| |

There was a substantial increase in food grains production specially wheat production during the period after: / इस अवधि के बाद विशेष रूप से गेहूं के उत्पादन में खाद्यान्न उत्पादन में पर्याप्त वृद्धि हुई:

There was a substantial increase in food grains production specially wheat production, during the period after / बाद की अवधि के दौरान खाद्यान्न उत्पादन विशेष रूप से गेहूं उत्पादन में पर्याप्त वृद्धि हुई थी

 

(1) 1954
(2) 1964
(3) 1965
(4) 1966

(SSC CPO Sub-Inspector Exam. 12.12.2010)

Answer / उत्तर : – 

(4) 1966

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

he introduction of high-yielding varieties of Indian seeds after 1965 and the increased use of fertilizers and irrigation are known collectively as the Indian Green Revolution, which provided the increase in production needed to make India self-sufficient in food grains. The programme was started with the help of the United States-based Rockefeller Foundation and was based on high-yielding varieties of wheat, rice, and other grains that had been developed in Mexico and in the Philippines. The major benefits of the Green Revolution in India were experienced mainly in northern and northwestern India between 1965 and the early 1980s; the programme resulted in a substantial increase in the production of food grains, mainly wheat and rice. Food-grain yields continued to increase throughout the 1980s.

With the harvesting of Kharif crops, farmers start preparing for Rabi crops. Wheat crop is one of the main Rabi crops, so farmers can get good production by taking care of few things. India has achieved achievement in wheat production in the last four decades. Wheat production has increased from just 12.26 million tonnes in 1964-65 to a historic peak of 107.18 million tonnes in 2019-20. In order to provide food and nutritional security to the population of India, there is a need for continuous increase in the production and productivity of wheat. According to an estimate, by the year 2025, the population of India will be around 1.4 billion and for this the estimated demand of wheat by the year 2025 will be about 117 million tonnes. To achieve this goal, new technologies will have to be developed. Maximum production capacity can be obtained by developing new varieties and testing them under high fertility conditions.

The northern Ganges-Indus plains are the most fertile and most wheat producing regions of the country. The main wheat producing states in this region are Punjab, Haryana, Delhi, Rajasthan (except Kota and Udaipur divisions), western Uttar Pradesh, Terai region of Uttarakhand, Jammu and Kathua districts of Jammu and Kashmir and Una district and Paonta valley of Himachal Pradesh. Huh. Wheat is cultivated in this region on an area of ​​about 12.33 million hectares and about 57.83 million tonnes of wheat is produced. The average productivity of wheat in this area is about 44.50 qtl/ha, whereas in front line demonstrations of wheat conducted at farmers’ fields, a yield of 51.85 qtl/ha can be achieved by adopting the recommended wheat technologies. Improved wheat varieties HD 3086 and HD 2967 are being widely sown in this area since last few years, but replacement of these varieties with high yielding potential and disease resistant varieties DBW 187, DBW 222 and HD 3226 etc. has been widely publicized.

Select these improved species for more production

The choice of varieties is an important decision in wheat cultivation which determines the yield. Always choose new, disease resistant and high yielding varieties. For irrigated and early sowing, DBW 303, WH 1270, PBW 723 and for irrigated and late sowing DBW 173, DBW 71, PBW 771, WH 1124, DBW 90 and HD 3059 can be sown. Whereas HD 3298 variety has been identified for delayed sowing. WH 1142 variety can be adopted for limited irrigation and timely sowing.

Sowing time, seed rate and right amount of fertilizer

While preparing the field 15-20 days before sowing of wheat, the fertility of the soil increases by using cow dung at the rate of 4-6 ton/acre. The sowing time, seed rate and chemical fertilizers recommended for the northern Ganges-Indus plains are given in the table.

Nutrition Management in High Fertility

In recent years, new varieties of wheat have been tested under high fertility conditions by increasing the quantity of manure by 10-15 ton/ha and chemical fertilizers by one and a half times and increasing the sowing time from October 25 to October 31. Trials were conducted between them, the results of which have been very encouraging. In these trials, two times the growth inhibitor chloramiquat (0.2) + propiconol (0.1) was sprayed at 40 and 75 days after sowing of wheat to inhibit vegetative growth and promote more vegetative growth. Wheat crop can be saved from falling due to high growth.

Sowing with zero tillage and turbo happy seeder

Sowing of wheat with zero tillage technique is an effective and profitable technique in paddy-wheat cropping system. With this technique, wheat is sown without plowing with zero till drill machine using the conserved moisture in the soil after harvesting of paddy. Where the harvesting of paddy is delayed, this machine is proving to be very effective. This machine is also of great utility in waterlogged areas. It is the most effective and efficient method of crop residue management of paddy. Sowing wheat by this method gives equal or more yield than conventional sowing and the crop does not fall. By keeping the crop residue on the surface, the moisture in the root zone of the plants is preserved for a longer time, due to which the increase in temperature does not adversely affect the yield and weeds are also reduced.

Irrigation management is essential in wheat cultivation

Wheat crop requires 5-6 irrigations for high yield. Irrigation should be done according to the availability of water, type of soil and requirement of plants. There are three stages in the life cycle of wheat crop such as Chanderi rooting (21 days), first knot formation (65 days) and grain formation (85 days) on which irrigation is essential. If sufficient quantity of water is available for irrigation, first irrigation should be done on 21 days and then five irrigations should be given at 20 days interval. New irrigation techniques like sprinkler method or seepage method are also quite suitable for wheat cultivation. They have been used since long in low water areas. But by adopting these techniques even in areas with water abundance, water can be stored and good yield can be obtained. Grants are also being given in the form of subsidy by the Central and State Governments on these techniques of irrigation. Farmers should also fulfill the national responsibility of irrigation water management by taking advantage of these schemes.

weed management

For control of narrow leaf (Mandusi/Kanaki/Gulli danda, wild oats, fox grass) weeds in wheat crop, apply Clodinafop 15 WP 160 gm or Finoxaden 5 EC 400 ml or Finoxaprop 10 EC 400 ml per acre. If there is a problem of broad leaf (Bathua, Kharbathu, Wild Spinach, Myna, Maitha, Sonchal/Malwa, Makoy, Hirankhuri, Kandai, Krishnanil, Pyaji, Chatri-Matri) weeds, then Metsulfuron 20 WP 8 gm or Carfentrazone 40 WDG 20 gm Or use 2,4 D 38 EC @ 500 ml per acre.

Disease and Pest Management

Grow only approved latest disease and pest resistant varieties. Use a balanced amount of nitrogen fertilizer.

Use certified seed for management of seed borne infestation. Treat the seeds with Carboxin (75 WP) or Carbendazim (50 WP) @ 2.5 g/kg.

On confirmation of yellow rust disease, spraying should be done by making a solution of 0.1 percent (1.0 ml / l) of a drug called propiconazole (25 EC) or tebuconazole (250 EC). Spray one acre of land by dissolving 200 ml of the drug in 200 liters of water.

If necessary, re-spraying at an interval of 15-20 days depending on the outbreak and spread of the disease. If symptoms of powdery acetic disease are seen, a spray of 0.1 percent (1.0 ml/l) of a drug called Leu propiconazole (25 EC) should be done in the affected area at the time of seedling of the plants.

For Karnal bunt management, spraying of 0.1 percent (1.0 ml/l) of a drug called propiconazole (25 EC) can be done at the time of ear buds.

Spray Imidacloprid 200 SL (17.8: w/w) @ 40 ml/acre when the number of mahu crosses the economic damage level (ETL 10-15 mahu per shoot).

Correct way of harvesting and storage

When the wheat grains become hard after ripening and the moisture content is less than 20 percent, then harvesting, threshing and milling can be done simultaneously with the combine harvester. About 70-80 quintals/ha yield can be obtained by using the latest high yielding varieties. Dry the grains thoroughly before storage so that the average moisture content reaches a safe level of 10-12 per cent. The damage of medium pests can also be avoided by separating the broken and mutilated grains. For storing grain, bins (silos and cisterns) made of GI sheet should be used and to avoid insects, keep one tablet of aluminum phosphide in about 10 quintals of grain.

उन्होंने 1965 के बाद भारतीय बीजों की अधिक उपज देने वाली किस्मों की शुरुआत की और उर्वरकों और सिंचाई के बढ़ते उपयोग को सामूहिक रूप से भारतीय हरित क्रांति के रूप में जाना जाता है, जिसने भारत को खाद्यान्न में आत्मनिर्भर बनाने के लिए आवश्यक उत्पादन में वृद्धि प्रदान की। यह कार्यक्रम संयुक्त राज्य अमेरिका स्थित रॉकफेलर फाउंडेशन की मदद से शुरू किया गया था और यह गेहूं, चावल और अन्य अनाज की उच्च उपज वाली किस्मों पर आधारित था जो मैक्सिको और फिलीपींस में विकसित किए गए थे। भारत में हरित क्रांति के प्रमुख लाभ मुख्य रूप से उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी भारत में 1965 और 1980 के दशक के प्रारंभ में अनुभव किए गए; इस कार्यक्रम के परिणामस्वरूप खाद्यान्न, मुख्य रूप से गेहूं और चावल के उत्पादन में पर्याप्त वृद्धि हुई। 1980 के दशक के दौरान खाद्यान्न की पैदावार में वृद्धि जारी रही।

खरीफ फसलों की कटाई के साथ ही किसान रबी फसलों की तैयारी शुरू कर देते हैं। गेहूं की फसल रबी की प्रमुख फसलों से एक है, इसलिए किसान कुछ बातों का ध्यान रखकर अच्छा उत्पादन पा सकते हैं। भारत ने पिछले चार दशकों में गेहूं उत्पादन में उपलब्धि हासिल की है। गेहूं का उत्पादन साल 1964-65 में जहां सिर्फ 12.26 मिलियन टन था, जो बढ़कर साल 2019-20 में 107.18 मिलियन टन के एक ऐतिहासिक उत्पादन शिखर पर पहुंच गया है। भारत की जनसंख्या को खाद्य एवं पोषण सुरक्षा प्रदान करने के लिए गेहूँ के उत्पादन व उत्पादकता में निरन्तर वृद्धि की आवश्यकता है। एक अनुमान के अनुसार वर्ष 2025 तक भारत की आबादी लगभग 1.4 बिलियन होगी और इसके लिए वर्ष 2025 तक गेहूं की अनुमानित मांग लगभग 117 मिलियन टन होगी। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए नई तकनीकियाँ विकसित करनी होगी। नई किस्मों का विकास तथा उनका उच्च उर्वरता की दशा में परीक्षण से अधिकतम उत्पादन क्षमता प्राप्त की जा सकती है।

उत्तरी गंगा-सिंधु के मैदानी क्षेत्र देश के सबसे उपजाऊ और गेहूं के सर्वाधिक उत्पादन वाले क्षेत्र हैं। इस क्षेत्र में गेहूं के मुख्य उत्पादक राज्य जैसे पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान (कोटा व उदयपुर सम्भाग को छोड़कर) पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के तराई क्षेत्र, जम्मू कश्मीर के जम्मू व कठुआ जिले व हिमाचल प्रदेश का ऊना जिला व पोंटा घाटी शामिल हैं। इस क्षेत्र में लगभग 12.33 मिलियन हैक्टेयर क्षेत्रफल पर गेहूं की खेती की जाती है और लगभग 57.83 मिलियन टन गेहूं का उत्पादन होता है। इस क्षेत्र में गेहूं की औसत उत्पादकता लगभग 44.50 कुंतल/हैक्टेयर है, जबकि किसानों के खेतों पर आयोजित गेहूं के अग्रिम पंक्ति प्रदर्शनों में गेहूं की अनुशंसित प्रौद्योगिकियों को अपनाकर 51.85 कुंतल/हैक्टेयर की उपज प्राप्त की जा सकता है। पिछले कुछ वर्षों से इस क्षेत्र में गेहूं की उन्नत किस्में एचडी 3086 व एचडी 2967 की बुवाई व्यापक रूप से की जा रही है, लेकिन इन किस्मों के प्रतिस्थापन के लिए उच्च उत्पादन क्षमता और रोग प्रतिरोधी किस्में डीबीडब्ल्यू 187, डीबीडब्ल्यू 222 और एचडी 3226 आदि प्रजातियों को बड़े स्तर पर प्रचारित-प्रसारित किया गया है।

अधिक उत्पादन के लिए करें इन उन्नत प्रजातियों का चयन

गेहूं की खेती में किस्मों का चुनाव एक महत्वपूर्ण निर्णय है जो यह निर्धारित करता है कि उपज कितनी होगी। हमेशा नई, रोगरोधी व उच्च उत्पादन क्षमता वाली किस्मों का चुनाव करना चाहिए। सिंचित व समय से बीजाई के लिए डीबीडब्ल्यू 303, डब्ल्यूएच 1270, पीबीडब्ल्यू 723 और सिंचित व देर से बुवाई के लिए डीबीडब्ल्यू 173, डीबीडब्ल्यू 71, पीबीडब्ल्यू 771, डब्ल्यूएच 1124, डीबीडब्ल्यू 90 व एचडी 3059 की बुवाई कर सकते हैं। जबकि अधिक देरी से बुवाई के लिए एचडी 3298 किस्म की पहचान की गई है। सीमित सिंचाई व समय से बुवाई के लिए डब्ल्यूएच 1142 किस्म को अपनाया जा सकता है।

बुवाई का समय, बीज दर व उर्वरक की सही मात्रा

गेहूं की बुवाई करने से 15-20 दिन पहले पहले खेत तैयार करते समय 4-6 टन/एकड़ की दर से गोबर की खाद का प्रयोग करने से मृदा की उर्वरा शक्ति बढ़ जाती है। उत्तरी गंगा-सिंधु के मैदानी क्षेत्र के लिए गेहूं की बुवाई का समय, बीज दर और रासायनिक उर्वरकों की सिफारिश तालिका में दी गई है।

उच्च उर्वरता की दशा में पोषण प्रबंधन

हाल के वर्षों में गेहूं की नई किस्मों को उच्च उर्वरता की दशा में परीक्षण किए गए हैं, जिसमें गोबर की खाद की मात्रा 10-15 टन/हैक्टेयर और रसायनिक उर्वरकों की मात्रा को डेढ़ गुणा बढ़ाकर तथा बीजाई के समय को 25 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच रखकर परीक्षण किए गए, जिनके परिणाम काफी उत्साहवर्धक रहे हैं। इन परीक्षणों में गेहूं की बुजाई के 40 व 75 दिन बाद दो बार वृद्धि अवरोधक क्लोरमिक्वाट (0.2) $ प्रोपीकोनॉल (0.1) का छिड़काव भी किया गया है ताकि वानस्पतिक वृद्धि को रोका जा सके और ज्यादा फुटाव को बढ़ावा मिल सके। अधिक बढ़वार के कारण गेहूँ की फसल को गिरने से बचाया जा सके।

जीरो टिलेज व टर्बो हैप्पी सीडर से बुवाई

धान-गेहूं फसल पद्धति में जीरो टिलेज तकनीक से गेहूं की बुवाई एक कारगर और लाभदायक तकनीक है। इस तकनीक से धान की कटाई के बाद जमीन में संरक्षित नमी का उपयोग करते हुए जीरो टिल ड्रिल मशीन से गेहूं की बीजाई बिना जुताई के ही की जाती है। जहां पर धान की कटाई देरी से होती है वहां पर यह मशीन काफी कारगर सिद्ध हो रही है। जल भराव वाले क्षेत्रों में भी इस मशीन की काफी उपयोगिता है। यह धान के फसल अवशेष प्रबंधन की सबसे प्रभावी और दक्ष विधि है। इस विधि से गेहूं की बुवाई करने से पारंपरिक बुवाई की तुलना में बराबर या अधिक उपज मिलती है और फसल गिरती नही है। फसल अवशेषों को सतह पर रखने से पौधों के जड़ क्षेत्र में नमी अधिक समय तक संरक्षित रहती है, जिसके कारण तापमान में वृद्धि का प्रतिकूल प्रभाव उपज पर नही पड़ता है और खरपतवार भी कम होते हैं।

गेहूं की खेती में सिंचाई प्रबंधन है जरूरी

अधिक उपज के लिए गेहूं की फसल को पांच-छह सिंचाई की जरूरत होती है। पानी की उपलब्धता, मिट्टी के प्रकार और पौधों की आवश्यकता के हिसाब से सिंचाई करनी चाहिए। गेहूं की फसल के जीवन चक्र में तीन अवस्थाएं जैसे चंदेरी जड़े निकलना (21 दिन), पहली गांठ बनना (65 दिन) और दाना बनना (85 दिन) ऐसी हैं, जिन पर सिंचाई करना अतिआवश्यक है। यदि सिचाई के लिए जल पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो तो पहली सिंचाई 21 दिन पर इसके बाद 20 दिन के अंतराल पर अन्य पांच सिंचाई करें। नई सिंचाई तकनीकों जैसे फव्वारा विधि या टपका विधि भी गेहूं की खेती के लिए काफी उपयुक्त है। कम पानी क्षेत्रों में इनका प्रयोग बहुत पहले से होता आ रहा है। लेकिन जल की बाहुलता वाले क्षेत्रों में भी इन तकनीकों को अपनाकर जल का संचय किया जा सकता है और अच्छी उपज ली जा सकती है। सिंचाई की इन तकनीकों पर केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा सब्सिडी के रूप में अनुदान भी दिया जा रहा है। किसान भाईयों को इन योजनाओं का लाभ लेकर सिंचाई जल प्रबंधन के राष्ट्रीय दायित्व का भी निर्वहन करना चाहिए।

खरपतवार प्रबंधन

गेहूं की फसल में संकरी पत्ती (मंडूसी/कनकी/गुल्ली डंडा, जंगली जई, लोमड़ घास) वाले खरपतवारों के नियंत्रण के लिए क्लोडिनाफॉप 15 डब्ल्यूपी 160 ग्राम या फिनोक्साडेन 5 ईसी 400 मिलीलीटर या फिनोक्साप्रॉप 10 ईसी 400 मिलीलीटर प्रति एकड़ की दर प्रयोग करें। यदि चौड़ी पत्ती (बथुआ, खरबाथु, जंगली पालक, मैना, मैथा, सोंचल/मालवा, मकोय, हिरनखुरी, कंडाई, कृष्णनील, प्याजी, चटरी-मटरी) वाले खरपतवारों की समस्या हो तो मेटसल्फ्यूरॉन 20 डब्ल्यूपी 8 ग्राम या कारफेन्ट्राजोन 40 डब्ल्यूडीजी 20 ग्राम या 2,4 डी 38 ईसी 500 मिलीलीटर प्रति एकड़ की दर से प्रयोग करें।

रोग और कीट प्रबंधन

अनुमोदित नवीनतम रोग व कीट प्रतिरोधी प्रजातियों को ही उगाएं। नत्रजन उर्वरक का संतुलित मात्रा में उपयोग करें।

बीज जनित संक्रमण के प्रबंधन के लिए प्रमाणित बीज का प्रयोग करें। बीजों को कार्बोक्सिन (75 डब्ल्यूपी) या कार्बेन्डाजीम (50 डब्ल्यूपी) से 2.5 ग्राम/किलोग्राम की दर से उपचारित करें।

पीला रतुआ रोग की पुष्टि होने पर प्राॅपीकोनाजोल (25 ईसी) या टेब्यूकोनाजोल (250 ईसी) नामक दवा का 0.1 प्रतिशत (1.0 मिली/लीटर) का घोल बनाकर छिड़काव करना चाहिए। एक एकड़ खेत मे 200 मिलीलीटर दवा को 200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।

रोग के प्रकोप और फैलाव को देखते हुए यदि आवश्यक हो तो 15-20 दिन के अंतराल पर दोबारा छिड़काव करें। चूर्णिल आसिता रोग के लक्षण दिखाई दे तो उसके नियंत्रण के लिउ प्रोपीकोनाजोल (25 ईसी) नामक दवा की 0.1 प्रतिशत (1.0 मिली/लीटर) मात्रा का एक छिड़काव पौधों में बाली निकलते समय बीमारी से प्रभावित क्षेत्र में करना चाहिए।

करनाल बंट प्रबंधन के लिए फसल में बाली निकलने के समय प्रोपीकोनाजोल (25 ईसी) नामक दवा की 0.1 प्रतिशत (1.0 मिली/लीटर) मात्रा का छिड़काव किया जा सकता है।

माहू की संख्या का आर्थिक क्षति स्तर (ईटीएल 10-15 माहू प्रति शूट) को पार करने पर इमिडाक्लोप्रिड 200 एसएल (17.8ःडब्ल्यू/डब्ल्यू) का 40 मिलीलीटर/एकड़ की दर से छिड़काव करें।

कटाई और भंडारण का सही तरीका

जब गेहूं के दाने पककर सख्त हो जाएं और नमी की मात्रा 20 प्रतिशत से कम हो जाए तो कम्बाइन हार्वेस्टर से कटाई, मढ़ाई एवं ओसाई एक साथ की जा सकती है। अत्यधिक उपज देने वाली नवीनतम् प्रजातियों के प्रयोग से लगभग 70-80 कुंतल/हैक्टर उपज प्राप्त की जा सकती है। भंडारण से पहले दानों को अच्छी तरह से सुखा लें ताकि औसतन नमी 10-12 प्रतिशत के सुरक्षित स्तर पर आ जाए। टूटे एवं कटे-फटे दानों को अलग कर देने से भी मध्यम् कीटों के नुकसान से बचा जा सकता है। अनाज भंडारण के लिए जी आई शीट के बने बिन्स (साइलो एवं कोठिला) का प्रयोग करना चाहिए तथा कीड़ों से बचाव के लिए लगभग 10 कुंतल अनाज में एक टिकिया एल्यूमिनियम फाॅस्फाईड की रखें।

Similar Posts

Leave a Reply