Geography | GK | GK MCQ

Which is the first national park established in India? / भारत में स्थापित पहला राष्ट्रीय उद्यान कौन सा है?

Which is the first national park established in India? / भारत में स्थापित पहला राष्ट्रीय उद्यान कौन सा है?

 

(1) Velvadan National Park / वेलवदन राष्ट्रीय उद्यान
(2) Periyar National Park / पेरियार राष्ट्रीय उद्यान
(3) Bandipur National Park / बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान
(4) Corbett National Park / कॉर्बेट नेशनल पार्क

(SSC Combined Graduate Level Prelim Exam. 11.05.2003)

Answer / उत्तर : – 

(4) Corbett National Park / कॉर्बेट नेशनल पार्क

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

 

Jim Corbett National Park is the oldest national park in India. The park—named for the hunter and conservationist Jim Corbett who played a key role in its establishment—was established in 1936 as Hailey National Park. Situated in Nainital district of Uttarakhand the park acts as a protected area for the endangered Bengal tiger of India, the secure survival of which is the main objective of Project Tiger, an Indian wildlife protection initiative.

Jim Corbett National Park is the oldest national park in India and was established in 1936 as Hailey National Park to protect the endangered [Bengal tiger]. It is located near Ramnagar town of Nainital district of Uttarakhand and was named after Jim Corbett who played an important role in its establishment. This was the first park to come under the [Tiger Project] initiative. It is a glorious animal sanctuary. It occupies an area of ​​1318.54 square kilometer in the Patlidoon valley of Ramganga, which also includes 821.99 square kilometer [Jim Corbett Tiger Reserve].

The park has the geographical and ecological features of [Talai region|Sub-Himalayan belt]. It is also an ecotourism destination and has 488 [species] of plants and a diversity of fauna. The increase in tourism activities and other problems are posing a serious challenge to the ecological balance of the park.

Corbett has been a haven for tourists and wildlife lovers for a long time. Tourism activity is permitted only in selected areas of the Corbett Tiger Reserve so that people get a chance to see its spectacular landscape and diverse wildlife. The number of people visiting here has increased dramatically in recent years. Currently, over 70,000 visitors visit the park each season.

Corbett National Park covers 520.8 km (21.1 sq mi) of hills, river belts, marshy pits, grasslands and a large lake. The altitude ranges from 1,300 to 4,000 feet (400 to 1,220 m). The winter nights here are cold but the days are sunny and warm. It rains here from July to September.

The dense moist deciduous forest consists mainly of [Sal (tree)|Sal], Haldu, Peepal, Rohini and Mango trees. Forests cover about 73% of the park, with 10% of the area being grasslands. There are 110 tree species, 50 mammal species, 580 bird species and 25 reptile species.

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है। पार्क – शिकारी और संरक्षणवादी जिम कॉर्बेट के नाम पर, जिन्होंने इसकी स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी – 1936 में हैली नेशनल पार्क के रूप में स्थापित किया गया था। उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित यह पार्क भारत के लुप्तप्राय बंगाल टाइगर के लिए एक संरक्षित क्षेत्र के रूप में कार्य करता है, जिसका सुरक्षित अस्तित्व एक भारतीय वन्यजीव संरक्षण पहल प्रोजेक्ट टाइगर का मुख्य उद्देश्य है।

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय पार्क है और १९३६ में लुप्तप्राय [बंगाल बाघ] की रक्षा के लिए हैंली नेशनल पार्क के रूप में स्थापित किया गया था। यह उत्तराखण्ड के नैनीताल जिले के रामनगर नगर के पास स्थित है और इसका नाम जिम कॉर्बेट के नाम पर रखा गया था जिन्होंने इसकी स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। [बाघ परियोजना] पहल के तहत आने वाला यह पहला पार्क था। यह एक गौरवशाली पशु विहार है। यह रामगंगा की पातलीदून घाटी में १३१८.५४ वर्ग किलोमीटर में बसा हुआ है जिसके अंतर्गत ८२१.९९ वर्ग किलोमीटर का [जिम कॉर्बेट व्याघ्र संरक्षित क्षेत्र] भी आता है।

पार्क में [तराई क्षेत्र|उप-हिमालयन बेल्ट] की भौगोलिक और पारिस्थितिक विशेषताएं हैं। यह एक इकोटोरिज़्म गंतव्य भी है और यहाँ पौधों की 488 [प्रजातियां] और जीवों की एक विविधता है। पर्यटन की गतिविधियों में वृद्धि और अन्य समस्याएं पार्क के पारिस्थितिक संतुलन के लिए एक गंभीर चुनौती पेश कर रहीं हैं।

कॉर्बेट एक लंबे समय के लिए पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए अड्डा रहा है। कोर्बेट टाइगर रिजर्व के चयनित क्षेत्रों में ही पर्यटन गतिविधि को अनुमति दी जाती है ताकि लोगों को इसके शानदार परिदृश्य और विविध वन्यजीव देखने का मौका मिले। हाल के वर्षों में यहां आने वाले लोगों की संख्या में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है। वर्तमान में, हर मौसम में ७०,००० से अधिक आगंतुक पार्क में आते हैं।

कॉर्बेट नेशनल पार्क में ५२०.८ वर्ग किमी (२०१.१ वर्ग मील) में पहाड़ी, नदी के बेल्ट, दलदलीय गड्ढे, घास के मैदान और एक बड़ी झील शामिल है। ऊंचाई १,३०० से 4,००० फीट (४०० से १,२२० मीटर) तक होती है। यहाँ शीतकालीन रातें ठंडी होती हैं लेकिन दिन धूपदार और गरम होते हैं। यहाँ जुलाई से सितंबर तक बारिश होती है।

घने नम पर्णपाती वन में मुख्य रूप से [साल (वृक्ष)|साल], हल्दु, पीपल, रोहिनी और आम के पेड़ होते हैं। जंगल पार्क का लगभग 73% हिस्सा घेरते हैं, इस क्षेत्र में 10% घास के मैदान होते हैं। यहाँ ११० पेड़ की पप्रजातियाँ, ५० स्तनधारियों की प्रजातियाँ, ५८० पक्षी प्रजातियां और २५ सरीसृप प्रजातियां हैं।

 

Similar Posts

Leave a Reply