interpretations of the dominant Vedanta school of Hindu philosophy. Madhavacharya (1238– 1317), also known as Purna Prajna and Ananda Tirtha,was the chief proponent of Tattvavada “Philosophy of Reality”, popularly known as the Dvaita (dualism) school of Hindu philosophy. It is one of the three most influential Vedanta philosophies. Chaitanya Mahaprabhu (AD 1486-1533) was a Vaishnava saint and social reformer in eastern India in the 16th century, worshipped by followers of Gaudiya Vaishnavism as the full incarnation of Lord Krishna. / शंकर (९वीं शताब्दी) – रामानुज (ई. १०१७-११३७) माधवाचार्य (१२३८-१३१७ ईस्वी)- चैतन्य (१४८६-१५३३ ईस्वी) आदि शंकराचार्य हिंदू धर्म के ९वीं शताब्दी के सुधारक थे, जिन्हें जगद्गुरु के रूप में सम्मानित किया जाता है, एक उपाधि जो पहले इस्तेमाल की जाती थी। भगवान कृष्ण को। रामानुज (परंपरागत रूप से १०१७-११३७) एक धर्मशास्त्री, दार्शनिक और धर्मग्रंथ थे। उन्हें सामान्य रूप से हिंदुओं द्वारा विशिष्टाद्वैत के प्रमुख प्रतिपादक के रूप में देखा जाता है, जो हिंदू दर्शन के प्रमुख वेदांत स्कूल की शास्त्रीय व्याख्याओं में से एक है। माधवाचार्य (१२३८-१३१७), जिन्हें पूर्ण प्रज्ञा और आनंद तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है, तत्त्ववाद “वास्तविकता के दर्शन” के मुख्य प्रस्तावक थे, जिन्हें हिंदू दर्शन के द्वैत (द्वैतवाद) स्कूल के रूप में जाना जाता है। यह तीन सबसे प्रभावशाली वेदांत दर्शनों में से एक है। चैतन्य महाप्रभु (1486-1533 ई.) 16 वीं शताब्दी में पूर्वी भारत में एक वैष्णव संत और समाज सुधारक थे, जिन्हें गौड़ीय वैष्णववाद के अनुयायियों द्वारा भगवान कृष्ण के पूर्ण अवतार के रूप में पूजा जाता था।

Similar Posts

Leave a Reply