Geography | GK | GK MCQ

In which part of India canal irrigation system is the most common? / भारत के किस भाग में नहर सिंचाई प्रणाली सबसे आम है?

In which part of India canal irrigation system is the most common? / भारत के किस भाग में नहर सिंचाई प्रणाली सबसे आम है?

 

(a) Tamil Nadu /  तमिलनाडु
(b) Maharashtra / महाराष्ट्र
(c) Sikkim /  सिक्किम
(d) Uttar Pradesh / उत्तर प्रदेश

(SSC Section Officer (Audit) Exam. 05.06.2005)

Answer / उत्तर : – 

(d) Uttar Pradesh / उत्तर प्रदेश

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :- 

 

Canal is the second largest source of irriga-tion providing water to 29.24 percent of the net area under irrigation. The country has one of the world’s largest canal systems stretching over more than one lakh kilometres. Canal irrigation is widely practiced in the Sutlej Ganga plain. Uttar Pradesh, Punjab, Haryana, Bihar and Rajasthan have a number of such canals. In the Peninsular region canals are mostly found in the lower valleys and deltas of large rivers. Over 63 per cent of the total canal irrigated area of the country lies in Uttar Pradesh. Madhya Pradesh, Andhra Pradesh, Punjab, Rajasthan and Haryana. Canals also feed a sizeable part of the irrigated area in Bihar, Orissa, Karnataka, Tamil Nadu and West Bengal.

Canals Irrigation in India: Get information about the canals of 1. Uttar Pradesh 2. Punjab 3. Haryana 4. Andhra Pradesh 5. Bihar 6. West Bengal 7. Rajasthan 8. Madhya Pradesh and Chhattisgarh 9. Orissa 10. Karnataka 11. Tamil Nadu 12. Maharashtra 13. Gujarat

Canals used to be the most important source of irrigation up-to 1960s, but in the 1970s they yielded first place to wells and tube wells and now constitute the second most important source of irrigation in India.
The percentage of canal irrigation area to total irrigated area in the country has fallen from about 39.77 per cent in 1950-51 to 29 per cent in 2000-01.

Canals can be an effective source of irrigation in areas of low level relief, deep fertile soils, perrenial source of water and extensive command area. Therefore, the main concentration of canal irrigation is in the northern plain of India, especially the areas comprising Uttar Pradesh Haryana and Punjab.

The digging of canals in rocky and uneven areas is difficult and uneconomic. Thus the canals are practically absent from the Peninsular plateau area. However, the coastal and the delta regions in South India do have some canals for irrigation.

Broadly speaking, canals in India are of two types, viz., (i) inundation canals, which are taken out from the rivers without any regulating system like weirs etc. at their head. Such canals provide irrigation mainly in the rainy season when the river is in flood and there is excess water.

1. Uttar Pradesh:
Canals constitute an important source of irrigation in Uttar Pradesh. The state is drained by perennial rivers originating in the snow covered Himalayan ranges and is blessed with fertile soils. But the amount of rainfall, especially in western parts of the state, is not sufficient for sustained agricultural growth.

1. Upper Ganga Canal:
This canal takes off from the Ganga at Kankhal (Haridwar). The construction of this canal commenced in 1842 and completed in 1854. The main canal is 342 km long while the length of its distributaries is about 6,200 km. During the first 32 km of its course, between Haridwar and Roorkee, it passes through a broken country so that at some places it is taken over the rivers and at others below the rivers.
2. Lower Ganga Canal:
This canal was taken from the Ganga near Narora (Bulandshahar) in 1878. The length of the canal including its distributaries is about 6000 km. Its main branches are Etawah, Kanpur and Fatehpur. It irrigates about 4.6 lakh hectares in the districts of Bulandshahar, Farrukhabad, Mainpuri, Aligarh, Etah, Etawah, Fatehpur, Kanpur and Allahabad.

3. Sharda Canal:
As its name indicates, this canal is taken from the Sharda River at Banbasa near the Indo-Nepal border. The construction work on this canal was completed in 1928. The total length of the main canal and its distributaries is 13,624 km. It is thus one of the longest canal systems of the world. This canal system irrigates about eight lakh hectares of land mainly in Allahabad, Sultanpur, Pilibhit, Bareilly, Hardoi, Shahjahanpur, Sitapur, Lucknow, Barabanki, Rai Bareli, Unnao, Partapgarh and Kheri, districts.

4. Eastern Yamuna Canal:
It takes off from the river Yamuna at Faizabad. It was constructed in 1831. The main canal and its distributaries cover a distance of 1,450 km and irrigate about 2 lakh hectares of land in the districts of Saharanpur, Muzaffarnagar, Meerut and Ghaziabad. It again joins the Yamuna River at Delhi and irrigates a part of the union territory also.

5. Agra Canal:
This canal is taken from the right bank of the Yamuna at Okhla (Delhi). It was built in 1874 and irrigates about 1.5 lakh hectares in Agra and Mathura in U.P., Faridabad in Haryana, Bharatpur in Ra jasthan and also parts of union territory of Delhi.

6. Betwa Canal:
Built in the Third Five Year Plan, this canal takes off from the Betwa River about 56 km south-west of Jhansi. It irrigates about 1.2 lakh hectares in Jhansi, Jalaun and Hamirpur districts.

2. Punjab:
In early days, canal irrigation accounted for about 39-14 per cent of the total irrigated area in Punjab but the share of canal irrigation fell down to less than 19 per cent in 2000-01. Following are some of 1 the important canals of Punjab.

1. Upper Bari Doab Canal:
This canal is taken from the Ravi River at Madhopur near Pathankot. Construction of this canal started in 1849 and completed in 1859. It irrigates about 3 lakh hectares in Gurdaspur and Amritsar districts.

2. Sirhind Canal:
This canal was taken from the Satluj River at Rupnagar (Ropar) in the year 1886-87. The total length of the canal along with its distributaries is 6,115 km. Its main branches are the Patiala, Abohar, Bhatinda, Kotla and Ghaggar. It irrigates about 7 lakh hectares in Patiala, Sangrur, Bhatinda, Ludhiana and Ferozepur districts.

3. Bhakra Canal:
It draws water from the Bhakra dam built across the Satluj River. It was completed in 1954. It irrigates a vast area of about 15 lakh hectares in Punjab, Haryana and Rajasthan. In Punjab, Ludhiana, Patiala, Sangrur, Jalandhar, and Ferozepur districts are benefited by this canal.

4. Bist Doab Canal:
It is a part of the Bhakra-Nangal Project. The total length of this canal along with its distributaries is 1,090 km. It irrigates about 4 lakh hectares in Jalandhar and Hoshiarpur districts.

3. Haryana:
Haryana depends upon canal irrigation for its agricultural prosperity to a great extent. About 49-89 per cent of the irrigated area in Haryana is irrigated by canals. This is the second highest per­centage for any state after Chhattisgarh. Following are the main canals.

1. The Western Yamuna Canal:
It takes off from the right bank of the Yamuna at Tajewala. It was built by Feroze Shah Tughlak. The total length of the canal along with its distributaries is 3,200 km and it irrigates about 4 lakh hectares in Ambala, Kurukshetra, Kamal, Panipat, Rohtak, Hissar, Sirsa, Faridabad and Jind districts. It’s important branches are, the Delhi, the Hansi and the Sirsa branch.

2. Bhakra Canal:
After irrigating Punjab areas, the Bhakra canal enters Haryana near Tohana and irrigates large parts of Hissar, Fatehabad and Sirsa districts. Its main branches are the Fatehabad, the Ratia, the Rori, the Barwala and the Tohana branch.

3. Jui Canal:
This is a lift irrigation scheme designed to irrigate the semi-desert region of Bhiwani and adjoining areas. This 169 km long canal irrigates about 32 thousand hectares.

4. Gurgaon Canal:
It takes off from the Yamuna at Okhla in Delhi. Started in 1970, this canal irrigates 1.2 lakh hectares in Gurgaon and Faridabad districts.

4. Andhra Pradesh:
With 1,649 thousand hectares under canal irrigation i.e. 10.31% of the total canal irrigated area of India, Andhra Pradesh is next only to Uttar Pradesh and tops in South India in so far as area under canal irrigation is concerned.

5. Bihar:
Rainfall in several parts of Bihar is inadequate, unreliable and uncertain leading to severe and frequent droughts. This has made canal irrigation an important part of agricultural practice in Bihar. Canal irrigation accounts for over 31 per cent of the total area of the state.

1. Sone Canals:
The Eastern Sone Canal was taken from the Sone River at Varun in 1857. This 130 km long canal irrigates 2-5 lakh hectares in Patna and Gaya clistricts. The Western Sone Canal has been taken from this river at Dehri. It provides irrigation to Shahabad district.

2. Kosi Canals:
Two canals known as the Eastern and the Western Kosi Canal have been taken * from the eastern and the western banks of the river respectively by constructing a multipurpose dam near the Indo-Nepal border. These two canals have the irrigation potential of 4-5 and 3-5 lakh hectares respectively. Pumea, Muzaffarpur, Darbhanga, Champaran and Saran districts are benefited by this project. Besides, 4 lakh hectares are irrigated in Nepal.

3. Gandak Canals:
A 743 metre long dam has been built across the Gandak at Balmiki Nagar from where two canals have been taken off. The eastern canal is called Tirhut. It is 250 km long and irrigates about 7 lakh hectares in Champaran, Darbhanga, and Muzaffarpur districts.

6. West Bengal:
Although most parts of West Bengal receive sufficient rainfall and do not require irrigation, still some parts of the state do feel the necessity of irrigation. More than one third of the net irrigated area is irrigated by canals. The Mayurakshi project was completed in 1951 at Tilpara.

7. Rajasthan:
Most of Rajasthan is a desert area and largely depends upon irrigation for successful growth of crops. Canals form an important section of irrigation and account for about 27.6 per cent of the net irrigated area of the state.

1. Indira Gandhi Canal:
This canal originates from Harike Barrage near the confluence of Satluj and Beas rivers in Ferozepur district of Punjab. The plan for this canal was prepared in 1957-58 and the work on this project started on 31st March 1958. The canal does not do any irrigation in Punjab and is known as Rajasthan Feeder.

Stage I:

Construction work of Stage I has been completed at a cost of Rs. 246 crore. It included the construction of 204 kms long feeder, 189 kms of the main canal and 2,960 kms long distribution system. Stage I has five flow branches and one lift canal covering south and south-western part of Ganganagar district and north and north-western parts of Bikaner district.

Stage II:

The construction work on Stage II is still in progress although it was to be completed in 1978 according to its original plan. At the current rates, it will cost Rs. 1,420 crore. Stage II of the project includes the construction of 256 km long main canal and 4,800 km long distributaries. According to the revised plan, this stage will provide extensive irrigation.

2. Chambal Project:
This is a joint venture of Rajasthan and Madhya Pradesh. Under this project, Gandhi Sagar Dam has been constructed. Canals taken off from this dam irrigate about 5.15 lakh hectares in Rajasthan and Madhya Pradesh. In the second stage, Rana Partap Dam has been constructed which provides irrigation to 1.2 lakh hectares. In the third stage Jawahar Sagar Dam has been constructed.

3. The Gang or Bikaner Canal:
It was taken off from the river Satluj at Husainwala in 1928. This canal is a blood transfusion from the living Punjab into the moribund marusthal. It provides irrigation to about 3.4 lakh hectares in Bikaner division. The total length of this canal system is 1,280 km.

8. Madhya Pradesh and Chhattisgarh:
The unevem surface, rocky structure and limited fertile soil have not encouraged the construction of canals and canals irrigation is not much important, keeping in view the size of these two states. However, a few canal systems have come up.

Consequently 68.9 per cent of the net irrigated area in Chhattisgarh and 19.49 per cent of the net irrigated area in Madhya Pradesh is under canal irrigation. Most of the canal irrigated area is in Gwalior, Bhind and Morena districts.

9. Orissa:
Canals irrigate about 878 thousand hectares of land which is nearly 25% of the net irrigated area of the state. Canals taken off from the Hirakud dam on the Mahanadi form a major irrigation network and provide irrigation to about 2.4 lakh hectares in Bolangir and Sambalpur districts. The 3,650 km long canal system in the Mahanadi delta region provides irrigation to about 4 lakh hectares in Cuttack and Puri districts. Taldanda Canal irrigates 62 thousand hectares in Mahanadi catchment area.

10. Karnataka:
Over 36.5 per cent of the net irrigated area in Karnataka is irrigated by canals. The Ghatprabha valley scheme developed on the Ghatprabha River is the most important irrigation project and irrigates about 3.2 lakh hectares in Belgaum and Bijapur districts. Canals of the Tungbhadra project irrigate about 2.7 lakh hectares in Bellary and Raichur districts.

11. Tamil Nadu:
Tamil Nadu has about 29 per cent of its net irrigated area under canal irrigation. The most important canal system lies in the Cauvery delta where 6,400 km long canals irrigate about 4 lakh hectares in Thanjavur and Tiruchchirapalli districts.

12. Maharashtra:
Over 35 per cent of the net irrigated area in Maharashtra is irrigated by canals. Over 3,000 km long canals irrigate over 4 lakh hectares. The right bank and the left bank canals of the Mutha Project across Mutha River (a tributary of the Bhima River) at Khadakvasla irrigate about 45 thousand hectares in Pune district besides providing potable water to Pune and Kirkee.
The canals of the Nira project irrigateover 66 thousand hectares in Pune, Satara and Solapur districts. Two canals taken out of the Godavari a Darana dam irrigate about 27 thousand hectares in Nashik and Ahmednagar districts Canals taken out from Gangapur dam at Godavari irrigate 33 thousand hectares in Nashik district. The take off from Bhandardara masonary dam at Pravara River. Both the left bank and the right bank canals irrigate about 34 thousand hectares in Ahmednagar.

13. Gujarat:
Mahi project stage I and II is designed to irrigate over 2 lakh hectares in Kheda and Panchmahals districts Canals of Ukai project on the Tapi river irrigate over one lakh hectares. The other important irrigation projects of Gujarat are Rudramala, Ozat, Dantiwada, Panam and Kaprapara.

Merits of Canal Irrigation:
1. Most of the canals provide perennial irrigation and supply water as and when needed. This saves the crops from drought conditions and helps in increasing the farm production.

2. Canals carry a lot of sediment brought down by the rivers. This sediment is deposited in the agricultural fields which add to the fertility of soil.

3. Some of the canals are parts of multipurpose projects and, therefore, provide cheap source of irrigation.

4. Although the initial cost involved in canal irrigation is much higher, it is quite cheap in the long run.

Demerits of Canal Irrigation:
1. The canal water soaks into the ground and leads to the problem of water-logging along the canal route.

2 Excessive flow of water in the fields raises the ground water level. Capillary action brings alkaline salts to the surface and makes large areas unfit for agriculture. Vast areas in Panjab, Haryana and Uttar Pradesh suffer from the problem of ‘reh’ caused by canal irrigation. About 36,000 hectares have been rendered useless in Nira Valley of Maharashtra due to high concentration of salts in the soil resulting from canal irrigation.

3. The marshy areas near the canals act as breeding grounds of mosquitoes which result in widespread malaria.

4. Many canals overflow during rainy season and flood the surrounding areas.

5. Canal irrigation is suitable in plain areas only.

नहर सिंचाई का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत है जो सिंचाई के तहत शुद्ध क्षेत्र के 29.24 प्रतिशत हिस्से को पानी उपलब्ध कराती है। देश में दुनिया की सबसे बड़ी नहर प्रणाली है जो एक लाख किलोमीटर से अधिक तक फैली हुई है। सतलुज गंगा के मैदान में नहर सिंचाई व्यापक रूप से प्रचलित है। उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, बिहार और राजस्थान में ऐसी कई नहरें हैं। प्रायद्वीपीय क्षेत्र में नहरें ज्यादातर निचली घाटियों और बड़ी नदियों के डेल्टा में पाई जाती हैं। देश के कुल नहर सिंचित क्षेत्र का 63 प्रतिशत से अधिक उत्तर प्रदेश में स्थित है। मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा। नहरें बिहार, उड़ीसा, कर्नाटक, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में सिंचित क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा भी खिलाती हैं।

भारत में नहरों की सिंचाई: 1. उत्तर प्रदेश की नहरों के बारे में जानकारी प्राप्त करें 2. पंजाब 3. हरियाणा 4. आंध्र प्रदेश 5. बिहार 6. पश्चिम बंगाल 7. राजस्थान 8. मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ 9. उड़ीसा 10. कर्नाटक 11. तमिल नाडु 12. महाराष्ट्र 13. गुजरात

1960 के दशक तक नहरें सिंचाई का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हुआ करती थीं, लेकिन 1970 के दशक में उन्होंने कुओं और नलकूपों को पहला स्थान दिया और अब यह भारत में सिंचाई का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है।
देश में कुल सिंचित क्षेत्र में नहर सिंचाई क्षेत्र का प्रतिशत 1950-51 में लगभग 39.77 प्रतिशत से गिरकर 2000-01 में 29 प्रतिशत हो गया है।

नहरें निम्न स्तर की राहत, गहरी उपजाऊ मिट्टी, पानी के बारहमासी स्रोत और व्यापक कमांड क्षेत्र के क्षेत्रों में सिंचाई का एक प्रभावी स्रोत हो सकती हैं। इसलिए, नहर सिंचाई का मुख्य केंद्र भारत के उत्तरी मैदान में है, खासकर उत्तर प्रदेश हरियाणा और पंजाब वाले क्षेत्रों में।

चट्टानी और असमान क्षेत्रों में नहरों की खुदाई कठिन और अलाभकारी है। इस प्रकार प्रायद्वीपीय पठारी क्षेत्र से नहरें व्यावहारिक रूप से अनुपस्थित हैं। हालाँकि, दक्षिण भारत के तटीय और डेल्टा क्षेत्रों में सिंचाई के लिए कुछ नहरें हैं।

मोटे तौर पर, भारत में नहरें दो प्रकार की होती हैं, अर्थात, (i) आप्लावन नहरें, जिन्हें नदियों से बिना किसी विनियमन प्रणाली जैसे कि वियर आदि के सिर पर ले जाया जाता है। ऐसी नहरें मुख्य रूप से बरसात के मौसम में सिंचाई प्रदान करती हैं जब नदी बाढ़ में होती है और पानी अधिक होता है।

1. उत्तर प्रदेश:
उत्तर प्रदेश में नहरें सिंचाई का एक महत्वपूर्ण स्रोत हैं। राज्य बर्फ से ढकी हिमालय पर्वतमाला से निकलने वाली बारहमासी नदियों द्वारा सूखा है और उपजाऊ मिट्टी से समृद्ध है। लेकिन वर्षा की मात्रा, विशेष रूप से राज्य के पश्चिमी भागों में, निरंतर कृषि विकास के लिए पर्याप्त नहीं है।

1. ऊपरी गंगा नहर:
यह नहर कनखल (हरिद्वार) में गंगा से निकलती है। इस नहर का निर्माण 1842 में शुरू हुआ और 1854 में पूरा हुआ। मुख्य नहर 342 किलोमीटर लंबी है जबकि इसकी वितरिकाओं की लंबाई करीब 6,200 किलोमीटर है। अपने पहले 32 किमी के पाठ्यक्रम के दौरान, हरिद्वार और रुड़की के बीच, यह एक टूटे हुए देश से होकर गुजरता है जिससे कि कुछ जगहों पर यह नदियों पर और अन्य में नदियों के नीचे ले जाया जाता है।

2. निचली गंगा नहर:
इस नहर को 1878 में नरोरा (बुलंदशहर) के पास गंगा से लिया गया था। इसकी वितरिकाओं सहित नहर की लंबाई लगभग 6000 किमी है। इसकी मुख्य शाखाएं इटावा, कानपुर और फतेहपुर हैं। यह बुलंदशहर, फर्रुखाबाद, मैनपुरी, अलीगढ़, एटा, इटावा, फतेहपुर, कानपुर और इलाहाबाद जिलों में लगभग 4.6 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

3. शारदा नहर:
जैसा कि इसके नाम से संकेत मिलता है, यह नहर भारत-नेपाल सीमा के पास बनबसा में शारदा नदी से ली गई है। इस नहर का निर्माण कार्य 1928 में पूरा हुआ था। मुख्य नहर और इसकी वितरिकाओं की कुल लंबाई 13,624 किमी है। इस प्रकार यह दुनिया की सबसे लंबी नहर प्रणालियों में से एक है। यह नहर प्रणाली मुख्य रूप से इलाहाबाद, सुल्तानपुर, पीलीभीत, बरेली, हरदोई, शाहजहांपुर, सीतापुर, लखनऊ, बाराबंकी, रायबरेली, उन्नाव, प्रतापगढ़ और खीरी जिलों में लगभग आठ लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करती है।

4. पूर्वी यमुना नहर:
यह फैजाबाद में यमुना नदी से निकलती है। इसका निर्माण 1831 में किया गया था। मुख्य नहर और इसकी वितरिकाएं 1,450 किमी की दूरी तय करती हैं और सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ और गाजियाबाद जिलों में लगभग 2 लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करती हैं। यह फिर से दिल्ली में यमुना नदी में मिलती है और केंद्र शासित प्रदेश के एक हिस्से को भी सिंचित करती है।

5. आगरा नहर:
यह नहर ओखला (दिल्ली) में यमुना के दाहिने किनारे से ली गई है। यह 1874 में बनाया गया था और यूपी में आगरा और मथुरा, हरियाणा में फरीदाबाद, रा जस्तान में भरतपुर और दिल्ली के केंद्र शासित प्रदेश के कुछ हिस्सों में लगभग 1.5 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

6. बेतवा नहर:
तीसरी पंचवर्षीय योजना में बनी यह नहर झांसी से लगभग 56 किमी दक्षिण-पश्चिम में बेतवा नदी से निकलती है। यह झांसी, जालौन और हमीरपुर जिलों में लगभग 1.2 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

2. पंजाब:
शुरुआती दिनों में, पंजाब में कुल सिंचित क्षेत्र में नहर सिंचाई का हिस्सा लगभग 39-14 प्रतिशत था, लेकिन 2000-01 में नहर सिंचाई का हिस्सा गिरकर 19 प्रतिशत से भी कम हो गया। पंजाब की कुछ महत्वपूर्ण नहरों में से कुछ निम्नलिखित हैं।

1. ऊपरी बारी दोआब नहर:
यह नहर पठानकोट के पास माधोपुर में रावी नदी से ली गई है। इस नहर का निर्माण 1849 में शुरू हुआ और 1859 में पूरा हुआ। इससे गुरदासपुर और अमृतसर जिलों में लगभग 3 लाख हेक्टेयर की सिंचाई होती है।

2. सरहिंद नहर:
यह नहर वर्ष 1886-87 में रूपनगर (रोपड़) में सतलुज नदी से ली गई थी। नहरों के साथ-साथ नहर की कुल लंबाई 6,115 किमी है। इसकी मुख्य शाखाएं पटियाला, अबोहर, भटिंडा, कोटला और घग्गर हैं। यह पटियाला, संगरूर, भटिंडा, लुधियाना और फिरोजपुर जिलों में लगभग 7 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

3. भाखड़ा नहर:
यह सतलुज नदी पर बने भाखड़ा बांध से पानी खींचता है। यह 1954 में बनकर तैयार हुआ था। यह पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में लगभग 15 लाख हेक्टेयर के विशाल क्षेत्र को सिंचित करता है। पंजाब में लुधियाना, पटियाला, संगरूर, जालंधर और फिरोजपुर जिले इस नहर से लाभान्वित होते हैं।

4. बिष्ट दोआब नहर:
यह भाखड़ा-नंगल परियोजना का एक हिस्सा है। इसकी वितरिकाओं सहित इस नहर की कुल लंबाई 1,090 किमी है। यह जालंधर और होशियारपुर जिलों में लगभग 4 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

3. हरियाणा:
हरियाणा काफी हद तक अपनी कृषि समृद्धि के लिए नहर सिंचाई पर निर्भर करता है। हरियाणा में लगभग 49-89 प्रतिशत सिंचित क्षेत्र नहरों से सिंचित है। यह छत्तीसगढ़ के बाद किसी भी राज्य के लिए दूसरा सबसे अधिक प्रतिशत है। निम्नलिखित प्रमुख नहरें हैं।

1. पश्चिमी यमुना नहर:
यह ताजेवाला में यमुना के दाहिने किनारे से निकलती है। इसे फिरोज शाह तुगलक ने बनवाया था। नहरों के साथ नहर की कुल लंबाई 3,200 किमी है और यह अंबाला, कुरुक्षेत्र, कमल, पानीपत, रोहतक, हिसार, सिरसा, फरीदाबाद और जींद जिलों में लगभग 4 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती है। इसकी महत्वपूर्ण शाखाएँ हैं, दिल्ली, हांसी और सिरसा शाखा।

2. भाखड़ा नहर:
पंजाब के क्षेत्रों को सींचने के बाद भाखड़ा नहर टोहाना के पास हरियाणा में प्रवेश करती है और हिसार, फतेहाबाद और सिरसा जिलों के बड़े हिस्से को सींचती है। इसकी मुख्य शाखाएँ फतेहाबाद, रतिया, रोरी, बरवाला और टोहाना शाखा हैं।

3. जुई नहर:
यह एक लिफ्ट सिंचाई योजना है जिसे भिवानी और आसपास के क्षेत्रों के अर्ध-रेगिस्तानी क्षेत्र को सिंचित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। 169 किमी लंबी इस नहर से करीब 32 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होती है।

4. गुड़गांव नहर:
यह दिल्ली के ओखला में यमुना से निकलती है। 1970 में शुरू हुई यह नहर गुड़गांव और फरीदाबाद जिलों में 1.2 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती है।

4. आंध्र प्रदेश:
नहर सिंचाई के तहत 1,649 हजार हेक्टेयर यानी भारत के कुल नहर सिंचित क्षेत्र का 10.31 फीसदी के साथ, आंध्र प्रदेश उत्तर प्रदेश के बाद और दक्षिण भारत में सबसे ऊपर है जहां तक ​​नहर सिंचाई के तहत क्षेत्र का संबंध है।

5. बिहार:
बिहार के कई हिस्सों में बारिश अपर्याप्त, अविश्वसनीय और अनिश्चित है जिसके कारण गंभीर और लगातार सूखे की स्थिति पैदा हो रही है। इसने बिहार में नहर सिंचाई को कृषि पद्धति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना दिया है। नहर सिंचाई राज्य के कुल क्षेत्रफल का 31 प्रतिशत से अधिक है।

1. सोन नहरें:
पूर्वी सोन नहर 1857 में वरुण में सोन नदी से ली गई थी। 130 किमी लंबी यह नहर पटना और गया जिलों में 2-5 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती है। पश्चिमी सोन नहर इस नदी से डेहरी में ली गई है। यह शाहाबाद जिले को सिंचाई प्रदान करता है।

2. कोसी नहरें:
पूर्वी और पश्चिमी कोसी नहर के रूप में जानी जाने वाली दो नहरों को भारत-नेपाल सीमा के पास एक बहुउद्देशीय बांध का निर्माण करके क्रमशः नदी के पूर्वी और पश्चिमी तट से * लिया गया है। इन दोनों नहरों में क्रमश: 4-5 और 3-5 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता है। इस परियोजना से पुमिया, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, चंपारण और सारण जिले लाभान्वित हुए हैं. इसके अलावा, नेपाल में 4 लाख हेक्टेयर सिंचित है।

3. गंडक नहरें:
बाल्मीकि नगर में गंडक पर 743 मीटर लंबा बांध बनाया गया है, जहां से दो नहरें निकाली गई हैं। पूर्वी नहर को तिरहुत कहते हैं। यह 250 किमी लंबा है और चंपारण, दरभंगा और मुजफ्फरपुर जिलों में लगभग 7 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करता है।

6. पश्चिम बंगाल:
हालांकि पश्चिम बंगाल के अधिकांश हिस्सों में पर्याप्त वर्षा होती है और उन्हें सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है, फिर भी राज्य के कुछ हिस्सों में सिंचाई की आवश्यकता महसूस होती है। कुल सिंचित क्षेत्र का एक तिहाई से अधिक भाग नहरों द्वारा सिंचित है। मयूरक्षी परियोजना 1951 में तिलपारा में पूरी हुई थी।

7. राजस्थान:
राजस्थान का अधिकांश भाग एक मरुस्थलीय क्षेत्र है और फसलों के सफल विकास के लिए काफी हद तक सिंचाई पर निर्भर करता है। नहरें सिंचाई का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और राज्य के शुद्ध सिंचित क्षेत्र का लगभग 27.6 प्रतिशत हिस्सा हैं।

1. इंदिरा गांधी नहर:
यह नहर पंजाब के फिरोजपुर जिले में सतलुज और ब्यास नदियों के संगम के पास हरिके बैराज से निकलती है। इस नहर की योजना 1957-58 में तैयार की गई थी और इस परियोजना पर काम 31 मार्च 1958 को शुरू हुआ था। पंजाब में इस नहर से कोई सिंचाई नहीं होती है और इसे राजस्थान फीडर के नाम से जाना जाता है।

चरण I:

प्रथम चरण का निर्माण कार्य करोड़ों रुपये की लागत से पूरा किया गया है। 246 करोड़। इसमें 204 किलोमीटर लंबे फीडर का निर्माण, मुख्य नहर के 189 किलोमीटर और 2,960 किलोमीटर लंबी वितरण प्रणाली का निर्माण शामिल था। चरण I में गंगानगर जिले के दक्षिण और दक्षिण-पश्चिमी भाग और बीकानेर जिले के उत्तर और उत्तर-पश्चिमी भागों को कवर करने वाली पांच प्रवाह शाखाएं और एक लिफ्ट नहर है।

चरण II:

स्टेज II पर निर्माण कार्य अभी भी प्रगति पर है, हालांकि इसे 1978 में अपनी मूल योजना के अनुसार पूरा किया जाना था। मौजूदा दरों पर इसकी कीमत रु. 1,420 करोड़। परियोजना के दूसरे चरण में 256 किमी लंबी मुख्य नहर और 4,800 किमी लंबी वितरिकाओं का निर्माण शामिल है। संशोधित योजना के अनुसार इस चरण में व्यापक सिंचाई उपलब्ध होगी।

2. चंबल परियोजना:
यह राजस्थान और मध्य प्रदेश का संयुक्त उपक्रम है। इस परियोजना के तहत गांधी सागर बांध का निर्माण किया गया है। इस बांध से निकाली गई नहरें राजस्थान और मध्य प्रदेश में लगभग 5.15 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती हैं। दूसरे चरण में राणा प्रताप बांध का निर्माण किया गया है जिससे 1.2 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती है। तीसरे चरण में जवाहर सागर बांध का निर्माण किया गया है।

3. गंगा या बीकानेर नहर:
इसे 1928 में हुसैनवाला में सतलुज नदी से निकाला गया था। यह नहर जीवित पंजाब से मरणासन्न मरुस्थल में एक रक्त आधान है। इससे बीकानेर संभाग में लगभग 3.4 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती है। इस नहर प्रणाली की कुल लंबाई 1,280 किमी है।

8. मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़:
असमान सतह, चट्टानी संरचना और सीमित उपजाऊ मिट्टी ने नहरों के निर्माण को प्रोत्साहित नहीं किया है और इन दोनों राज्यों के आकार को ध्यान में रखते हुए नहरों की सिंचाई ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है। हालाँकि, कुछ नहर प्रणालियाँ सामने आई हैं।

नतीजतन, छत्तीसगढ़ में कुल सिंचित क्षेत्र का 68.9 प्रतिशत और मध्य प्रदेश में शुद्ध सिंचित क्षेत्र का 19.49 प्रतिशत नहर सिंचाई के अधीन है। नहर सिंचित क्षेत्र का अधिकांश भाग ग्वालियर, भिंड और मुरैना जिलों में है।

9. उड़ीसा:
नहरों से लगभग 878 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई होती है जो राज्य के कुल सिंचित क्षेत्र का लगभग 25% है। महानदी पर हीराकुंड बांध से निकाली गई नहरें एक प्रमुख सिंचाई नेटवर्क बनाती हैं और बोलनगीर और संबलपुर जिलों में लगभग 2.4 लाख हेक्टेयर में सिंचाई प्रदान करती हैं। महानदी डेल्टा क्षेत्र में 3,650 किमी लंबी नहर प्रणाली कटक और पुरी जिलों में लगभग 4 लाख हेक्टेयर में सिंचाई प्रदान करती है। तलदंडा नहर से महानदी जलग्रहण क्षेत्र में 62 हजार हेक्टेयर की सिंचाई होती है।

10. कर्नाटक:
कर्नाटक में कुल सिंचित क्षेत्र का 36.5 प्रतिशत से अधिक नहरों से सिंचित है। घाटप्रभा नदी पर विकसित घाटप्रभा घाटी योजना सबसे महत्वपूर्ण सिंचाई परियोजना है और बेलगाम और बीजापुर जिलों में लगभग 3.2 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती है। तुंगभद्रा परियोजना की नहरों से बेल्लारी और रायचूर जिलों में लगभग 2.7 लाख हेक्टेयर की सिंचाई होती है।

11. तमिलनाडु:
तमिलनाडु के कुल सिंचित क्षेत्र का लगभग 29 प्रतिशत नहर सिंचाई के अंतर्गत आता है। सबसे महत्वपूर्ण नहर प्रणाली कावेरी डेल्टा में स्थित है जहां 6,400 किमी लंबी नहरें तंजावुर और तिरुचिरापल्ली जिलों में लगभग 4 लाख हेक्टेयर की सिंचाई करती हैं।

12. महाराष्ट्र:
महाराष्ट्र में कुल सिंचित क्षेत्र का 35 प्रतिशत से अधिक नहरों से सिंचित है। 3,000 किमी से अधिक लंबी नहरों से 4 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती है। खड़कवासला में मुथा नदी (भीमा नदी की एक सहायक नदी) के पार मुथा परियोजना के दाहिने किनारे और बाएं किनारे की नहरें पुणे और किरकी को पीने योग्य पानी उपलब्ध कराने के अलावा पुणे जिले में लगभग 45 हजार हेक्टेयर की सिंचाई करती हैं।
नीरा परियोजना की नहरों से पुणे, सतारा और सोलापुर जिलों में 66 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होती है। गोदावरी से निकाली गई दो नहरों एक दराना बांध से नासिक और अहमदनगर जिले में करीब 27 हजार हेक्टेयर की सिंचाई होती है गोदावरी के गंगापुर बांध से निकाली गई नहरों से नासिक जिले में 33 हजार हेक्टेयर की सिंचाई होती है. प्रवर नदी पर भंडारदरा चिनाई बांध से उड़ान। अहमदनगर में बाएँ किनारे और दाएँ किनारे दोनों नहरों से लगभग 34 हजार हेक्टेयर की सिंचाई होती है।

13. गुजरात:
माही परियोजना चरण I और II को खेड़ा और पंचमहल जिलों में 2 लाख हेक्टेयर से अधिक सिंचाई के लिए डिज़ाइन किया गया है, तापी नदी पर उकाई परियोजना की नहरें एक लाख हेक्टेयर से अधिक की सिंचाई करती हैं। गुजरात की अन्य महत्वपूर्ण सिंचाई परियोजनाएं रुद्रमाला, ओजत, दंतीवाड़ा, पनम और कपरापारा हैं।

नहर सिंचाई के गुण:
1. अधिकांश नहरें बारहमासी सिंचाई प्रदान करती हैं और आवश्यकता पड़ने पर पानी की आपूर्ति करती हैं। यह फसलों को सूखे की स्थिति से बचाता है और कृषि उत्पादन को बढ़ाने में मदद करता है।

2. नहरें नदियों द्वारा नीचे लाए गए बहुत सारे तलछट को ले जाती हैं। यह तलछट कृषि क्षेत्रों में जमा हो जाती है जो मिट्टी की उर्वरता में वृद्धि करती है।

3. कुछ नहरें बहुउद्देशीय परियोजनाओं का हिस्सा हैं और इसलिए, सिंचाई का सस्ता स्रोत प्रदान करती हैं।

4. हालांकि नहर सिंचाई में शामिल प्रारंभिक लागत बहुत अधिक है, यह लंबे समय में काफी सस्ता है।

नहर सिंचाई के दोष:
1. नहर का पानी जमीन में समा जाता है और नहर मार्ग में जल-जमाव की समस्या पैदा करता है।

2 खेतों में पानी का अत्यधिक प्रवाह भूजल स्तर को बढ़ाता है। केशिका क्रिया क्षारीय लवणों को सतह पर लाती है और बड़े क्षेत्रों को कृषि के लिए अनुपयुक्त बनाती है। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के विशाल क्षेत्र नहर सिंचाई के कारण होने वाली ‘रेह’ की समस्या से ग्रस्त हैं। महाराष्ट्र की नीरा घाटी में नहरी सिंचाई के कारण मिट्टी में लवणों की अधिक मात्रा के कारण लगभग 36,000 हेक्टेयर भूमि बेकार हो गई है।

3. नहरों के पास दलदली क्षेत्र मच्छरों के प्रजनन स्थल के रूप में कार्य करते हैं जिसके परिणामस्वरूप व्यापक मलेरिया होता है।

4. बरसात के मौसम में कई नहरें ओवरफ्लो हो जाती हैं और आसपास के इलाकों में बाढ़ आ जाती है।

5. नहर सिंचाई केवल मैदानी क्षेत्रों में ही उपयुक्त होती है।

 

Similar Posts

Leave a Reply