Geography | GK | GK MCQ

The spice -garden of India is : / भारत का मसाला उद्यान है :

The spice -garden of India is : / भारत का मसाला उद्यान है :

 

(1) Himachal Pradesh / हिमाचल प्रदेश
(2) Karnataka / कर्नाटक
(3) Kerala / केरल
(4) Assam / असम

(SSC (10+2) Level Data Entry Operator & LDC Exam. 21.10.2012)

Answer / उत्तर : –

(3) Kerala / केरल

किसानों को मिले 12 हजार करोड़ रुपए, पीएम मोदी ने जारी की PM-Kisan की तीसरी किस्त | Zee Business Hindi

Explanation / व्याख्यात्मक विवरण :-

Kerala is referred to as the spice-garden of India.

Production of spices

India is the largest producer, consumer and exporter of spices and spice products in the world. The annual production of spices in the country is 4.14 million tonnes. India grows abundant varieties of masalas like black pepper, chilli, ginger, cardamom, turmeric etc.

Cultivation of Spices and Contribution of Indian Agricultural Research

Spice research in the country had a modest beginning in 1975 with the establishment of the Central Plantation Crop Research Institute in the spice city of Calicut by the Indian Council of Agricultural Research. Research in spices got a boost in 1975 when ICAR established the only and only Indian Institute of Spices Research. The institute is set up in an area of ​​14.3 hectares at Chevalur, 11 km from Calicut city. IISR’s experimental agricultural farm is located at Peruvannabhuzhi, 51 km from Calicut. The research farm is spread over 94.8 hectares of land on lease, which is involved in plantation and conservation of various varieties of spices.

IISR is also the headquarters of the largest spice research network on spices in the country, the All India Coordinated Research Projects. Black pepper, cardamom, ginger, turmeric, clove, cinnamon, Jamaican round pepper, banana and capsicum are grown in this institute. IISR has the largest reserve of spices, consisting of 2575 varieties of black pepper, 435 varieties of cardamom, 685 varieties of ginger and 1040 varieties of turmeric. Apart from this, the Institute has storage of genes of Banila, Capsicum and other plant species like Cinnamon, Clove, Nutmeg and Daru-Silla.

The Institute’s significant contribution to spice research is the development of high yielding spice varieties, which are resistant to drought, pests and diseases. The Institute has also developed various technologies for sustainable production of spices.

Varieties of Spices Released by IISR

The Institute’s significant contribution to spice research is high yielding varieties that are not affected by drought, pests and diseases.

Eight varieties of black pepper have been released by the institute. Srikara Shubhkara, Panchatri and Poornima have reached the farmers’ fields. The fresh varieties are IISR Thevam, IISR Malavar Excel, IISR Girimunda and IISR Shakti.
IISR Vijeta-1, IISR Avinash, IISR Kodagu Suvasini are cardamom varieties developed by IISR Cardamom Research Center (CRC), Appangala, Kodagu (Karnataka).
Ginger varieties IISR Varda, IISR Rejatha, IISR Mahima are useful for ginger growing areas of the country.

So far eight varieties of high quality turmeric have been released by the institute. Suguna, Sudarshan, Prabha, Pratibha and IISR Alleppey Supreme are known for their qualities. IISR Vishwashree bushy variety of nutmeg is suitable for all regions in South India. Another variety of nutmeg, Keralashree has been released recently. The two important varieties of cinnamon of IISR are Navashree and Nityashree.

Major Spices in India

Black pepper:

 

The World's Top Black Pepper Producing Countries - WorldAtlas

It is probably the most important of the spices. It is cultivated in humid tropical regions. Clay loam soil is considered suitable for the production of black pepper. Areas having annual rainfall of 2,500 mm. and the temperature ranges from about 10°C to 40°C, it is cultivated there. The slopes of the Western Ghats, where red and laterite soils are found, are also suitable sites for the production of black pepper. In India, black pepper is produced mainly in Kerala, Karnataka and Tamil Nadu. Agriculture is concentrated in Kannur, Kottayam, Thiruvananthapuram, Kollam, Kozhikode and Ernakulam in Kerala. North and Dakshina Kannada, Shimoga, Chikmagalur and Hassan districts of Karnataka and Kanyakumari and Nilgiri districts in Tamil Nadu are the main producers.

Chilly:

 

Dry Red Chilli at Rs 58/kilogram | Dry Red Chilli | ID: 13737584348

It is a legume of small plants, which is produced in tropical regions of Asia and America. Ripe dry chilies are called red chilies. Chillies in India came from Brazil in the 17th century. Rainfall between 600 to 1,250 mm and temperature between 10 ° C to 30 ° C are very suitable for the production of chilli. Heavy rains and frost are harmful to the crop. Chilli is grown mainly in black loamy soils and occasionally in heavy clay loam soils.

If there is proper arrangement of irrigation, it is also produced in sandy, light trembling loam soil and red loam soil. Chilli is cultivated in almost all the states of India except some areas. But the main producers among them are Tamil Nadu, Andhra Pradesh and Maharashtra. Other producing regions are Rajasthan, Bihar, Odisha and Uttar Pradesh.

Cinnamon :

 

Is Cinnamon Poisoning Possible, as a TikToker Claims? | Everyday Health

It is made by drying the inner bark of the tree. Cinnamon is produced in India in the states of Kerala and Karnataka.

Cloves:

 

Eat 2 cloves with warm water before sleeping at night, know health benefits | Eat News – India TV

It is the dried bud of the flower of the clove tree. It is also produced in South-East Asian countries. Karnataka is the major producer of cloves in India.

Cardamom:

 

My Village Green Cardamom, Premium Quality / Cleaned Whole Elaichi / 7mm Bolt (50g) : Amazon.in: Grocery & Gourmet Foods

It is known as the ‘Queen of Spices’. It is mainly used to enhance the taste of food or for medicinal and chewing purposes. Its seeds contain a very fragrant oil. Cardamom is best cultivated in tropical forests at an altitude of 600 to 1,500 meters. Cardamom is cultivated in areas where the correct distribution of rainfall is more than 1,500 mm and the temperature ranges from 10 °C to 35 °C. Planting its plants in the shade of a wild plant makes it grow very quickly. The soil suitable for its crop is loamy and red soil and red, deep and good quality laterite soil. India is the largest producer and exporter of cardamom. This spice is mainly produced in the states of Kerala, Karnataka and Tamil Nadu.

Ginger:

 

Ginger : Benefits, Precautions and Dosage | 1mg

It is an aromatic root found under the earth. It is used as a spice as well as medicine. Ginger is believed to have originated in China. Its cultivation requires high temperatures and excessive rainfall (1,250–2,500 mm). Providing some amount of shade is favorable for the growth of the plant. Dry land is considered best for ginger cultivation. The sandy and clay loam, red loam and laterite soils found on the Malabar Coast are ideal soils for its production. India is the largest producer of dry ginger. Kerala and Meghalaya are the major producing states in India. Kerala alone contributes 70 percent of the total production of ginger. Himachal Pradesh, Madhya Pradesh, Maharashtra, Karnataka, Uttar Pradesh, West Bengal and Odisha are the other ginger producing states.

Turmeric:

 

Turmeric Health Benefits: Surprising health benefits of turmeric you should know about

This is also a type of root found under the earth, whose origin is considered to be India or China. It is an important spice and useful colour. It is also used in the manufacture of medicine and in the cosmetics industry. Hot and humid weather is essential for the cultivation of turmeric. In the areas of heavy rainfall on the eastern coast, its crop grows without irrigation, whereas in other areas cultivation is possible only after irrigation. Fertile sandy and smooth, black and red alluvial, loamy soils are useful for its cultivation.

Natural drain and irrigation facility is the best solution for thick loamy soil. Its production is impossible in fast and alkaline water flow. Andhra Pradesh and Tamil Nadu are the main contributors to the production of turmeric. Other major producing states in India are Bihar, Odisha, Maharashtra, Meghalaya and Uttar Pradesh.

केरल को भारत का मसाला उद्यान कहा जाता है।

मसालों का उत्पादन

भारत मसालों और मसाला उत्पादों के मामले में दुनिया में सबसे बड़ा उत्पादक, उपभोक्ता और निर्यातक है। देश में मसालों का वार्षिक उत्पादन 4.14 मिलियन टन है। भारत काली मिर्च, मिर्च, अदरख, इलायची, हल्दी आदि जैसे महलों की प्रचुर किस्में उगता है।

देश  उत्पादन
उत्पादन (टन में) उत्पादन उत्पादन (टन में) उत्पादन
भारत       16,00,000      86 %            16,00,000      86 %
चीन        66,000      4 %             66,000       4 %
बांग्लादेश       48,000      3 %             48,000       3 %
पाकिस्तान       45,300      2 %             45,300       2 %
तुर्की       33,000      2 %             33,000       2 %
नेपाल       15,500      1 %             15,500       1 %
अन्य देश       60,900      3 %             60,910       3 %
कुल   18,68,700   100 %         18,68,710     100 %

 

मसालों की खेती और भारतीय कृषि अनुसंधान का योगदान

देश में मसाला अनुसंधान की मामूली शुरूआत 1975 में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् द्वारा मसालों के शहर कालीकट में केन्‍द्रीय रोपण फसल अनुसंधान संस्‍थान की स्थापना के साथ हुई। 1975 में ही मसालों के अनुसंधान को उस समय बल मिला जब आईसीएआर ने अकेली और एकमात्र भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान की स्थापना की। यह संस्थान कालीकट शहर से 11 किलोमीटर दूर चेवालूर में 14.3 हेक्टेयर क्षेत्र में स्थापित किया गया है। आईआईएसआर का प्रयोगात्मक कृषि फार्म कालीकट से 51 किलोमीटर दूर पेरूवन्नाभुझी में है। अनुसंधान फार्म पट्टे पर 94.8 हेक्टेयर जमीन में है, जिसमें मसालों की विविध किस्मों के पौध रोपण और संरक्षण का कार्य होता है।

आईआईएसआर देश में मसालों पर सबसे बड़े मसाला अनुसंधान नेटवर्क, अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजनाओं का मुख्यालय भी है। इस संस्थान में काली मिर्च, इलायजी, अदरक, हल्दी, लौंग, दालचीनी, जमैका की गोल मिर्च, बनिला और शिमला मिर्च की फसलें उगाई जाती है। आईआईएसआर में मसालों का सबसे बड़ा सुरक्षित भंडार है, जिसमें 2575 किस्म की काली मिर्च, 435 किस्म की इलायची, 685 अदरक और 1040 हल्दी की किस्में है। इसके अलावा संस्थान में बनिला, शिमला मिर्च और अऩ्य पौध प्रजातियां जैसे दालचीनी, लौंग, जायफल और दारू-सिला के जीन का भंडारण है।

मसाला अनुसंधान में संस्थान का महत्वपूर्ण योगदान उच्च उत्पादकता वाली मसाला की किस्मों का विकास है, जिन पर सूखे, कीटों और बीमारियों का असर नहीं होता। संस्थान ने मसालों के सतत् उत्पादन के लिए विभिन्न प्रौद्योगिकियों का भी विकास किया है।

आईआईएसआर द्वारी जारी मसालों की किस्में

मसाला अनुसंधान में संस्थान का महत्वपूर्ण योगदान ऊंची पैदावार देनेवाली किस्में हैं, जिन पर सूखा, कीटों और बीमारियों का असर नहीं होता।

  • काली मिर्च की आठ किस्में संस्थान ने जारी की है। श्रीकारा शुभकारा, पंचत्री और पूर्णिमा किसानों के खेतों में पहुंच गई हैं। ताजा किस्मों में आईआईएसआर थेवम, आईआईएसआर मालावार एक्सेल, आईआईएसआर गिरिमुंडा और आईआईएसआर शक्ति हैं।
  • आईआईएसआर विजेता-1, आईआईएसआर अविनाश, आईआईएसआर कोडागू सुवासिनी इलायची की किस्में हैं जिनका विकास आईआईएसआर के इलायची अनुसंधान केंद्र (सीआरसी) अप्पांगला, कोडागू (कर्नाटक) द्वारा किया गया है।
  • अदरक की किस्में आईआईएसआर वारदा, आईआईएसआर रेजाथा, आईआईएसआर महिमा देश के अदरक उत्पादन क्षेत्रों के लिए उपयोगी है।

संस्थान द्वारा उच्च गुणवत्ता वाली हल्दी की आठ किस्में अब तक जारी की जा चुकी हैं। सुगुना, सुदर्शन, प्रभा, प्रतिभा और आईआईएसआर अलेप्पी सुप्रीम अपने गुणों के कारण जानी जाती हैं। आईआईएसआर विश्वश्री जायफल की झाड़ीदार किस्म दक्षिण भारत में सभी क्षेत्रों के लिए उपयुक्त हैं। जायफल की एक अन्य किस्म केरलश्री हाल ही में जारी की गई है। आईआईएसआर की दालचीनी की दो महत्वपूर्ण किस्में नवश्री और नित्यश्री हैं।

भारत में प्रमुख मसाले

काली मिर्च:  

यह मसालों में संभवतः सबसे महत्वपूर्ण होती है। आर्द्र उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में इसकी खेती की जाती है। काली मिर्च के उत्पादन के लिए चिकनी दोमट मिट्टी को उपयुक्त समझा जाता है। जिन क्षेत्रों की वार्षिक वर्षा 2,500 मि.मी. हो तथा तापमान लगभग 10°C से 40°C तक हो, वहां इसकी खेती की जाती है। पश्चिमी घाट के ढाल, जहां लाल और लैटेराइट मिट्टी पाई जाती है, भी काली मिर्च के उत्पादन हेतु उपयुक्त स्थल है। भारत में काली मिर्च का उत्पादन मुख्यतः केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु में होता है। केरल के कन्नूर, कोट्टायम, तिरुवनंतपुरम्, कोल्लम, कोझीकोड और एर्णाकुलम में खेती संकेन्द्रित है। कर्नाटक के उत्तरी और दक्षिणी कन्नड़, शिमोगा,  चिकमंगलूर और हसन जिले एवं कन्याकुमारी तथा तमिलनाडु में नीलगिरि जिले मुख्य उत्पादक हैं।

मिर्च:  

यह छोटे पौधों की एक फली है, जिसका उत्पादन एशिया और अमेरिका के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में होता है। पकी हुई सूखी मिर्च को लाल मिर्च कहा जाता है। भारत में मिर्च 17वीं शताब्दी में ब्राजील से आई। 600 से लेकर 1,250 मिलीमीटर के बीच वर्षा तथा 10°C से 30°C के बीच तापमान मिर्च के उत्पादन के लिए अत्यंत उपयुक्त है। भारी वर्षा और पाला फसल के लिए हानिकारक होता है। मिर्च का उत्पादन मुख्य रूप से काली कपासी मिट्टी में होता है और कहीं-कहीं भारी चिकनी दोमट मिट्टी में भी होता है।

सिंचाई का समुचित प्रबंध होने पर इसका उत्पादन बलुई, हल्की कांप दोमट मिट्टी तथा लाल दोमट मिट्टी में भी होता है। कुछ क्षेत्रों को छोड़कर भारत के लगभग सभी प्रदेशों में मिर्च की खेती की जाती है। परंतु उनमें से मुख्य उत्पादनकर्ता हैं- तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र। अन्य उत्पादक क्षेत्रों में राजस्थान, बिहार, ओडीशा और उत्तर प्रदेश प्रमुख हैं।

दालचीनी :

इसे पेड़ की भीतरी छालों को सुखाकर बनाया जाता है। भारत में दालचीनी का उत्पादन केरल और कर्नाटक राज्यों में होता है।

लौंग: 

यह लौंग के वृक्ष के फूल की सूखी कली होती है। दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों में भी इसका उत्पादन होता है। भारत में कर्नाटक लौंग का प्रमुख उत्पादक राज्य है।

इलायची: 

इसे मसालों की रानी के नाम से जाना जाता है। इसका प्रयोग मुख्य रूप से खाने का स्वाद बढ़ाने या औषधीय और चबाने के उद्देश्य से किया जाता है। इसके बीजों में बेहद सुगंधित तेल होता है। इलायची की उत्तम खेती 600 से 1,500 मीटर की ऊंचाई पर उष्णकटिबंधीय जंगलों में होती है। इलायची की खेती उन क्षेत्रों में होती है, जहां वर्षा का सही वितरण 1,500 मिलीमीटर से अधिक हो तथा तापमान 10°C से 35 °C तक हो। जंगली पौधे की छाया में इसके पौधों को लगाने से इसमें बहुत जल्दी वृद्धि होती है। इसकी फसल के लिए उपयुक्त मिट्टी है- दोमट और लाल मिट्टी तथा लाल, गहरी और अच्छी किस्म की लैटेराइट मिट्टी। भारत इलायची का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक देश है। इस मसाले का उत्पादन मुख्य रूप से केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों में होता है।

अदरक: 

यह धरती के नीचे पायी जाने वाली एक सुगंधित जड़ है। इसका उपयोग मसाले के साथ-साथ दवा के रूप में भी होता है। ऐसा माना जाता है कि अदरक की उत्पत्ति चीन में हुई थी। इसकी खेती के लिए उच्च तापमान और अत्यधिक वर्षा (1,250-2,500 मिलीमीटर) का होना आवश्यक होता है। पौधे में वृद्धि के लिए कुछ मात्रा में इन्हें छाया प्रदान करना अनुकूल होता है। अदरक की खेती के लिए सूखी भूमि अति उत्तम मानी जाती है। मालाबार तट पर पाई जाने वाली बलुई और चिकनी दोमट, लाल दोमट तथा लेटेराइट मिट्टी इसके उत्पादन के लिए आदर्श मिट्टियां हैं। भारत सूखी अदरक का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। भारत में केरल और मेघालय इसके प्रमुख उत्पादक राज्य हैं। अदरक के कुल उत्पादन में अकेले केरल का 70 प्रतिशत योगदान है। हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडीशा अदरक के अन्य उत्पादक राज्य हैं।

हल्दी: 

यह भी धरती के नीचे पायी जाने वाली एक प्रकार की जड़ है, जिसका उत्पत्ति स्थल भारत या चीन को माना जाता है। यह एक महत्वपूर्ण मसाला और उपयोगी रंग है। साथ ही इसका उपयोग दवा के निर्माण तथा सौंदर्य प्रसाधन उद्योग में भी किया जाता है। हल्दी की फसल के लिए मौसम का उष्ण और आर्द्र होना अत्यावश्यक होता है। पूर्वी तट के भारी वर्षा वाले क्षेत्रों में इसकी फसल में वृद्धि बिना सिंचाई के हो जाती है जबकि अन्य क्षेत्रों में सिंचाई के बाद ही खेती संभव होती है। इसकी खेती के लिए उपजाऊ बलुई और चिकनी, काली और लाल जलोढ़, दोमट मिट्टी उपयोगी होती है।

मोटी दोमट मिट्टी के लिए प्राकृतिक नाला और सिंचाई सुविधा सर्वोत्तम उपाय है। इसकी उपज तीव्र और क्षारीय जल-प्रवाह में असंभव होती है। हल्दी के उत्पादन में मुख्य योगदान आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु का है। भारत में इसके अन्य प्रमुख उत्पादक राज्य हैं- बिहार, ओडीशा, महाराष्ट्र, मेघालय और उत्तर प्रदेश।

Similar Posts

Leave a Reply