Geography | GK | GK MCQ

Which one was the first ‘Biosphere Reserves’ Project Scheme ? / पहली ‘बायोस्फीयर रिजर्व’ परियोजना योजना कौन सी थी?

Which one was the first ‘Biosphere Reserves’ Project Scheme ? / पहली ‘बायोस्फीयर रिजर्व’ परियोजना योजना कौन सी थी?

 

(1) Sundarbans Biosphere Reserve / सुंदरवन बायोस्फीयर रिजर्व
(2) Nilgiris Biosphere Reserve / नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व
(3) Nandadevi Biosphere Reserve / नंददेवी बायोस्फीयर रिजर्व
(4) Gulf of Mannar Biosphere Reserve / मन्नार बायोस्फीयर रिजर्व की खाड़ी

(SSC Stenographer (Grade ‘C’ & ‘D’) Exam. 09.01.2011)

Answer / उत्तर : – 

(2) Nilgiris Biosphere Reserve / नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

Established in the year 1986, Nilgiri Biosphere Reserve is the first biosphere reserve in India. It is an International Biosphere Reserve in the Western Ghats. Other early biosphere reserves of India: Nokrek and Nandadevi in 1988; and Great Nicobar, Manas, Sunderbans and Gulf of Mannar in 1989.

State Area(Sq. Kms)
Tamilnadu 2537.6
Kerala 1455.4
Karnataka 1527.4

 

The Nilgiri Biosphere Reserve was the first biosphere reserve in India established in the year 1986. It is located in the Western Ghats and includes 2 of the 10 biogeographical provinces of India. Wide ranges of ecosystems and species diversity are found in this region. Thus, it was a natural choice for the premier biosphere reserve of the country.

The Nilgiri Biosphere Reserve was established mainly to fulfill the following objectives:

To conserve insitu genetic diversity of species
To restore degraded ecosystems to their natural conditions
To provide baseline data for ecological and environmental research and education
To function as an alternate model for sustainable development

The total area of the Nilgiri Biosphere Reserve is 5,520 sq. km. It is located in the Western Ghats between 76°- 77°15‘E and 11°15‘ – 12°15‘N. The Nilgiri Biosphere Reserve encompasses parts of Tamilnadu, Kerala and Karnataka. The annual rainfall of the reserve ranges from 500 mm to 7000 mm with temperature ranging from 0°C during winter to 41°C during summer.

The Nilgiri Biosphere Reserve falls under the biogeographic region of the Malabar rain forest. The Mudumalai Wildlife Sanctuary, Wyanaad Wildlife Sanctuary Bandipur National Park, Nagarhole National Park, Mukurthi National Park and Silent Valley are the protected areas present within this reserve.

Vegetation

The Nilgiri Biosphere Reserve comprises of substantial unspoilt areas of natural vegetation ranging from dry scrub to evergreen forests and swamps thus contributing to highest biodiversity. The altitude and climatic gradients support and nourish the different vegetational types.

Vegetational Types of the Nilgiri Biosphere Reserve

S.No

Forest type

Nature of Vegetation

Area of occurrence

1

Moist evergreen

Dense, moist and multi storeyed forest with gigantic trees

In the narrow valleys of Silent Valley

2

Semi evergreen

Moist, deciduous

Nilambur and Palghat division

3

Thorn

Dense

North east part of the Nilgiri district

4

Savannah woodland

Trees scattered amid woodland

Mudumalai and Bandipur

5

Sholas & grasslands

High elevated evergreen with grasslands

South and western catchment area, Mukurthi national park

 

Flora

The Nilgiri Biosphere Reserve is very rich in plant diversity. About 3,300 species of flowering plants can be seen here. Of the 3,300 species 132 are endemic to the Nilgiri Biosphere Reserve. The genus Baeolepis is exclusively endemic to the Nilgiris. Some of the plants entirely restricted to the Nilgiri Biosphere Reserve include species of Adenoon, Calacanthus, Baeolepis, Frerea, Jarodina, Wagatea, Poeciloneuron, etc.

Of the 175 species of orchids found in the Nilgiri Biosphere Reserve, 8 are endemic to the Nilgiri Biosphere Reserve. These include endemic and endangered species of Vanda, Liparis, Bulbophyllum, Spiranthes and Thrixspermum. The sholasof the Nilgiri BiosphereReserve are a treasure house of rare plant species.

Fauna

The fauna of the Nilgiri Biosphere Reserve includesover over 100 species of mammals, 350 species of birds, 80 species of  reptiles and amphibians, 300 species of butterflies and innumerable invertebrates. 39 species of fish, 31 amphibians and 60 species of reptiles endemic to the Western Ghats also occur in the Nilgiri Biosphere Reserve. Fresh water fish such as Danio neilgheriensis,Hypselobarbusdubuis and Puntius  bovanicus are restricted to the Nilgiri BiosphereReserve. The Nilgiri tahr, Nilgiri langur, slender loris, blackbuck, tiger, gaur, Indian elephant and marten aresome of the animals found here.

Water resources

The Nilgiri &nbspBiosphere  Reserve  is one of the critical  catchment  areas of   peninsular  India. Many of  the major tributaries of the river Cauvery  like the Bhavani, Moyar, Kabini and other rivers like Chaliyar, Punampuzha, etc., have their source and catchment areas within the reserve boundary. Many hydroelectric power projects are present in the Kundah, Bhavani and Moyar basins .

The sholas and grasslands play a very important role in retaining water and supplying it to these streams. A drastic decline in the sholas and grasslands is one of the reasons for the recent water scarcity in the Nilgiri Biosphere Reserve.

The people

People

A variety of human cultural diversity can be found in the Nilgiri Biosphere Reserve. The increase in population is attributed to migration from surrounding areas rather than the population growth ofindigenous people.

Tribal groups like the Todas, Kotas, Irullas, Kurumbas, Paniyas, Adiyans, Edanadan Chettis, Cholanaickens, Allar, Malayan, etc., are native to the reserve. Except for Cholanaickens who live exclusively on food gathering, hunting and fishing, all the other tribalgroups are involved in their traditional occupation of agriculture.

वर्ष 1986 में स्थापित, नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व भारत का पहला बायोस्फीयर रिजर्व है। यह पश्चिमी घाट में एक अंतर्राष्ट्रीय बायोस्फीयर रिजर्व है। भारत के अन्य प्रारंभिक जीवमंडल भंडार: 1988 में नोकरेक और नंदादेवी; और 1989 में ग्रेट निकोबार, मानस, सुंदरबन और मन्नार की खाड़ी।

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व भारत में 1986 में स्थापित पहला बायोस्फीयर रिजर्व था। यह पश्चिमी घाट में स्थित है और इसमें भारत के 10 बायोग्राफिकल प्रांतों में से 2 शामिल हैं। इस क्षेत्र में पारिस्थितिक तंत्र और प्रजातियों की विविधता की विस्तृत श्रृंखला पाई जाती है। इस प्रकार, यह देश के प्रमुख बायोस्फीयर रिजर्व के लिए एक स्वाभाविक पसंद थी।

नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व मुख्य रूप से निम्नलिखित उद्देश्यों को पूरा करने के लिए स्थापित किया गया था:

प्रजातियों की स्वस्थानी आनुवंशिक विविधता के संरक्षण के लिए
बिगड़े हुए पारितंत्रों को उनकी प्राकृतिक स्थितियों में बहाल करने के लिए
पारिस्थितिक और पर्यावरण अनुसंधान और शिक्षा के लिए आधारभूत डेटा प्रदान करना
सतत विकास के लिए वैकल्पिक मॉडल के रूप में कार्य करना

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व का कुल क्षेत्रफल 5,520 वर्ग किमी है। यह पश्चिमी घाट में 76°- 77°15’पूर्व और 11°15′-12°15’N के बीच स्थित है। नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक के कुछ हिस्से शामिल हैं। रिजर्व की वार्षिक वर्षा 500 मिमी से 7000 मिमी तक होती है, जिसका तापमान सर्दियों के दौरान 0 डिग्री सेल्सियस से लेकर गर्मियों के दौरान 41 डिग्री सेल्सियस तक होता है।

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व मालाबार वर्षा वन के जैव-भौगोलिक क्षेत्र के अंतर्गत आता है। मुदुमलाई वन्यजीव अभयारण्य, वायनाड वन्यजीव अभयारण्य बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान, नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान, मुकुर्ती राष्ट्रीय उद्यान और साइलेंट वैली इस रिजर्व के भीतर मौजूद संरक्षित क्षेत्र हैं।

वनस्पति

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में प्राकृतिक वनस्पति के पर्याप्त अदूषित क्षेत्र शामिल हैं, जिनमें शुष्क झाड़ियों से लेकर सदाबहार वन और दलदल शामिल हैं, जो इस प्रकार उच्चतम जैव विविधता में योगदान करते हैं। ऊंचाई और जलवायु प्रवणता विभिन्न वनस्पति प्रकारों का समर्थन और पोषण करती है।

फ्लोरा

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व पौधों की विविधता में बहुत समृद्ध है। फूलों के पौधों की लगभग 3,300 प्रजातियां यहां देखी जा सकती हैं। 3,300 प्रजातियों में से 132 नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व के लिए स्थानिकमारी वाले हैं। जीनस बेओलेपिस नीलगिरी के लिए विशेष रूप से स्थानिक है। नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व में पूरी तरह से प्रतिबंधित कुछ पौधों में एडेनून, कैलकेन्थस, बेओलेपिस, फ़्रेरिया, जारोडिना, वागेटिया, पॉसीलोन्यूरॉन आदि की प्रजातियां शामिल हैं।

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में पाए जाने वाले ऑर्किड की 175 प्रजातियों में से 8 नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व के लिए स्थानिक हैं। इनमें वांडा, लिपारिस, बुलबोफिलम, स्पिरेंथेस और थ्रिक्सस्पर्मम की स्थानिक और लुप्तप्राय प्रजातियां शामिल हैं। नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व के शोला दुर्लभ पौधों की प्रजातियों का खजाना हैं।

पशुवर्ग

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व के जीवों में स्तनधारियों की 100 से अधिक प्रजातियां, पक्षियों की 350 प्रजातियां, सरीसृप और उभयचर की 80 प्रजातियां, तितलियों की 300 प्रजातियां और असंख्य अकशेरुकी जीव शामिल हैं। मछली की 39 प्रजातियाँ, 31 उभयचर और 60 प्रजाति के सरीसृप जो पश्चिमी घाट में पाए जाते हैं, नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में भी पाए जाते हैं। ताज़े पानी की मछलियाँ जैसे डैनियो नीलघेरिएन्सिस, हाइप्सेलोबारबसडुबुइस और पुंटियस बोवानिकस नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व तक ही सीमित हैं। नीलगिरि तहर, नीलगिरि लंगूर, पतला लोरिस, काला हिरण, बाघ, गौर, भारतीय हाथी और मार्टन यहाँ पाए जाने वाले कुछ जानवर हैं।

जल संसाधन

नीलगिरी &nbspबायोस्फीयर रिजर्व प्रायद्वीपीय भारत के महत्वपूर्ण जलग्रहण क्षेत्रों में से एक है। कावेरी नदी की कई प्रमुख सहायक नदियाँ जैसे भवानी, मोयार, काबिनी और अन्य नदियाँ जैसे चलियार, पुनमपुझा, आदि का स्रोत और जलग्रहण क्षेत्र आरक्षित सीमा के भीतर हैं। कुंडाह, भवानी और मोयार घाटियों में कई जलविद्युत परियोजनाएँ मौजूद हैं।

शोला और घास के मैदान पानी को बनाए रखने और इन धाराओं को इसकी आपूर्ति करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शोला और घास के मैदानों में भारी गिरावट नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में हाल ही में पानी की कमी का एक कारण है।

लोग

नीलगिरि बायोस्फीयर रिजर्व में विभिन्न प्रकार की मानव सांस्कृतिक विविधता पाई जा सकती है। जनसंख्या में वृद्धि का श्रेय स्वदेशी लोगों की जनसंख्या वृद्धि के बजाय आसपास के क्षेत्रों से प्रवासन को जाता है।

टोडास, कोटास, इरुल्लास, कुरुंबस, पनियास, अदियां, एडानाडन चेट्टीस, चोलनैकेन्स, अल्लार, मलायन, आदि जैसे आदिवासी समूह रिजर्व के मूल निवासी हैं। चोलनाइकेन्स को छोड़कर जो विशेष रूप से भोजन एकत्र करने, शिकार और मछली पकड़ने पर रहते हैं, अन्य सभी आदिवासी समूह कृषि के अपने पारंपरिक व्यवसाय में शामिल हैं।

Similar Posts

Leave a Reply