Geography | GK | GK MCQ

With which crop has Green Revolution been associated ? / हरित क्रांति किस फसल से जुड़ी है?

With which crop has Green Revolution been associated ? / हरित क्रांति किस फसल से जुड़ी है?

 

(a) Rice / चावल
(b) Wheat / गेहूं
(c) Pulses / दलहन
(d) Sugarcane / गन्ना

(SSC CPO Sub-Inspector Exam. 16.12.2007)

Answer / उत्तर : – 

(b) Wheat / गेहूं

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

India is one of the main wheat producing and consuming countries of the world. After the Green Revolution in the 1970’s and 1980’s the production of wheat has shown a huge increase. The major States that are involved in the cultivation of wheat are those located in the plains like Uttar Pradesh, Punjab and Haryana. They account for nearly 70 per cent of the total wheat produced (External website that opens in a new window) in the country

The meaning of Green Revolution may be taken as, the adoption and diffusion of new seeds of wheat and rice has been considered as a significant achievement as it offered great optimism. In fact, these varieties of seeds have revolutionised the agricultural landscape of the developing countries and the problem of food shortage has been reduced.
  • “Civilization as it is known today could not have evolved, nor can it survive, without an adequate food supply.” – by Norman Borlaug (Father of Green Revolution in the world)
  • “Almost certainly, however, the first essential component of social justice is adequate food for all mankind”  –  by Norman Borlaug (Father of Green Revolution in the world)
Merits of the High Yielding Varieties (seeds)
  • Shorter Life Cycle
  • Economise on Irrigation Water
  • Generate more Employment
  • Easy to Adopt
  • New seeds are less resistant to droughts and floods and need an efficient management of water, chemical fertilisers, insecticides and pesticides
When the new seeds were diffused in the mid-sixties, it was expected that the problems of food shortage, unemployment, poverty, hunger, malnutrition, undernourishment, and regional inequalities will be largely solved. But these objectives could not be fully achieved.
  • Geographical Constraints- Soil fertility decreases; sugarcane,wheat and rice are soil exhaustive crop; rotation of crops decreases ,practice of fallowing (not planted trees in order to increase fertility to soil)  abandoned.
Environmental and Ecological Implications of Green Revolution
Environmental and ecological problems that emerged out of the cultivation of the High Yielding Varieties are
  • Depletion of forests, Deforestation
  • Salinization,
  • Water-logging,
  • Depletion of underground water-table,
  • Soil erosion,
  • Decline in soil fertility, (pollution)
  • Health hazards
  • Noise Pollution
Salinization
  • The continuous supply of moisture through irrigation during the summer and winter seasons have changed the soil chemistry. In the arid and semi-arid areas, owing to capillary action, the soils are becoming either acidic or alkaline.
  • The saline and alkaline affected tracts, locally known as kallar or thur in Punjab and kallar or reh in Uttar Pradesh have expanded and increased in area
  • According to one estimate, about 50 percent of the total arable land of Punjab and Haryana has been harmed by soluble salts.
Solution of salinization
  • The problem of salinity and alkalinity can be solved by use of manure  (cow-dung, compost, and green manure) and by a judicious selection of leguminous crops in the crop rotation.
  • Cultivation of salt tolerant crops like barley, sugar-beet, salt grass, asparagus, spinach , and tomato may also help to a great extent and may improve the fertility of such lands.
Waterlogging
  • Water-logging is the other major problem associated with over-irrigation . In all the canal irrigated areas of Punjab, Haryana, and western Uttar Pradesh, water-logging is a serious problem.
For Example:-
  • The Indira Gandhi Canal command area is a recent example in which water-logging is progressively becoming a serious menace to the arable land several thousand acres of productive agricultural land and pastures in the districts of Ganganagar, Bikaner, and jaisalmer (Rajasthan) have been submerged under water
  • progressive and ambitious cultivators of the irrigated areas of these districts have changed their cropping patterns and have introduced rice and wheat in place of bajra, pulses, cotton , and fodder. Repeated irrigation of these crops in the summer and winter seasons have resulted into waterlogged condition, especially along the canals.
Soil Erosion
  • Soil erosion is a universal phenomena. It may be observed to some extent in all parts of the country, its intensity, however, is more in the arid, semi-arid, and mountainous areas.
  • The presence of forests reduces the danger of soil erosion significantly. In recent years, the agricultural area has been expanded by indiscriminate felling of trees. The increase in the rate of soil erosion is not only damaging the agricultural lands, it is also affecting adversely the areas where the eroded soil is deposited.
Solution of Soil Erosion
  • In order to minimize the danger of soil erosion, afforestation is imperative. Moreover, the farmers should apply more manures and develop windbreakers in the desert areas.
  • Development of terraces in the hills, leveling of gullies, and contour ploughing in the hilly areas can also go a long way in reducing soil erosion.
Decline in soil fertility  (Pollution)
  • The High Yielding Varieties perform better if heavy doses of chemical fertiliser, insecticides, and pesticides are applied. Application of heavy doses, of these inputs destroy the micro-organisms which are so necessary to maintain the fertility of the soil.
Solution to overcome soil pollution
The use of manures in place of chemical fertilisers can go a long way in overcoming the problem of soil pollution
Lowering of the Underground Water-Table
  • The High Yielding Varieties of rice and wheat are water-relishing crops. The continuous lifting of water through tube-wells and pumping sets has lowered the water Table in the eastern districts of Haryana.
  • Many farmers have to lower their tube-wells in the years of inadequate monsoon rainfall. If the cropping pattern is not changed, and irrigation of rice and wheat continues at the present level, the underground water-table may not be sufficiently recharged and may get substantially depleted
  • In opposition to this, the underground water-table in western Haryana is rising as there is a gypsum layer in that part of the state which does not permit the percolation of water through this layer the water-table in the Jhajjar District of Haryana has risen significantly.
  • The crops of millets, bajra, arhar are damaged. In fact, people in this district pray for drought so that the waterlogged areas may be sown. Consequently, there are waterlogged conditions in several tracts in the western parts of Haryana. This rise in the water-table is resulting into capillary action, leading to the occurrence of saline and alkaline formations
Deforestation
  • There had been heavy felling of trees to bring the forest area under cultivation. In Punjab and Haryana, less than 5 percent of their area is under forest. This is affecting the environment and ecology adversely.
Noise Pollution
  • The change in the agricultural technology, the use of tractors, terracers, harvesters, threshers, and crushers have increased noise pollution which have disturbed the rural tranquility.
Health Hazards
  • Application of heavy doses of insecticides, pesticides, and chemical fertilisers are health hazards. The application of these poisons on vegetables, fruits and grasses are health hazards.
  • The Indian Council of Medical Research established that traces of lead, zinc and copper are found in the milk and vegetables on which the fertilisers, insecticides, and pesticides  are sprayed.
  • The recurrence of malaria in irrigated tracts of arid and semi-arid regions of Rajasthan and Punjab is the result of heavy irrigation and water-logged tracts along the canal which have become the breeding grounds for mosquitoes
Positive and Negative Impact of Green Revolution in india
Green Revolution Achievements and Benefits

The diffusion of High Yielding Varieties has transformed the rural landscape. The main achievements of Green Revolution may be summarized as under:

  • The production and productivity of wheat, rice, maize, and bajra has increased substantially.
  • India has become almost self sufficient in the matter of staple foods.
  • The double cropped area has increased, thereby intensification of the Indian agriculture has increased.
  • In the areas where Green Revolution is a success, the farmers have moved from subsistence to market oriented economy, especially in Punjab, Haryana, western Uttar Pradesh, and the plain districts of Uttarakhand (Haridwar and udham singh nagar.
  • The adoption of High Yielding Varieties under the Green Revolution has generated more rural and urban employment.
  • Green Revolution has increased the income of farmers and landless labourers, especially that of the big farmers and the semi-skilled rural workers. Thus Green Revolution has increased rural prosperity.
  • Green Revolution has created jobs in the areas of biological (seed fertilisers) innovations, and repair of agricultural equipments and machinery.
     

Although the Green Revolution had several benefits, there were also some issues associated with this period that affected both the environment and society. The use of chemical fertilizers and synthetic herbicides and pesticides dramatically influenced the environment by increasing pollution and erosion

  • Depletion of soil owing to the continuous cultivation of soil exhaustive crops like rice and wheat.
  • Depletion of underground water table due to over-irrigation of more moisture requiring crops like rice and wheat.
  • Green Revolution has increased the income disparity amongst the farmers.
  • Green Revolution led to polarisation of the rural society. It has created three types of conflicts in the rural community, namely, between large and small farmers, between owner and tenant farmers, between the employers and employees on agricultural farms.
  • Green Revolution has displaced the agricultural labourers, leading to rural unemployment. The mechanical innovations like tractors have displaced the agricultural labour.
  • Agricultural production in the Green Revolution areas is either stationary or has shown declining trend.
  • Some valuable agricultural lands have submerged under water {water-logging) or are adversely affected by salinity and alkalinity.
  • Green Revolution is crop specific. It could not perform well in the case of pulses and oilseeds.
  • The traditional institution of  Jajmani system has broken . Consequently, the barbers, carpenters, iron-smith, and watermen have migrated to the urban areas.
  • The soil texture, structure, soil chemistry, and soil fertility have changed.
  • About 60 per cent of agricultural land in the country remains unaffected by Green Revolution.
  • Green Revolution technologies are scale neutral but not resource neutral.
  •  Punjab feeds the nation but farmers in the state, especially in the Malwa region fall prey to cancer. They take ‘Cancer Train’ to Bikaner for cheap treatment.  ( due to pesticide use & growing pollution)
Second Green Revolution (2.0) in India 
The overall production of the cereal and non-cereal crops has reached almost the plateau stage. The growth rate of agricultural sector is only about two per cent. Looking at the growing demand of agricultural produce, there is an urgent need for undertaking agriculture to a higher trajectory of four per cent annual growth rate. In order to achieve these objectives, various governments have undertaken important steps towards agricultural reforms.
  • The Second Green Revolution is a change in agricultural production widely thought necessary to feed and sustain the growing population on Earth
  • These reforms aim at efficient use of resources and conservation of soil, water and ecology on a sustainable basis, and in holistic framework.
The main objectives of the second Green Revolution are:
  • To raise agricultural productivity to promote food security
  • More emphasis on bio-technology
  • To promote sustainable agriculture
  • To become self sufficient in staple food, pulses, oil seeds, and industrial raw material
  • To increase the per-capita income of the farmers and to raise their standard of living.
  • The holistic framework, thus,must incorporate financing of rural infrastructure such as irrigation, roads and power.
The Eleventh Five-Year Plan has aptly highlighted such a holistic framework and suggested the following strategy to raise agricultural output:
  • Attention has to be focused on areas such as rainfed, drought-prone crops, and drought resistant crops, and those amenable to biotechnological application
  • Improving water management, rainwater harvesting, and watershed development.
  • Reclaiming degraded land and focusing on soil quality.
  • Bridging the knowledge gap through effective extension.
  • Diversifying into high value outputs, e.g. fruits, vegetables, flowers, herbs and spices, medicinal plants, bamboo, bio-diesel, but with adequate measures to ensure food security.
  • Providing easy access to credit at affordable rate of interest.
  • Improving the incentive structure and functioning of markets

भारत विश्व के प्रमुख गेहूँ उत्पादक और उपभोग करने वाले देशों में से एक है। 1970 और 1980 में हरित क्रांति के बाद गेहूँ के उत्पादन में भारी वृद्धि हुई है। गेहूँ की खेती में शामिल प्रमुख राज्य उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा जैसे मैदानी इलाकों में स्थित हैं। वे देश में उत्पादित कुल गेहूं (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा हैं

हरित क्रांति का अर्थ इस रूप में लिया जा सकता है, गेहूं और चावल के नए बीजों को अपनाना और प्रसार करना एक महत्वपूर्ण उपलब्धि माना गया है क्योंकि इसने महान आशावाद की पेशकश की। वास्तव में, इन किस्मों के बीजों ने विकासशील देशों के कृषि परिदृश्य में क्रांति ला दी है और भोजन की कमी की समस्या कम हो गई है।

  • “सभ्यता जैसा कि आज ज्ञात है, पर्याप्त खाद्य आपूर्ति के बिना विकसित नहीं हो सकती थी और न ही यह जीवित रह सकती है।” – नॉर्मन बोरलॉग (दुनिया में हरित क्रांति के जनक) द्वारा
  • “लगभग निश्चित रूप से, हालांकि, सामाजिक न्याय का पहला आवश्यक घटक सभी मानव जाति के लिए पर्याप्त भोजन है” – नॉर्मन बोरलॉग (दुनिया में हरित क्रांति के पिता) द्वारा
अधिक उपज देने वाली किस्मों के गुण (बीज)
  • छोटा जीवन चक्र
  • सिंचाई के पानी पर मितव्ययिता
  • अधिक रोजगार उत्पन्न करें
  • अपनाने में आसान
  • नए बीज सूखे और बाढ़ के प्रति कम प्रतिरोधी होते हैं और उन्हें पानी, रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों और कीटनाशकों के कुशल प्रबंधन की आवश्यकता होती है।

जब साठ के दशक के मध्य में नए बीजों का प्रसार हुआ, तो यह उम्मीद की जा रही थी कि भोजन की कमी, बेरोजगारी, गरीबी, भूख, कुपोषण, अल्पपोषण और क्षेत्रीय असमानताओं की समस्याओं का काफी हद तक समाधान हो जाएगा। लेकिन इन उद्देश्यों को पूरी तरह हासिल नहीं किया जा सका।

  • भौगोलिक बाधाएं- मिट्टी की उर्वरता कम हो जाती है; गन्ना, गेहूं और चावल मिट्टी की संपूर्ण फसल हैं; फसलों का घूमना कम हो जाता है, गिरने की प्रथा (मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने के लिए पेड़ नहीं लगाए जाते) को छोड़ दिया जाता है।
हरित क्रांति के पर्यावरण और पारिस्थितिक प्रभाव

उच्च उपज देने वाली किस्मों की खेती से उत्पन्न होने वाली पर्यावरणीय और पारिस्थितिक समस्याएं हैं

  • वनों का क्षरण, वनों की कटाई
  • लवणीकरण,
  • जल भराव,
  • भूमिगत जल-स्तर का ह्रास,
  • मृदा अपरदन,
  • मिट्टी की उर्वरता में गिरावट, (प्रदूषण)
  • स्वास्थ्य ख़तरे
  • ध्वनि प्रदूषण
लवणीकरण
  • गर्मी और सर्दी के मौसम में सिंचाई के माध्यम से नमी की निरंतर आपूर्ति ने मिट्टी के रसायन को बदल दिया है। शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में, केशिका क्रिया के कारण, मिट्टी या तो अम्लीय या क्षारीय होती जा रही है।
    खारा और क्षारीय प्रभावित इलाकों, जिन्हें स्थानीय रूप से पंजाब में कल्लर या थुर के रूप में जाना जाता है और उत्तर प्रदेश में कल्लर या रेह क्षेत्र में विस्तार और वृद्धि हुई है।
  • एक अनुमान के अनुसार, पंजाब और हरियाणा की कुल कृषि योग्य भूमि का लगभग 50 प्रतिशत घुलनशील लवणों से क्षतिग्रस्त हो गया है।
लवणीकरण का समाधान
  • लवणता और क्षारीयता की समस्या को खाद (गोबर, खाद और हरी खाद) के उपयोग और फसल चक्र में फलीदार फसलों के विवेकपूर्ण चयन द्वारा हल किया जा सकता है।
  • जौ, चुकंदर, नमक घास, शतावरी, पालक और टमाटर जैसी नमक सहनशील फसलों की खेती से भी काफी हद तक मदद मिल सकती है और ऐसी भूमि की उर्वरता में सुधार हो सकता है।
जल भराव
  • जल-जमाव अति-सिंचाई से जुड़ी दूसरी बड़ी समस्या है। पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी नहर सिंचित क्षेत्रों में जल-जमाव एक गंभीर समस्या है।
    उदाहरण के लिए:-
  • इंदिरा गांधी नहर कमांड क्षेत्र एक हालिया उदाहरण है जिसमें जल-जमाव उत्तरोत्तर कृषि योग्य भूमि के लिए एक गंभीर खतरा बनता जा रहा है, गंगानगर, बीकानेर और जैसलमेर (राजस्थान) जिलों में कई हजार एकड़ उत्पादक कृषि भूमि और चारागाह जलमग्न हो गए हैं। पानी के नीचे
  • इन जिलों के सिंचित क्षेत्रों के प्रगतिशील और महत्वाकांक्षी किसानों ने अपने फसल पैटर्न को बदल दिया है और बाजरा, दलहन, कपास और चारे के स्थान पर चावल और गेहूं की शुरुआत की है। गर्मी और सर्दी के मौसम में इन फसलों की बार-बार सिंचाई करने से विशेष रूप से नहरों के किनारे जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है।
मृदा अपरदन
  • मृदा अपरदन एक सार्वभौमिक घटना है। यह देश के सभी भागों में कुछ हद तक देखा जा सकता है, हालांकि, इसकी तीव्रता शुष्क, अर्ध-शुष्क और पहाड़ी क्षेत्रों में अधिक है।
  • वनों की उपस्थिति मिट्टी के कटाव के खतरे को काफी कम कर देती है। हाल के वर्षों में, पेड़ों की अंधाधुंध कटाई से कृषि क्षेत्र का विस्तार हुआ है। मिट्टी के कटाव की दर में वृद्धि से न केवल कृषि भूमि को नुकसान हो रहा है, बल्कि उन क्षेत्रों पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है जहां पर मिट्टी का जमाव होता है।
मृदा अपरदन का समाधान
  • मृदा अपरदन के खतरे को कम करने के लिए वृक्षारोपण अनिवार्य है। इसके अलावा, किसानों को अधिक खाद डालना चाहिए और रेगिस्तानी क्षेत्रों में विंडब्रेकर विकसित करना चाहिए।
  • पहाड़ियों में छतों का विकास, नालियों को समतल करना और पहाड़ी क्षेत्रों में समोच्च जुताई भी मिट्टी के कटाव को कम करने में एक लंबा रास्ता तय कर सकती है।
मिट्टी की उर्वरता में गिरावट  (प्रदूषण)
  • यदि रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों और कीटनाशकों की भारी मात्रा में उपयोग किया जाए तो उच्च उपज देने वाली किस्में बेहतर प्रदर्शन करती हैं। इनमें से अधिक मात्रा में उपयोग करने से सूक्ष्म जीव नष्ट हो जाते हैं जो मिट्टी की उर्वरता को बनाए रखने के लिए आवश्यक होते हैं।
मृदा प्रदूषण दूर करने का उपाय

मृदा प्रदूषण की समस्या पर काबू पाने में रासायनिक उर्वरकों के स्थान पर खाद का प्रयोग काफी मददगार साबित हो सकता है

भूमिगत जल तालिका का कम होना
  • चावल और गेहूं की उच्च उपज देने वाली किस्में पानी से भरपूर फसलें हैं। नलकूपों और पम्पिंग सेटों के माध्यम से लगातार पानी उठाने से हरियाणा के पूर्वी जिलों में जल स्तर कम हो गया है।
  • अपर्याप्त मानसून वर्षा के वर्षों में कई किसानों को अपने नलकूपों को कम करना पड़ता है। यदि फसल पैटर्न नहीं बदला जाता है, और चावल और गेहूं की सिंचाई वर्तमान स्तर पर जारी रहती है, तो भूमिगत जल स्तर पर्याप्त रूप से रिचार्ज नहीं हो सकता है और काफी हद तक समाप्त हो सकता है।
  • इसके विरोध में पश्चिमी हरियाणा में भूमिगत जल स्तर बढ़ रहा है क्योंकि राज्य के उस हिस्से में जिप्सम परत है जो इस परत के माध्यम से पानी के रिसने की अनुमति नहीं देती है, हरियाणा के झज्जर जिले में जल स्तर बढ़ गया है। महत्वपूर्ण रूप से।
  • बाजरा, बाजरा, अरहर की फसल को नुकसान पहुंचा है। दरअसल, इस जिले के लोग सूखे की प्रार्थना करते हैं ताकि जलजमाव वाले इलाकों में बुवाई हो सके. नतीजतन, हरियाणा के पश्चिमी हिस्सों में कई इलाकों में जलभराव की स्थिति है। जल-स्तर में इस वृद्धि के परिणामस्वरूप केशिका क्रिया होती है, जिससे खारा और क्षारीय संरचनाओं की घटना होती है
वनों की कटाई
  • वन क्षेत्र को खेती के दायरे में लाने के लिए पेड़ों की भारी कटाई हुई थी। पंजाब और हरियाणा में, उनका 5 प्रतिशत से भी कम क्षेत्र वन के अधीन है। यह पर्यावरण और पारिस्थितिकी पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है।
ध्वनि प्रदूषण
  • कृषि प्रौद्योगिकी में परिवर्तन, ट्रैक्टर, टेरेस, हार्वेस्टर, थ्रेशर और क्रशर के उपयोग ने ध्वनि प्रदूषण में वृद्धि की है जिसने ग्रामीण शांति को भंग कर दिया है।
स्वास्थ्य ख़तरे
  • कीटनाशकों, कीटनाशकों और रासायनिक उर्वरकों की भारी खुराक का उपयोग स्वास्थ्य के लिए खतरा है। सब्जियों, फलों और घासों पर इन जहरों का प्रयोग स्वास्थ्य के लिए खतरा है।
  • इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने स्थापित किया कि दूध और सब्जियों में सीसा, जस्ता और तांबे के निशान पाए जाते हैं जिन पर उर्वरक, कीटनाशक और कीटनाशक का छिड़काव किया जाता है।
  • राजस्थान और पंजाब के शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों के सिंचित इलाकों में मलेरिया की पुनरावृत्ति नहर के किनारे भारी सिंचाई और जल-जमाव वाले इलाकों का परिणाम है जो मच्छरों के प्रजनन स्थल बन गए हैं।
भारत में हरित क्रांति के सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव
हरित क्रांति की उपलब्धियां और लाभ

अधिक उपज देने वाली किस्मों के प्रसार ने ग्रामीण परिदृश्य को बदल दिया है। हरित क्रांति की मुख्य उपलब्धियों को संक्षेप में निम्नानुसार किया जा सकता है:

  • गेहूं, चावल, मक्का और बाजरा के उत्पादन और उत्पादकता में काफी वृद्धि हुई है।
  • प्रधान खाद्य पदार्थों के मामले में भारत लगभग आत्मनिर्भर हो गया है।
  • डबल फसली क्षेत्र में वृद्धि हुई है, जिससे भारतीय कृषि की तीव्रता में वृद्धि हुई है।
  • जिन क्षेत्रों में हरित क्रांति सफल रही है, वहां किसान निर्वाह से बाजारोन्मुख अर्थव्यवस्था की ओर चले गए हैं, विशेषकर पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मैदानी जिलों (हरिद्वार और उधम सिंह नगर) में।
  • हरित क्रांति के तहत उच्च उपज देने वाली किस्मों को अपनाने से अधिक ग्रामीण और शहरी रोजगार पैदा हुए हैं।
  • हरित क्रांति ने किसानों और भूमिहीन मजदूरों, विशेष रूप से बड़े किसानों और अर्ध-कुशल ग्रामीण श्रमिकों की आय में वृद्धि की है। इस प्रकार हरित क्रांति ने ग्रामीण समृद्धि को बढ़ाया है।
  • हरित क्रांति ने जैविक (बीज उर्वरक) नवाचारों और कृषि उपकरणों और मशीनरी की मरम्मत के क्षेत्रों में रोजगार पैदा किया है।
हरित क्रांति के नकारात्मक प्रभाव और समस्याएं और संभावनाएं
हरित क्रांति के प्रमुख प्रतिकूल प्रभाव क्या हैं?

हालांकि हरित क्रांति के कई लाभ थे, लेकिन इस अवधि से जुड़े कुछ मुद्दे ऐसे भी थे जिन्होंने पर्यावरण और समाज दोनों को प्रभावित किया। रासायनिक उर्वरकों और सिंथेटिक जड़ी-बूटियों और कीटनाशकों के उपयोग ने प्रदूषण और क्षरण को बढ़ाकर पर्यावरण को नाटकीय रूप से प्रभावित किया

  • चावल और गेहूँ जैसी संपूर्ण फ़सलों की निरंतर खेती के कारण मिट्टी का ह्रास।
    चावल और गेहूं जैसी अधिक नमी की आवश्यकता वाली फसलों की अधिक सिंचाई के कारण भूमिगत जल स्तर का ह्रास।
  • हरित क्रांति ने किसानों के बीच आय असमानता को बढ़ा दिया है।
  • हरित क्रांति के कारण ग्रामीण समाज का ध्रुवीकरण हुआ। इसने ग्रामीण समुदाय में तीन तरह के संघर्ष पैदा किए हैं, बड़े और छोटे किसानों के बीच, मालिक और काश्तकार किसानों के बीच, कृषि फार्मों पर मालिकों और कर्मचारियों के बीच।
  • हरित क्रांति ने खेतिहर मजदूरों को विस्थापित कर दिया है, जिससे ग्रामीण बेरोजगारी बढ़ रही है। ट्रैक्टर जैसे यांत्रिक नवाचारों ने कृषि श्रमिकों को विस्थापित कर दिया है।
  • हरित क्रांति क्षेत्रों में कृषि उत्पादन या तो स्थिर है या इसमें गिरावट की प्रवृत्ति दिखाई गई है।
    कुछ मूल्यवान कृषि भूमि जलमग्न हो गई है (जल-जमाव) या लवणता और क्षारीयता से प्रतिकूल रूप से प्रभावित है।
  • हरित क्रांति फसल विशिष्ट है। दलहन और तिलहन के मामले में यह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सका।
    जजमानी व्यवस्था की पारंपरिक संस्था टूट चुकी है। नतीजतन, नाई, बढ़ई, लोहार और पानी पीने वाले शहरी क्षेत्रों में चले गए हैं।
  • मिट्टी की बनावट, संरचना, मृदा रसायन और मिट्टी की उर्वरता बदल गई है।
  • देश में लगभग 60 प्रतिशत कृषि भूमि हरित क्रांति से अप्रभावित है।
  • हरित क्रांति प्रौद्योगिकियां पैमाने पर तटस्थ हैं लेकिन संसाधन तटस्थ नहीं हैं।
  • पंजाब देश का पेट भरता है लेकिन राज्य के किसान, खासकर मालवा क्षेत्र के किसान कैंसर के शिकार हो जाते हैं। वे सस्ते इलाज के लिए ‘कैंसर ट्रेन’ को बीकानेर ले जाते हैं। (कीटनाशकों के उपयोग और बढ़ते प्रदूषण के कारण)
भारत में दूसरी हरित क्रांति (2.0) 

अनाज और गैर-अनाज फसलों का कुल उत्पादन लगभग पठारी स्तर पर पहुंच गया है। कृषि क्षेत्र की विकास दर महज दो फीसदी है। कृषि उपज की बढ़ती मांग को देखते हुए, कृषि को चार प्रतिशत वार्षिक विकास दर के उच्च पथ पर ले जाने की तत्काल आवश्यकता है। इन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, विभिन्न सरकारों ने कृषि सुधारों की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।

  • दूसरी हरित क्रांति कृषि उत्पादन में बदलाव है जिसे व्यापक रूप से पृथ्वी पर बढ़ती आबादी को खिलाने और बनाए रखने के लिए आवश्यक माना जाता है
  • इन सुधारों का उद्देश्य संसाधनों का कुशल उपयोग और स्थायी आधार पर और समग्र ढांचे में मिट्टी, पानी और पारिस्थितिकी का संरक्षण करना है।
दूसरी हरित क्रांति के मुख्य उद्देश्य हैं:
  • खाद्य सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए
  • जैव-प्रौद्योगिकी पर अधिक जोर
  • टिकाऊ कृषि को बढ़ावा देने के लिए
  • मुख्य भोजन, दालें, तिलहन और औद्योगिक कच्चे माल में आत्मनिर्भर बनने के लिए
  • किसानों की प्रति व्यक्ति आय बढ़ाने और उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए।
  • इस प्रकार, समग्र ढांचे में सिंचाई, सड़क और बिजली जैसे ग्रामीण बुनियादी ढांचे के वित्तपोषण को शामिल करना चाहिए।
ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना ने इस तरह के समग्र ढांचे को उपयुक्त रूप से उजागर किया है और कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए निम्नलिखित रणनीति का सुझाव दिया है:
  • बारानी, ​​सूखा प्रवण फसलों और सूखा प्रतिरोधी फसलों और जैव प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों के लिए उपयुक्त क्षेत्रों जैसे क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करना होगा।
  • जल प्रबंधन में सुधार, वर्षा जल संचयन और वाटरशेड विकास।
  • निम्नीकृत भूमि को पुनः प्राप्त करना और मिट्टी की गुणवत्ता पर ध्यान देना।
  • प्रभावी विस्तार के माध्यम से ज्ञान की खाई को पाटना।
  • उच्च मूल्य वाले आउटपुट में विविधता लाना, उदा. फल, सब्जियां, फूल, जड़ी-बूटियां और मसाले, औषधीय
  • पौधे, बांस, बायो-डीजल, लेकिन खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त उपायों के साथ।
  • किफ़ायती ब्याज़ दर पर ऋण तक आसान पहुँच प्रदान करना।
  • बाजारों की प्रोत्साहन संरचना और कामकाज में सुधार

Similar Posts

Leave a Reply