Geography | GK | GK MCQ

Roads that link the important cities of various states are referred to as : / विभिन्न राज्यों के महत्वपूर्ण शहरों को जोड़ने वाली सड़कें कहलाती हैं:

Roads that link the important cities of various states are referred to as : / विभिन्न राज्यों के महत्वपूर्ण शहरों को जोड़ने वाली सड़कें कहलाती हैं:

 

(1) State Roads / राज्य सड़कें
(2) National Highways / राष्ट्रीय राजमार्ग
(3) State Highways / राज्य राजमार्ग
(4) Superways / सुपरवे

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 30.07.2006)

Answer / उत्तर : –

(2) National Highways / राष्ट्रीय राजमार्ग

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

The National Highways Network of India, is a network of highways that is managed and maintained by agencies of the Government of India. India has 70,934 km of national highways (NH) connecting all the major cities and state capitals as of August 2011.

Types of indian roads

1- Expressways

Expressways are roads that have a large number of lanes (6,8 or more). Such roads allow high speed vehicles. Its construction and maintenance work is handled by the Ministry of Road Transport and Highways (MORTH).

Examples of expressways in India

  1. Yamuna Expressway – From Greater Noida to Agra
  2. Agra-Lucknow Expressway
  3. Purvanchal Expressway – Lucknow to Ghazipur
  • The first expressway in India, the Delhi-Noida Direct Flyway, connects Delhi and the state of Uttar Pradesh.
  • The Mumbai-Nagpur Expressway has become one of the largest expressways in India.

2- National Highway (NH)

National Highways are those roads which primarily have the status of highways. These main roads connect various states and major cities of India. Apart from this, National Highways also connect the state capitals. The Central Public Works Department (CPWD) is responsible for the construction and maintenance of such roads. The width of a National Highway generally ranges from 7 meters to 15 meters. These roads play a very important role in connecting the network for transportation of passengers and materials. They can carry fast and heavy traffic. National Highways are built, maintained and managed by the National Highways Authority of India (NHAI).

Examples of National Highways in India-

  1. Thane to Chennai Road (NH4)
  2. Agra-Mumbai Road (NH3)
  3. Delhi to Lucknow Road (NH24)
  • The Golden Quadrilateral and the North-South and East-West Corridors are one of the major and currently on-going highway development projects in India.
Identification of National Highways in India

 Yellow stripe:   

indication of roads

Milestone with a yellow stripe on it. The yellow stripe on the milestone represents the National Highway. If you find any similar milestone on and along any road then you will easily understand that at that time you are traveling on National Highway.

The National Highway Network of India is a network of highways that is managed and maintained by agencies of the Government of India. India has 70,934 km of National Highways (NH) connecting all major cities and state capitals as of August 2011.

 

3- State Highway- SH

State Highways are those highways that mainly connect national highways, district locations and major cities in a state. Apart from this, it also connects the surrounding states. Their width varies from 7 meters to 10 meters. Moderate to fast traffic can be carried on these. State highways and national highways have the same design, speed and specifications for road construction. The Public Works Department (PWD) is responsible for the construction and maintenance of these roads.

  • The Indian state of Maharashtra has the largest share of state highways in the country.
Identification of state highways in India

      green stripe : 

indication of roads

Landmark with a green stripe on it. The green bars on the milestones represent the state highways. A sign board placed on a road, on which such a picture or such a landmark on the side shows a State Highway.

4- District Roads

District roads are those roads which mainly connect district councils, district headquarters, small and big cities of a state, as well as state highways and national highways. Their width is generally from 5 meters to 8 meters. The design speed of vehicles on district roads is much less than the design speed on highways. Generally, there is moderate traffic on them. The Zilla Parishad is responsible for the construction and maintenance of district roads and is carried out by the district authority and the city administration. The state government gives grants for the development of district roads in a state.

District roads are classified into two categories-

  1. Major district roads
  2. other district roads

Other district roads also connect to city roads.

Identification of district roads

 black, blue or white stripe :  

indication of road

These colored milestones along a road represent district roads connecting the surrounding districts and city streets and the intracity of that district.

 

 

 

5- Panchayat or Rural Roads

The roads which connect any village to the district roads are called Panchayat or Rural Roads. Such roads are paved, kutcha or mud roads which carry only light traffic. Rural roads mainly connect villages or group of villages to each other for the nearest road of higher grade. These roads play a very important role in the development of the rural area. Rural roads are usually single lane widths of stagnant soil or gravel. The responsibility of building and maintaining these roads rests with the local district authorities.

भारतीय सड़कों के प्रकार  

 1- एक्सप्रेस-वे (Expressways)

 

Types of Indian Roads | भारतीय सड़कों के प्रकार

एक्सप्रेस-वे (Expressways) ऐसी सड़कें हैं जिनमें लेन(lane) यानि पथ की संख्या अधिक होती है (6,8 या उससे अधिक)। ऐसी सड़कें तेज गति वाले वाहनों को अनुमति देती हैं। इनका निर्माण और रखरखाव कार्य सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MORTH) द्वारा संचालित किया जाता है।

भारत में एक्सप्रेस-वे के उदाहरण-

  1. यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway)- ग्रेटर नोएडा से आगरा तक
  2. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे (Agra-Lucknow Expressway)
  3. पूर्वाञ्चल एक्सप्रेसवे (Purvanchal Expressway)- लखनऊ से गाज़ीपुर तक
  • भारत में पहला एक्सप्रेसवे, दिल्ली-नोएडा डायरेक्ट फ़्लाइवे है, जो दिल्ली और उत्तर प्रदेश राज्य को एक दूसरे से जोड़ता है।
  • मुंबई-नागपुर एक्सप्रेसवे भारत के सबसे बड़े एक्सप्रेसवे में से एक बन गया है।
 
2- राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highway- NH)

 

Types of Indian Roads | भारतीय सड़कों के प्रकार

राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highways) वे सड़कें होती हैं जिन्हें मुख्य रूप से राजमार्ग का दर्जा मिला होता है। ये मुख्य सड़कें भारत के विभिन्न राज्यों और मुख्य शहरों को जोड़ती हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग राज्यों की राजधानियों को भी जोड़ते हैं। ऐसी सड़कों के निर्माण और देखभाल का जिम्मा केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (Central Public Works Department- CPWD) पास होता है। एक National Highway की चौड़ाई आमतौर पर 7 मीटर से 15 मीटर तक होती है। ये सड़कें यात्रियों और सामग्रियों के परिवहन के लिए नेटवर्क को जोड़ने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इनपर तेज और भारी यातायात ले जाए जा सकते हैं। राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण, रखरखाव और प्रबंधन भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा किया जाता है।

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों के उदाहरण-

  1. ठाणे से चेन्नई रोड (NH4)
  2. आगरा-मुंबई रोड (NH3)
  3. दिल्ली से लखनऊ रोड (NH24)
  • भारत में प्रमुख और वर्तमान में जारी सबसे बड़ी राजमार्ग विकास परियोजनाओं में से एक स्वर्णिम चतुर्भुज और उत्तर-दक्षिण और पूर्व-पश्चिम गलियारा है।
भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग की पहचान –

    पीली पट्टी (Yellow stripe):   

indication of roads

मील का पत्थर जिसपर पीले रंग की पट्टी होती है। मील के पत्थर (milestone) पर पीली पट्टी राष्ट्रीय राजमार्ग को दर्शाती है। यदि आप किसी सड़क पर और उसके किनारे इसी तरह के किसी मील के पत्थर को पाते हैं तो आप आसानी से समझ जाएंगे कि उस समय आप राष्ट्रीय राजमार्ग पर यात्रा कर रहे हैं।

 

 

3- राज्य राजमार्ग (State Highway- SH)

 

Types of Indian Roads | भारतीय सड़कों के प्रकार

राज्य राजमार्ग (State Highways) वे राजमार्ग हैं जो मुख्य रूप से किसी राज्य में राष्ट्रीय राजमार्गों, जिला स्थानों और प्रमुख शहरों को जोड़ते हैं। इसके अलावा ये आसपास के राज्यों को भी जोड़ती हैं। इनकी चौड़ाई 7 मीटर से 10 मीटर तक होती है। इन पर मध्यम से तेज यातायात ले जाए जा सकते हैं। राज्य राजमार्गों और राष्ट्रीय राजमार्गों की बनावट(design) गति और सड़क निर्माण के लिए विनिर्देश समान होते हैं। इन सड़कों के निर्माण और रख-रखाव की जिम्मेदारी राज्य के लोक निर्माण विभाग (Public Works Department- PWD) की होती है।

  • भारत के महाराष्ट्र राज्य में देश के राज्य राजमार्गों का सबसे बड़ा हिस्सा है।
भारत में राज्य राजमार्ग की पहचान-

    हरी पट्टी (green stripe) : 

indication of roads

मील का पत्थर जिस पर हरे रंग की पट्टी होती है। मील के पत्थर (milestone) पर हरी पट्टी राज्य के राजमार्गों का प्रतिनिधित्व करती है। किसी सड़क पर लगा sign board जिस पर  ऐसा चित्र या किनारे पर लगा ऐसा मील का पत्थर किसी State Highway को दर्शाता है।

 

4- जिला सड़कें (District Roads)

 

Types of Indian Roads | भारतीय सड़कों के प्रकार

जिला सड़क (district roads) वे सड़कें हैं जो मुख्यतः किसी राज्य के जिला परिषदों, जिला मुख्यालयों, छोटे-बड़े शहरों को जोड़ती हैं, साथ ही राज्य राजमार्गों और राष्ट्रीय राजमार्गों से भी जुड़ती हैं। इनकी चौड़ाई सामान्यतः 5 मीटर से 8 मीटर तक होती है। जिला सड़कों पर वाहनों की डिजाइन गति, राजमार्गों पर डिजाइन की गति की तुलना में बहुत कम होती है। आमतौर पर देखा जाय तो इनपर मध्यम यातायात होता है। जिला परिषद के पास जिला सड़कों के निर्माण और रख-रखाव का जिम्मा होता है और इसे जिला प्राधिकरण और नगर प्रशासन द्वारा पूरा किया जाता है। किसी राज्य की जिला सड़कों के विकास के लिए राज्य सरकार अनुदान देती है।

जिला सड़कों को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है-

  1. प्रमुख जिला सड़कें (major district roads)
  2. अन्य जिला सड़कें (other district roads)

अन्य जिला सड़कें भी शहर की सड़कों से जुड़ती हैं।

जिला सड़कों की पहचान-

  काली, नीली या सफेद पट्टी (black, blue or white stripe) :  

indication of road

किसी रोड के किनारे इन रंगों के मील पत्थर (milestones) आसपास के जिलों को जोड़ने वाली जिला सड़कों और शहर की सड़कों और उस जिले की intracity को दर्शाते हैं।

 

 

5- पंचायत या ग्रामीण सड़कें (Rural Roads)

 

Types of Indian Roads | भारतीय सड़कों के प्रकार

वे सड़कें जो किसी भी गाँव को ज़िले की सड़कों से जोड़ती हैं, पंचायत या ग्रामीण सड़कें (Rural Roads) कहलाती हैं। ऐसी सड़कें पक्की, कच्ची या मिट्टी की सड़कें होती हैं जो केवल हल्का यातायात करती हैं। Rural Roads मुख्य रूप से गाँवों या गाँवों के समूह को उच्च श्रेणी की निकटतम सड़क के लिए एक दूसरे से जोड़ती हैं।  ग्रामीण क्षेत्र के विकास में ये सड़कें बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। ग्रामीण सड़कें आमतौर पर स्थिर मिट्टी या बजरी की single lane चौड़ाई वाली होती हैं। इन सड़कों के निर्माण और रखरखाव की जिम्मेदारी स्थानीय जिला अधिकारियों के पास होती है।

Similar Posts

Leave a Reply