Current Affairs | GK | GK MCQ | Science & technology | Science & Technology current Affairs

Which of the following is not true for Geostationary Satellite? / भूस्थिर उपग्रह के लिए निम्नलिखित में से कौन सा सत्य नहीं है?

Which of the following is not true for Geostationary Satellite? / भूस्थिर उपग्रह के लिए निम्नलिखित में से कौन सा सत्य नहीं है?

(1)Its time period is 24 hrs / इसकी समयावधि २४ घंटे . है
(2)Its angular speed is equal to that of earth about its own axis / इसकी कोणीय गति पृथ्वी के अपने अक्ष के परितः के बराबर होती है
(3)It is fixed in space / यह अंतरिक्ष में स्थिर है
(4)It revolves from west to east over the equator / यह भूमध्य रेखा के ऊपर पश्चिम से पूर्व की ओर चक्कर लगाता है

(SSC Tax Assistant (Income Tax & Central Excise) Exam. 05.12.2004)

Answer / उत्तर : –

(3)It is fixed in space / यह अंतरिक्ष में स्थिर है

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

A geosynchronous satellite is a satellite in geosynchronous orbit, with an orbital period the same as the Earth’s rotation period. Such a satellite returns to the same position in the sky after each sidereal day, and over the course of a day traces out a path in the sky that is typically some form of analemma. A geostationary orbit, or Geostationary Earth Orbit (GEO), is a circular orbit 35,786 kilometres above the Earth’s equator and following the direction of the Earth’s rotation. An object in such an orbit has an orbital period equal to the Earth’s rotational period (one sidereal day), and thus appears motionless, at a fixed position in the sky, to ground observers. / एक भू-समकालिक उपग्रह भू-समकालिक कक्षा में एक उपग्रह है, जिसकी कक्षीय अवधि पृथ्वी की घूर्णन अवधि के समान है। ऐसा उपग्रह प्रत्येक नक्षत्र दिवस के बाद आकाश में उसी स्थिति में लौटता है, और एक दिन के दौरान आकाश में एक पथ का पता लगाता है जो आमतौर पर किसी प्रकार का गुदाभ्रंश होता है। एक भूस्थिर कक्षा, या भूस्थैतिक पृथ्वी कक्षा (जीईओ), पृथ्वी के भूमध्य रेखा से 35,786 किलोमीटर ऊपर और पृथ्वी के घूर्णन की दिशा का अनुसरण करने वाली एक गोलाकार कक्षा है। इस तरह की कक्षा में एक वस्तु की कक्षीय अवधि पृथ्वी की घूर्णन अवधि (एक नक्षत्र दिवस) के बराबर होती है, और इस प्रकार जमीन पर्यवेक्षकों को आकाश में एक निश्चित स्थिति में गतिहीन दिखाई देती है।

Similar Posts

Leave a Reply