| |

The joint river valley venture of India and Nepal is / भारत और नेपाल का संयुक्त नदी घाटी उद्यम है

The joint river valley venture of India and Nepal is / भारत और नेपाल का संयुक्त नदी घाटी उद्यम है

 

(1) Gomati / गोमती
(2) Chambal / चंबली
(3) Damodar / दामोदर
(4) Kosi / कोसी

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 05.05.2002)

Answer / उत्तर : – 

(4) Kosi / कोसी

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

 

Immediately after independence, policy planners sought a solution to the recurring flood menace faced by people of North Bihar from the Kosi and other rivers flowing from Nepal to India. The Kosi project was thus conceptualized (based on investigations between 1946 to 1955), in three continuous interlinked stages. The third part envisaged a high multipurpose dam within Nepal at Barakshetra to provide substantial flood cushion along with large irrigation and power benefits to both countries.

Kosi River is a tributary of the Ganges, which originates from the mountains of Nepal and flows into Nepal and Bihar and joins the Ganges near Rajmahal (Bihar). It is also called the mourning of Bihar. This river flows through Nepal and northern India. The river, along with its tributaries, drains the eastern third of Nepal and parts of Tibet, including the region around Mount Everest. Some of its initial streams originate from Tibet across the border of Nepal. About 48 km north of the Indo-Nepal border, the Kosi meets several major tributaries and turns south through the narrow Chhatra Mahakhad through the Shivalik hills. After this, the Kosi river descends in the vast plains of North India in Bihar and moves towards the Ganges, where it meets the Ganges south of Purnia after a journey of about 724 km. The Kosi does not have any permanent stream of its own in the vast plains of northern India due to the continuous accumulation of huge amount of debris.

स्वतंत्रता के तुरंत बाद, नीति नियोजकों ने कोसी और नेपाल से भारत की ओर बहने वाली अन्य नदियों से उत्तरी बिहार के लोगों के सामने आने वाली बाढ़ की समस्या का समाधान मांगा। इस प्रकार कोसी परियोजना की अवधारणा (1946 से 1955 के बीच की जांच के आधार पर) तीन निरंतर परस्पर जुड़े हुए चरणों में की गई थी। तीसरे भाग में दोनों देशों को बड़ी सिंचाई और बिजली लाभ के साथ-साथ पर्याप्त बाढ़ कुशन प्रदान करने के लिए बाराक्षेत्र में नेपाल के भीतर एक उच्च बहुउद्देश्यीय बांध की परिकल्पना की गई थी।

कोसी नदी गंगा की सहायक नदी है, जो नेपाल के पहाड़ों से निकल कर नेपाल और बिहार में बहती हुई राजमहल (बिहार) के निकट गंगा में मिल जाती है। इसे बिहार का शोक भी कहा जाता है। यह नदी नेपाल और उत्तरी भारत में बहती है। यह नदी अपनी सहायक नदियों के साथ कोसी नेपाल के पूर्वी तीसरे हिस्से व तिब्बत के कुछ हिस्से को अपवाहित करती है, जिसमें माउंट एवरेस्ट के आसपास का क्षेत्र शामिल हैं। इसकी कुछ प्रारंभिक धाराएँ नेपाल की सीमा के पार तिब्बत से निकलती है। भारत-नेपाल सीमा से लगभग 48 किमी उत्तर में कोसी में कई प्रमुख सहायक नदियाँ मिलती हैं और यह संकरे छत्र महाखड्ड से शिवालिक की पहाड़ियों से होते हुए दक्षिण दिशा में मुड़ जाती है। इसके बाद कोसी नदी उत्तर भारत के विशाल मैदान में बिहार में अवतरित होकर गंगा नदी की ओर बढ़ती है, जहाँ यह लगभग 724 किमी की यात्रा के बाद पूर्णिया के दक्षिण में गंगा से मिलती है। लगातार भारी मात्रा में मलबा बहाकर जमा करते रहने के कारण उत्तरी भारत के विशाल मैदान में कोसी की अपनी कोई स्थायी धारा नहीं है।

 

Similar Posts

Leave a Reply