GK MCQ | Indian polity

Who among the following decides if a particular Bill is a Money Bill or not? / निम्नलिखित में से कौन तय करता है कि कोई विशेष विधेयक धन विधेयक है या नहीं?

Who among the following decides if a particular Bill is a Money Bill or not? / निम्नलिखित में से कौन तय करता है कि कोई विशेष विधेयक धन विधेयक है या नहीं?

(1) President / राष्ट्रपति
(2) Speaker of Lok Sabha / लोकसभा अध्यक्ष
(3) Chairman of Rajya Sabha / राज्य सभा के सभापति
(4) Finance Minister / वित्त मंत्री

(SSC Section Officer (Audit) Exam. 09.09.2001)

Answer / उत्तर : – 

(2) Speaker of Lok Sabha / लोकसभा अध्यक्ष

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

Under the Constitution, the Speaker enjoys a special position insofar as certain matters pertaining to the relations between the two Houses of Parliament are concerned. He certifies Money Bills and decides on money matters by reason of the Lok Sabha’s overriding powers in financial matters. It is the Speaker of the Lok Sabha who presides over joint sittings called in the event of disagreement between the two Houses on a legislative measure. As regards recognition of parliamentary parties it is the Speaker who lays down the necessary guidelines for such recognition. / जहां तक संसद के दोनों सदनों के बीच संबंधों से संबंधित कुछ मामलों का संबंध है, संविधान के तहत अध्यक्ष को एक विशेष स्थान प्राप्त है। वह धन विधेयकों को प्रमाणित करता है और वित्तीय मामलों में लोकसभा की अधिभावी शक्तियों के कारण धन के मामलों पर निर्णय लेता है। यह लोकसभा का अध्यक्ष होता है जो एक विधायी उपाय पर दोनों सदनों के बीच असहमति की स्थिति में बुलाई गई संयुक्त बैठकों की अध्यक्षता करता है। संसदीय दलों की मान्यता के संबंध में अध्यक्ष ही ऐसी मान्यता के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश निर्धारित करते हैं।

Similar Posts

Leave a Reply