Geography | GK | GK MCQ

Crop rotation is being adopted / फसल चक्र अपनाया जा रहा है

Crop rotation is being adopted / फसल चक्र अपनाया जा रहा है

 

(1) to increase the productivity of the land / भूमि की उत्पादकता बढ़ाने के लिए
(2) to increase the crop yield / फसल की उपज बढ़ाने के लिए
(3) to increase the soil water / मिट्टी के पानी को बढ़ाने के लिए
(4) to increase the crop resistance to pests. / कीटों के लिए फसल प्रतिरोध को बढ़ाने के लिए।

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 24.10.1999)

Answer / उत्तर : –

(1) to increase the productivity of the land / भूमि की उत्पादकता बढ़ाने के लिए

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

Crop rotation is the practice of growing a series of dissimilar types of crops in the same area in sequential seasons for various benefits such as to avoid the buildup of pathogens and pests that often occurs when one species is continuously cropped. Crop rotation also seeks to balance the fertility demands of various crops to avoid excessive depletion of soil nutrients. A traditional element of crop rotation is the replenishment of nitrogen through the use of green manure in sequence with cereals and other crops.

फसल चक्रण विभिन्न लाभों के लिए एक ही क्षेत्र में एक ही क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की फसलों को उगाने की प्रथा है, जैसे कि रोगजनकों और कीटों के निर्माण से बचने के लिए जो अक्सर तब होता है जब एक प्रजाति को लगातार काटा जाता है। फसल चक्रण भी मिट्टी के पोषक तत्वों की अत्यधिक कमी से बचने के लिए विभिन्न फसलों की उर्वरता मांगों को संतुलित करने का प्रयास करता है। फसल चक्र का एक पारंपरिक तत्व अनाज और अन्य फसलों के क्रम में हरी खाद के उपयोग के माध्यम से नाइट्रोजन की पुनःपूर्ति है।

Similar Posts

Leave a Reply