Geography | GK | GK MCQ

The iron and steel industries at Bhilai, Durgapur and Rourkela were set up during the / भिलाई, दुर्गापुर और राउरकेला में लौह और इस्पात उद्योग किसके दौरान स्थापित किए गए थे?

The iron and steel industries at Bhilai, Durgapur and Rourkela were set up during the / भिलाई, दुर्गापुर और राउरकेला में लौह और इस्पात उद्योग किसके दौरान स्थापित किए गए थे?

 

(1) II Five Year Plan /  II पंचवर्षीय योजना
(2) I Five Year Plan / I पंचवर्षीय योजना
(3) III Five Year Plan / III  पंचवर्षीय योजना
(4) IV Five Year Plan / IV पंचवर्षीय योजना

(SSC Combined Matric Level (PRE) Exam. 05.05.2002)

Answer / उत्तर : –

(2) I Five Year Plan / I पंचवर्षीय योजना

 

Iron And Steel Industry In India - UPSC

 

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

The second five-year plan focused on industry, especially heavy industry. Unlike the First plan, which focused mainly on agriculture, domestic production of industrial products was encouraged in the Second plan, particularly in the development of the public sector. Hydroelectric power projects and five steel mills at Bhilai, Durgapur, and Rourkela were established.

First Five Year Plan |

When was the first five year plan implemented in India: The first five year plan ran from 1 April 1951 to 31 March 1956. Which was based on the Herrad-Domar model.

  • The Chairman of the Planning Commission was the then Prime Minister Pandit Jawaharlal Nehru.
  • In the first plan itself, schemes like Bhakra Nagal, Damodar Ghati and Hirakud were started.
  • Priority was given to agricultural development.

Target : 2.1%
Receipt : 3.6%

Second five year plan

The second five year plan was based on the JPC Mahalanobis model, which ran from 1 April 1956 to 31 March 1961.

  • The Chairman of the Planning Commission was the then Prime Minister Pandit Jawaharlal Nehru.
  • Raulkela, Bhilai, Durgapur steel plants were established in the second plan itself.
  • Industrial development was given priority in this plan.

Target : 4.5%
Receipt : 4.2%

Third Five Year Plan |

Third five year plan was applicable from 1st April 1961 to 31st March 1966.

  • The Chairman of the Planning Commission was the then Prime Minister Pandit Jawaharlal Nehru.
  • Green revolution started.
  • Self-reliance, agriculture and industrial development were given priority in this five year.

Target : 5.6%
Receipt : 2.8%

This plan was unsuccessful due to which some of the reasons are as follows –

Indo-China War (1962), Indo-Pak War (1965), Drought (1965-66)

Fourth Five Year Plan |

Fourth five year plan lasted from 1 April 1969 to 31 March 1974. The draft of this plan was given by the then Deputy Chairman of the Planning Commission, D.R. Gadgil prepared.

  • The Chairman of the Planning Commission was the then Prime Minister Indira Gandhi.
  • The basic objective of the Fourth Plan was “economic development with stability and attainment of self-reliance”.
  • During this 14 banks were nationalised.
  • ISRO was formed.

Target : 5.7%
Receipt : 3.4%

This plan also failed.

Fifth Five Year Plan |

Fifth five year plan lasted from 1st April 1974 to 31st March 1978 only.

  • The Chairman of the Planning Commission was the then Prime Minister Indira Gandhi.
  • The objective of this scheme was poverty alleviation and attainment of self-reliance.
  • This plan was terminated by the Janata Party government a year ahead of time and the rolling plan was implemented which lasted from 1978-1980. It was propounded by Gunar Mirdal and the credit of implementing it in India goes to DT Lakdawala.

Target : 4.4%
Receipt : 4.5%

Sixth Five Year Plan |

The Sixth Five Year Plan lasted from 1980 to 1985.

  • Poverty alleviation, economic development, modernization, self-reliance and social justice were the main objectives of the plan.
  • Programs related to eradication of rural unemployment IRDP, NREP, TRYSEM, DWACRA, RLEGP were implemented in this scheme.

Target : 5.2%
Achievement : 5.7%

Seventh Five Year Plan |

The Seventh Five Year Plan was implemented from 1985 to 1990.

  • The goal of this plan was to establish a social system by increasing the production of food grains, increasing employment opportunities, modernization, self-reliance and incorporating the basic concepts of social justice.
  • In addition to the already ongoing programs to remove unemployment and poverty, special programs like Jawahar Rozgar Yojana were started.
  • The slogan “Food, Work and Produce” was given in this plan.

Target: 5%
Receipt : 6%

Eighth Five Year Plan |

The Eighth Five Year Plan lasted from 1992 to 1997.

  • It was based on the John W Miller model resulting in a liberalized economy.
  • The goal of this plan was human resource development.
  • The Pradhan Mantri Rozgar Yojana was started during this five year plan.
  • It was at the time of this plan that LPG Reforms (Liberalisation, Privatisation and Globalization) had come.

Target: 5.6%
Realization: 6.8%

Ninth Five Year Plan |

It lasted from 1997 to 2000.

  • The objective of this scheme was to develop with equitable distribution and equality along with human development.
  • It emphasized on seven basic minimum services.
  • These services included clean drinking water, primary health, primary education, home, nutritious food for children, roads to villages and settlements, improving public distribution system for the poor.

Target: 6.5%
Realization: 5.5%

Tenth Five Year Plan |

It lasted from 2002 to 2007.

  • The scheme was based on the Comprehensive Input Output Model.
  • Target to create 1 crore jobs per year.
  • Doubling per capita income.
  • In the 10th plan, the most emphasis was given to agricultural development.

Target: 8%
Achievement: 7.7%

Eleventh Five Year Plan |

The 11th Five Year Plan lasted from 2007 to 2012. The plan was based on a comprehensive strategy of faster and more inclusive growth.

Target: 9%
Realization: 7.9%

Twelfth Five Year Plan |

The goal of the 12th Five Year Plan was rapid sustainable and more inclusive growth.

  • This scheme was to run from 2012 to 2017. But in 2014, the Planning Commission was closed and the NITI Aayog was started from 2015.
  • 90% of the households were targeted to have access to banking facilities.

Target: 8%

दूसरी पंचवर्षीय योजना उद्योग, विशेष रूप से भारी उद्योग पर केंद्रित थी। पहली योजना के विपरीत, जो मुख्य रूप से कृषि पर केंद्रित थी, दूसरी योजना में औद्योगिक उत्पादों के घरेलू उत्पादन को विशेष रूप से सार्वजनिक क्षेत्र के विकास में प्रोत्साहित किया गया था। भिलाई, दुर्गापुर और राउरकेला में हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट और पांच स्टील मिलों की स्थापना की गई।

पहली पंचवर्षीय योजना | 

भारत में प्रथम पंचवर्षीय योजना कब लागु हुई : First five year plan 1 अप्रैल 1951 से 31 मार्च 1956 तक चला| जो हेराड-डोमर मॉडल पर आधारित था।

  • योजना आयोग के अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू थे।
  • प्रथम योजना में ही भाखड़ा नागल , दामोदर घाटी एवं हीराकुंड जैसी योजनाएं चालू की गयी।
  • कृषि विकास को प्राथमिकता दी गयी।

लक्ष्य : 2.1 %
प्राप्ति : 3.6 %

दूसरी पंचवर्षीय योजना  

Second five year plan 1 अप्रैल 1956 से 31 मार्च 1961 तक चली जो पी. सी. महालनोबिस मॉडल पर आधारित थी।

  • योजना आयोग के अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू थे।
  • द्वितीय योजना में ही राउलकेला , भिलाई , दुर्गापुर इस्पात सयंत्र की स्थापना हुई।
  • इस योजना में औद्योगिक विकास को प्राथमिकता दी गयी।

लक्ष्य : 4.5 %
प्राप्ति : 4.2 %

तीसरी पंचवर्षीय योजना |  

Third five year plan 1 अप्रैल 1961 से 31 मार्च 1966 तक लागू रही।

  • योजना आयोग के अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू थे।
  • हरित क्रांति की शुरुआत हुई।
  • इस पंचवर्षीय में आत्मनिर्भरता , कृषि एवं औद्योगिक विकास को प्राथमिकता गई गई।

लक्ष्य : 5.6 %
प्राप्ति : 2.8 %

यह योजना असफल रही जिसके कुछ कारण निम्नलिखित है –

भारत चीन युद्ध (1962) , भारत पाक युद्ध (1965) , सूखा (1965-66)

चौथी योजना |  

Fourth five year plan 1 अप्रैल 1969 से 31 मार्च 1974 तक चली। इस योजना का प्रारूप तत्कालीन योजना आयोग के उपाध्यक्ष डी. आर. गाडगिल ने तैयार किया।

  • योजना आयोग की अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी थी।
  • चौथी योजना का मूल उद्देश्य “स्थिरता के साथ आर्थिक विकास और आत्मनिर्भरता की प्राप्ति ” था।
  • इस दौरान 14 बैंको कोराष्ट्रीकृत किया गया।
  • इसरो का गठन किया गया।

लक्ष्य : 5.7 %
प्राप्ति : 3.4 %

यह योजना भी असफल रही।

पांचवी पंचवर्षीय योजना |  

Fifth five year plan 1 अप्रैल 1974 से 31 मार्च 1978 तक ही चली।

  • योजना आयोग की अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी थी।
  • इस योजना का उद्देश्य गरीबी निवारण एवं आत्मनिर्भरता की प्राप्ति था।
  • इस योजना को जनता पार्टी की सरकार ने समय से एक वर्ष पूर्व ही समाप्त कर दिया और Rolling plan लागू किया जो 1978-1980 तक चला। इसका प्रतिपादन गुनार मिर्डाल ने किया तथा इसे भारत में लागू करने का श्रेय डी. टी. लकड़ावाला को है।

लक्ष्य : 4.4 %
प्राप्ति : 4.5 %

छठी योजना |  

छठी पंचवर्षीय योजना 1980 से 1985 तक चली|

  • गरीबी निवारण, आर्थिक विकास, आधुनिकीकरण, आत्मनिर्भरता तथा सामाजिक न्याय, योजना के प्रमुख उद्देश्य थे|
  • ग्रामीण बेरोजगारी के उन्मूलन से सम्बंधित कार्यक्रम IRDP, NREP, TRYSEM, DWACRA, RLEGP इसी योजना में लागु किये गए|

लक्ष्य : 5.2% 
प्राप्ति : 5.7%

सातवीं पंचवर्षीय योजना |  

सातवीं पंचवर्षीय योजना 1985 से 1990 के बिच लागु की गई|

  • इस योजना का लक्ष्य अनाजों के उत्पादन में वृद्धि, रोजगार के अवसरों में वृद्धि, आधुनिकीकरण, आत्मनिर्भरता और सामाजिक न्याय की मूलभूत अवधारणा को समाहित करते हुए सामाजिक प्रणाली की स्थापना करना था|
  • बेरोजगारी और गरीबी दूर करने के लिए पहले से चल रहे कार्यक्रमों के अलावा जवाहर रोजगार योजना जैसे विशेष कार्यक्रम शुरू किये गए|
  • इस योजना में “भोजन, काम और उत्पादन” नारा दिया गया था|

लक्ष्य: 5%
प्राप्ति : 6 %

आठवीं योजना |  

आठवीं पंचवर्षीय योजना 1992 से 1997 तक चली|

  • यह उदारीकृत अर्थव्यवस्था के रूप में परिणित जॉन डब्ल्यू मिलर मॉडल पर आधारित थी|
  • इस योजना का लक्ष्य मानव संशाधन विकास था|
  • इसी पंचवर्षीय योजना के दौरान प्रधानमंत्री रोजगार योजना की शुरुआत हुई थी। 
  • इसी योजना के वक़्त ही LPG Reforms (Liberalisation, Privatisation and Globalisation) आये गये थे।

लक्ष्य: 5.6%
प्राप्ति: 6.8%

नौवीं योजना |  

यह 1997 से 2000 तक चली|

  • इस योजना का उद्देश्य मानव विकास के साथ-साथ न्यायपूर्ण वितरण और समानता के साथ विकास करना था|
  • इसमें सात बुनियादी न्यूनतम सेवाओं पर बल दिया गया था|
  • इन सेवाओं में शुद्ध पेयजल, प्राथमिक स्वास्थ्य, प्राथमिक शिक्षा, घर, बच्चों के लिए पोषक आहार,गावों तथा बस्तियों तक सड़क,गरीबों के लिए सार्वजनिक वितरण व्यवस्था बेहतर करना शामिल था|

लक्ष्य: 6.5%
प्राप्ति: 5.5%

दसवीं पंचवर्षीय योजना |  

यह 2002 से 2007 तक चली|

  • यह योजना व्यापक इनपुट आउटपुट मॉडल पर आधारित थी|
  • प्रति वर्ष 1 करोड़ रोजगारों का सृजन करने का लक्ष्य|
  • प्रति व्यक्ति आय को दुगना करना।
  • 10 योजना में सर्वाधिक बल कृषि विकास को दिया गया था|

लक्ष्य: 8%
प्राप्ति: 7.7%

ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना |  

11वीं पंचवर्षीय योजना 2007 से 2012 तक चली| यह योजना तीव्र एवं अधिक समावेशी विकास की एक व्यापक रणनीति पर आधारित थी|

लक्ष्य: 9%
प्राप्ति: 7.9%

बारहवीं पंचवर्षीय योजना |  

12वीं पंचवर्षीय योजना लक्ष्य था तीव्र धारणीय और अधिक समावेशी विकास|

  • यह योजना 2012 से 2017 तक चलनी थी। परन्तु  2014 में योजना आयोग को बंद करके 2015 से नीति आयोग शुरू किया गया।
  • 90% परिवारों को बैंकिंग सुविधाओं तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया था|

लक्ष्य: 8%

Similar Posts

Leave a Reply